Home » Economy » TaxationKnow GST rate on house hold products, this will work while shopping

खरीददारी करते समय रखें ध्‍यान, इन प्रोडक्ट्स पर एक भी पैसा नहीं देना होगा GST, पास रखें पूरी लिस्ट

दुकानदार जीएसटी के नाम पर आपसे ज्यादा कीमत न वसूल पाए, ऐसे प्रोडक्ट्स की लिस्ट आपके लिए जानना जरूरी है।

1 of

नई दिल्‍ली. अगर आप प्रोडक्ट्स पर लगने वाले जीएसटी को लेकर कनफ्यूज हैं तो यह रिपोर्ट काम की हो सकती है। सरकार ने जीएसटी के तहत कई प्रोडक्ट्स पर जीरो फीसदी (0%) जीएसटी तय किया है, यानी उन प्रोडक्ट्स पर आपसे एक भी पैसा टैक्स नहीं लिया जा सकता है। ऐसे में कोई दुकानदार जीएसटी के नाम पर आपसे ज्यादा कीमत न वसूल पाए, ऐसे प्रोडक्ट्स की लिस्ट आपके लिए जानना जरूरी है। जीएसटी के तहत नई दरें (जीएसटी) में बदलावा के तहत नई दरें 27 जुलाई से लागू हो जाएंगी। सरकार द्वारा नियमों में होने वाले बदलाव का आप भी फायदा उठा सकते हैं। 

 

 

इन प्रोडक्ट्स पर एक भी पैसा जीएसटी नहीं
 

दूध, दही, अंडा, पनीर पर जीएसटी 0%
CBEC  के अनुसार, रोजमर्रा के इस्‍तेमाल की कई चीजों को जीएसटी के दायरे से बाहर रखा गया है। जो चीजें जीएसटी के दायरे से बाहर हैं, उनमें बटर मिल्क, सब्जियां, फल, ब्रेड, अनपैक्‍ड फूडग्रेन्‍स, गुड़, दूध, अंडा, दही, लस्‍सी, अनपैक्‍ड पनीर, अनब्रांडेड आटा, अनब्रांडेड मैदा, अनब्रांडेड बेसन, प्रसाद, काजल, फूलभरी झाड़ू और नमक शामिल हैं। इसके अलावा फ्रेश मीट, फिश, चिकन पर भी जीएसटी नहीं है। 

 

बच्चों के काम की चीजें और न्यूज पेपर
बच्‍चों के ड्राइंग और कलरिंग बुक्‍स और एजुकेशन सर्विसेज पर भी जीएसटी नहीं है। इसके अलावा मिट्टी की मूर्तियों, न्यूज पेपर, खादी स्टोर से खादी के कपड़ें खरीदने पर कोई टेक्स नहीं है।  

 

हेल्‍थ सर्विसेज 
सरकार ने हेल्‍थ सर्विसेज को भी जीरो फीसदी जीएसटी के दायरे में रखा है। 

 

ये प्रोडक्ट्स भी 0% फीसदी दायरे में
सरकार ने 21 जुलाई को सैनेटरी नैपकिन, स्टोन, मार्बल, राखी, साल के पत्ते, लकड़ी से बनी मूर्तियां और हैंडीक्राफ्ट आइटम्स पर भी जीरो फीसदी जीएसटी कर दिया है। 
आगे पढ़ें, रोज काम आने वाले किन प्रोडक्ट्स पर 5 फीसदी जीएसटी .....

 

5% जीएसटी स्लैब में
चीनी, चाय पर 5% जीएसटी
चीनी, चाय, रोस्‍टेड कॉफी बीन्‍स, खाद्य तेल, स्किम्‍ड मिल्‍क पाउडर, बच्‍चों के मिल्‍क फूड, पैक्‍ड पनीर, पीडीएस केरोसिन, फ्रोजेन सब्जियों, घरेलू LPG, फैब्रिक फूटवीयर (500 रुपए तक), अपैरल (1000 रुपए तक), काजू, अगरबत्‍ती, धूप बत्ती, कोयला, कोर मैट्स, मैटिंग और फ्लोर कवरिंग को 5 फीसदी जीएसटी स्‍लैब के दायरे में रखा गया है। ट्रांसपोर्ट सर्विस पर भी 5 फीसदी जीएसटी है। 
 
