बिज़नेस न्यूज़ » Economy » Taxationरोज वैली पोंजी स्‍कीम में ED का बड़ा एक्‍शन, 2300 करोड़ की संपत्तियां अटैच

रोज वैली पोंजी स्‍कीम में ED का बड़ा एक्‍शन, 2300 करोड़ की संपत्तियां अटैच

ईडी ने रोज वैली पोंजी स्‍कीम में मनी लॉन्ड्रिंग की जांच के मामले में 2300 करोड़ रुपए की संपत्तियां अटैच की है।

1 of
कोलकाता. प्रवर्तन निदेशालय (ईडी) ने रोज वैली पोंजी स्‍कीम में मनी लॉन्ड्रिंग की जांच के मामले में 2300 करोड़ रुपए की संपत्तियां अटैच की है। इनमें दो दर्जन होटल और रेेजॉर्ट्स भी शामिल हैं। ईडी के आकलन के अनुसार, इस मामले में 15 हजार करोड़ रुपए की धोखाधड़ी हुई है। 

ईडी के सूत्रों के अनुसार, जांच एजेंसी ने मनी लॉन्ड्रिंग एक्‍ट (पीएमएलए) के तहत 11 रेजॉर्ट्स, नौ होटल व कुछ अन्‍य फैसेलिटी, करीब 200 एकड़ का एक प्‍लॉट और पश्चिम बंगाल में 414 भूखंड को अटैच करने का प्रोविजनल ऑर्डर जारी कर दिया है। 
 
मनी लॉन्ड्रिंग कानून के तहत सबसे बड़ा ऑर्डर 
पीएमएलए कानून के तहत केंद्रीय जांच एजेंसी की तरफ से प्रॉपर्टीज का एक सबसे बड़ा सिंगल अटैचमेंट ऑर्डर है। ईडी के इस एक्‍शन के बाद इस मामले में अब तक करीब 4200 करोड़ रुपए वैल्‍यू की संपत्ति अटैच की जा चुकी है। 
 
2014 में दर्ज हुआ था मामला 
ईडी ने 2014 में मनी लॉन्ड्रिंग कानून के तहत रोज वैली, उसके चेयरमैन गौतम कुंडूू और अन्‍य के खिलाफ एफआईआर दर्ज की थी। जांच एजेंसी ने 2015 में कुंडूू को कोलकाता में गिरफ्तार कर लिया था। इस मामले में ईडी की तरफ से कोलकाता और भुवनेश्‍वर की अदलतों में कई चार्जशीट फाइल की जा चुकी है। 
 
रोज वैली ने 27 फीसदी तक रिटर्न का दिया था झांसा 
रोज वैली ग्रुप ने कथित रूप से चिंप फंड ऑपरेशन के लिए कुल 27 कंपनियां बना रखी थीं। इनमें से आधा दर्जन कंपनियां ही एक्टिव थीं। ईडी का आरोप है कि कंपनी ने अलग-अलग राज्‍यों में सीधे-साधे निवेशकों को उनके निवेश पर 8 से 27 फीसदी के बीच रिटर्न का झांसा दिया था। कंपनी ने जमीन, एसेट्स और रीयल एस्‍टेट सेक्‍टर में बुकिंग पर जमाकर्ताओं को अप्रत्‍याशित रिटर्न का वादा किया था। इसके अलावा कंपनी पर इन्‍वेस्‍टर्स के प्रति अपनी लायबिलिटी कम दिखाने के लिए अपनी अलग-अलग कंपनियों में क्रास इन्‍वेस्‍टमेंट करने का भी आरोप है। 
 
सेबी कर चुका है जांच 
ईडी और सीबीआई की ओर से ग्रुप के खिलाफ केस दर्ज करने से पहले द सिक्‍युरिटी एंड एक्‍सचेंज बोर्ड ऑफ इंडिया (सेबी) ने भी कंपनी की जांच की थी। ईडी का कहना है कि इस मामले में करीब 15 हजार करोड़ रुपए की धोखाधड़ी हुई है। इसमें ब्‍याज और पेनल्‍टी शामिल है। पिछले साल अगस्‍त में रोज वैली की अलग-अलग स्‍कीम के नाराज जमाकर्ताओं ने कंपनी के शहर स्थित प्राइम लोकेशन पर एक होटल में तोड़फोड़ की थी। वह अपने पैसे वापस देने की मांग कर रहे थे। 
 
prev
next
मनी भास्कर पर पढ़िए बिज़नेस से जुड़ी ताज़ा खबरें Business News in Hindi और रखिये अपने आप को अप-टू-डेट