बिज़नेस न्यूज़ » Economy » Taxationरिफंड क्लेम में हेराफेरी पर फंसे इन्फोसिस, वोडा, IBM के इम्प्लॉई; टैक्स डिपार्टमेंट का खुलासा

रिफंड क्लेम में हेराफेरी पर फंसे इन्फोसिस, वोडा, IBM के इम्प्लॉई; टैक्स डिपार्टमेंट का खुलासा

आईबीएम, वोडाफोन, इन्फोसिस जैसी कंपनियों के कर्मचारियों के टैक्स रिफंड में हेराफेरी करने के बड़े मामले का खुलासा हुआ है।

1 of

नई दिल्ली. आईबीएम, वोडाफोन और इन्फोसिस जैसी कंपनियों के कर्मचारियों के टैक्स रिफंड में हेराफेरी करने के एक बड़े मामले का खुलासा हुआ है। इनकम टैक्स डिपार्टमेंट ने दावा किया कि यह पूरी धांधली बेंगलुरू में चार्टर्ड अकाउंटैंट (सीए) की सहमति से की गई।

 

 

छापेमारी में फर्जी दस्तावेज बरामद

डिपार्टमेंट की इन्वेस्टिगेशन विंग ने बुधवार को ही एक अज्ञात सीए के परिसरों पर छापेमारी की। इनकम टैक्स डिपार्टमेंट ने दावा किया कि छापेमारी में वाट्सऐप चैट मैसेजेस के साथ ही सीए के कई क्लाइंट्स के फर्जी दस्तावेज भी बरामद हुए हैं।

डिपार्टमेंट ने कहा कि सीए को हाउस प्रॉपर्टी से हुए नुकसान को बढ़ा-चढ़ाकर दिखाने या झूठे दावे द्वारा 'इनकम टैक्स रिटर्न फाइलिंग और फर्जी रिफंड क्लेम करने में सहयोगी माना गया।'

 

 

फाइल किए 1 हजार रिटर्न, 18 करोड़ के क्लेम

डिपार्टमेंट ने दावा किया कि सीए ने अभी तक 'हाउस प्रॉपर्टी से लॉस के करीब 1,000 रिटर्न फाइल किए, जिनके माध्यम से 18 करोड़ रुपए का लॉस क्लेम किया गया।'

डिपार्टमेंट के रडार पर 50 से ज्यादा कर्मचारियों वाली प्रमुख और मीडियम साइज की कंपनियां हैं, जो इस सीए की क्लाइंट हैं और डिपार्टमेंट ने जांच जारी होने की वजह से उसके नाम का खुलासा नहीं किया है।

 

 

इन कंपनियों के कर्मचारी शामिल

डिपार्टमेंट ने कहा, 'गौर करने वाली बात है कि इनमें आईबीआई, वोडाफोन, सैपलैब्स, बायोकॉन, इन्फोसिस, आईसीआईसीआई बैंक, थॉमसन रॉयटर्स इंडिया लिमिडेट जैसी प्रतिष्ठित कंपनियों के भी कई कर्मचारी शामिल हैं, जिन्होंने रिवाइज्ड रिटर्न फाइल करके रिफंड क्लेम किए।'

 

इतने बड़े पैमाने पर धांधली का सबसे बड़ा मामला

टैक्स डिपार्टमेंट ने एक बयान में कहा कि जिन कर्मचारियों के नाम जांच के दौरान सामने आए हैं, उनमें से ज्यादातर से I-T डिपार्टमेंट की जांच टीम ने पूछताछ की है। एक अधिकारी ने कहा कि हमारे सामने पहली बार इस तरह का कोई केस सामने आया है जिसमें इतने बड़े पैमाने पर झूठे रिटर्न क्लेम किए गए।

बयान के मुताबिक, टोटल रिफंड का 10 फीसदी सीए बतौर कमीशन या फीस अपने पास रखता था। जांच टीम ने कुछ वॉट्सएप मैसेज भी मीडिया को दिखाए।

prev
next
मनी भास्कर पर पढ़िए बिज़नेस से जुड़ी ताज़ा खबरें Business News in Hindi और रखिये अपने आप को अप-टू-डेट