इन आइटम्स पर भी 5% जीएसटी
टेलरिंग सर्विस, मेहंदी पेस्ट, कॉफी, आइट एंड स्नो, बॉयो गैस, इंसुलिन, पतंग, वालनट्स, साड़ी का फाल, कुछ तरह के फैब्रिक्स, पोस्टेज स्टैंप, फाइबर प्रोडक्ट्स, ब्रांडेड नमकीन, आयुर्वेदिक दवाएं, यूनानी दवाएं, होम्योपैथिक दवाएं, प्लास्टिक वेस्ट, रबर वेस्ट, चटाई,  इडली और डासेा के बैटर, फिशिंग नेट, एयरक्रॉफ्ट टायर और फ्लाई ऐश पर 5 फीसदी जीएसटी है।

आगे पढ़ें, रोज काम आने वाले किन प्रोडक्ट्स पर 12 फीसदी जीएसटी ......

 

 

बटर, घी पर 12% जीएसटी
जीएसटी काउंसिल ने बटर, घी, बादाम, फ्रुट जूस, पैक्‍ड नारियल पानी, फल, अचार, मुरब्‍बा, जैम जैरी, छाता और मोबाइल को 12 फीसदी जीएसटी टैक्‍स स्‍लैब में रखा गया है।


इन प्रोडक्ट्स पर भी 12% जीएसटी
हैंडीक्रॉफ्ट आयटम्‍स, हैंडबैग, बांस की फ्लोरिंग, ज्‍वैलरी बॉक्‍स, लकड़ी के बॉक्‍स (पेंटिंग के लिए), शीशे से बनी कलाकृतियां, स्‍टोन एंडेवर,  अर्नामेंट के फ्रेम वाले शीशे, हाथ से बने लैंप पर भी 12 फीसदी जीएसटी है।  

 

इन प्रोडक्ट्स पर भी 12% जीएसटी
1000 रुपए से ज्यादा कीमत वाले अपैरल, फ्रोजेन मीट प्रोडक्ट, बटर, चीज, घी, पैकेज्ड ड्राई फ्रूट्स, एनिमल फैट, फ्रूट जूस, टूथ पावडर, छाता, सेलफासेन, केचप, डायग्नोस्टिक किट और प्लेइंग कार्ड पर भी 12 फीसदी जीएसटी है। 
आगे पढ़ें, रोज काम आने वाले किन प्रोडक्ट्स पर 18 फीसदी जीएसटी .......

 

 

इन प्रोडक्ट्स पर 18% जीएसटी


हेयर ऑयल-टूथपेस्‍ट
सीबीईसी के अनुसार, हेयर ऑयल, टूथपेस्‍ट, साबुन, पास्‍ता, कॉर्न फ्लेक्‍स , आइसक्रीम, कम्‍प्‍यूटर, प्रिंटर आदि पर 18 फीसदी जीएसटी रेट लगेगा।
 

ये प्रोडक्ट भी 
वॉशिंग मशीन, फ्रिज, टीवी (सिर्फ 27 इंच तक), वीडियो गेम, वैक्‍यूम क्‍लीनर, ट्रेलर, जूस मिक्‍सर, ग्राइंडर, शावर एंड हेयर ड्रायर, वाटर कूलर, लीथियन आयन बैट्री, इले‍क्‍ट्रॉनिक आयरन (प्रेस), सेंट, टॉयलेट स्‍प्रे, वॉल पुट्टी, वॉर्निश, विशेष वाहन जैसे एंबुलेंस, वर्क ट्रक

 

ये भी पढ़ें: छोटे कारोबारियों को जीएसटी काउंसिल का तोहफा, 5 करोड़ तक के टर्नओवर पर मंथली नहीं तिमाही फाइल करना होगा रिटर्न

prev
next
मनी भास्कर पर पढ़िए बिज़नेस से जुड़ी ताज़ा खबरें Business News in Hindi और रखिये अपने आप को अप-टू-डेट