विज्ञापन
Home » Economy » TaxationKamal Nath is believed to be the friend of industrialist Gautam Adani

मोदी सरकार ने अडाणी के मित्र को बनाया निशाना, आईटी रेड की जद में आया राष्ट्रपति पदक से सम्मानित यह अधिकारी

कमलनाथ को माना जाता है उद्योगपति गौतम अडाणी का मित्र

1 of

नई दिल्ली.  उद्योगपति गौतम अडानी और प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के बीच रिश्ते जगजाहिर हैं। लेकिन इन्हीं रिश्तों में तीसरे व्यक्ति मप्र के सीएम कमलनाथ भी हैं। रविवार तड़के आयकर विभाग ने अडानी के इसी मित्र से जुड़े लोगों के यहां छापे मारे। छापे की जद में आए हैं प्रवीण कक्कड़। राष्ट्रपति पदक से सम्मानित हो चुके हैं पूर्व पुलिस अधिकारी कक्कड़ सीएम के विशेष कर्तव्यस्थ अधिकारी (OSD) भी हैं। इससे पहले वे पूर्व केंद्रीय मंत्री कांतिलाल भूरिया के भी ओएसडी रह चुके हैं। उनके घर से INCOME TAX अधिकारियों को 9 करोड़ की नकदी मिली हैं। 

गर्मा गई सियासत 

कथित तौर पर कहा जाता है कि वर्ष 2014 के लोकसभा चुनाव में कमलनाथ छिंदवाड़ा से चुनाव लड़ रहे थे। तब मोदी लहर में उनका जीतना नामुमकिन नजर आ रहा था। ऐसे में मोदी की सभा उनके छिंदवाड़ा संसदीय क्षेत्र में भी होनी थी लेकिन कमनाथ ने अपने मित्र अडानी की मदद ली और सभा को रद्द करवा दिया। अडानी और कमलनाथ के संबंध तब से हैं जब कमलनाथ केंद्रीय वाणिज्य मंत्री हुआ करते थे। राजनीतिक विश्लेषकों की मानें तो मोदी इस बार के लोकसभा चुनाव में कोई भी रिस्क नहीं लेना चाहते हैं। वे मप्र ही नही बल्कि कांग्रेस शासित राज्यों में ज्यादा से ज्यादा सीटें जीतना चाहते हैं। लिहाजा, इन राज्यों में सीएम से जुड़े लोगों पर कार्रवाई जारी है। 

 

यह भी पढ़ें - फेसबुक पहुंचेगा आपके घर, पूछेगा यह पोस्ट आपने तो नहीं की

 

यह भी पढ़ें...

ITR के नए फार्म जारी, किराएदार के PAN जैसी कई जानकारियां भी देनी होंगी

 

 

मिगलानी भी नहीं बचे


  मध्य प्रदेश के मुख्यमंत्री कमलनाथ के ओएसडी प्रवीण कक्कड़ के बाद दूसरा नंबर उनके निज सचिव के तौर पर बीते 30 सालों से काम कर रहे राजेंद्र मिगलानी का नाम है। मिगलानी और कक्कड़ के दिल्ली, भोपाल और इंदौर स्थित आवास सहित करीब 50 स्थानों पर आयकर विभाग के अधिकारियों ने रविवार तड़के छापेमारी शुरू की जिसमें अब तक नौ करोड़ रुपये बरामद हो चुके हैं। सूत्रों ने बताया कि यह छापेमारी हवाला के जरिए धन के लेनदेन के सिलसिले में की गई है।  कक्कड़ ने कमलनाथ के मुख्यमंत्री बनने के बाद दिसंबर 2018 में ओएसडी का पद संभाला था और आम चुनाव की घोषणा के बाद इस पद से इस्तीफा दे दिया था।  मिगलानी ने छिंदवाड़ा में चुनाव प्रबंधन के लिए हाल ही में अपने पद से इस्तीफा दिया था। कक्कड़ के इंदौर के विजयनगर स्थित आवास, बीसीएम हाइट्स स्थित कार्यालय, उनके द्वारा संचालित एक विवाह भवन और एक फ्लैट पर छापेमारी की कार्रवाई की गयी है।  मिगलानी के भोपाल और दिल्ली स्थित आवास पर छापेमारी की गयी।

 

यह भी पढ़ें...

उम्र 25 साल, सिर्फ ढाई साल में खड़ी की 70 कंपनियां, दो फोर्ब्स की सूची में

 

यह भी पढ़ें - नए साल में आप यह पांच चीजें सीखेंगे तो नौकरी में पाएंगे तरक्की

 

 

सीडी बनाने वाली मोजेक बियर के मालिक हैं कमलनाथ के भांजे 

 

अभी छापेमारी जारी है। इसमें कलमनाथ के करीबी सहयोगियों के अलावा उनके रिश्तेदार रातुल पूरी एवं उनकी कंपनी अमिरा ग्रुप और मोजर बेयर शामिल है। भोपाल, इंदौर, गोवा और दिल्ली में करीब 35 स्थानों पर छापेमारी की गयी है जिसमें करीब 300 अधिकारी शामिल हैं।  सूत्रों ने कहा कि कोलकाता के कारोबारी पारस लाल लोढ़ा के ठिकानों पर भी छापेमारी की गई है। छापों के दौरान जब्त दस्तावेजों की विस्तृत जांच की जा रही है। 

 

यह भी पढ़ें -  इस प्रत्याशी के पास है 2G घोटाले जितनी 1.76 लाख करोड़ रुपए की रकम, चार लाख करोड़ रुपए कर्ज भी

 

prev
next
मनी भास्कर पर पढ़िए बिज़नेस से जुड़ी ताज़ा खबरें Business News in Hindi और रखिये अपने आप को अप-टू-डेट
विज्ञापन
विज्ञापन
Don't Miss