बिज़नेस न्यूज़ » Economy » Taxationमोदी ने जीएसटी के तहत सिंगल स्लैब से किया इंकार, कहा- दूध और मर्सडीज पर एक रेट से टैक्स नहीं लग सकता

मोदी ने जीएसटी के तहत सिंगल स्लैब से किया इंकार, कहा- दूध और मर्सडीज पर एक रेट से टैक्स नहीं लग सकता

पीएम नरेंद्र मोदी ने गुड्स एंड सर्विसेज टैक्स (जीएसटी) के तहत सिंगल स्लैब की किसी भी संभावना से इंकार किया है।

PM rules out single rate under GST, says Mercedes and milk cannot have same tax
नई दिल्ली। पीएम नरेंद्र मोदी ने गुड्स एंड सर्विसेज टैक्स (जीएसटी) के तहत सिंगल स्लैब की किसी भी संभावना से इंकार किया है। मोदी ने कहा कि दूध और मर्सडीज कार पर एक ही रेट के तहत टैक्स नहीं लगाया जा सकता है। जीएसटी के एक साल पूरा होने पर मोदी ने यह बयान दिया है। बता दें कि कांग्रेस पार्टी की ओर से जीएसटी के तहत 18 फीसदी का एक ही टैक्स स्लैब रखने की मांग की जा रही है। 
 
 
150 आइटम्स पर टैक्स जीरो फीसदी 
मोदी ने कहा कि यह कहना आसान है कि एक ही स्लैब रखा जाए, लेकिन फिर हम किसी फूड आइटम को जीरो फीसदी टैक्स के तहत नहीं रख पाएंगे। उनका कहना है कि फूड आइटम्स और कमोडिटीज पर अभी जीरो, 5 या 18 फीसदी टैक्स लगता है। लेकिन एक ही स्लैब रह जाने से ऐसा नहीं हो पाएगा। पीएम मोदी ने कहा कि सरकार ने करीब 400 तरह के आइटम्स पर टैक्स में कटौती कर दी है। करीब 150 तरह के आइटम्स पर जीरो फीसदी टैक्स किया गया है।  
 
इनडायरेक्ट टैक्सपेयर्स की संख्‍या 70% बढ़ी
मोदी ने कहा कि जीएसटी को लागू हुए एक साल बीता है और इनडायरेक्ट टैक्सपेयर्स की संख्‍या 70 फीसदी बढ़ गई है। 17 अलग-अलग तरह के टैक्स और 23 सेस को मिलकार एक किया है, जिससे टैक्स भरने वालों को आसानी हुई है। उन्होंने कहा कि आजादी के बाद से अब तक 66 लाख इंटरप्राइजेज का रजिस्ट्रेशन कराया गया था। लेकिन, जीएसटी लागू होने के बाद एक साल के भीतर ही 48 लाख नए रजिस्ट्रेशन कराए गए। 350 करोड़ इनवॉइस प्रॉसेस किए गए और 11 करोड़ रिटर्न फाइल किए गए। 
 
लॉजिस्टिक्स सेक्टर को मिली तेजी
मोदी ने जीएसटी के फायदे गिनाते हुए कहा कि देश भर में चेक पोस्ट्स खत्म हो गई हैं और राज्यों की सीमाओं पर लाइनें लगनी बंद हो गई हैं। इससे ट्रक ड्राइवर्स का समय बच ही रहा है, लॉजिस्टिक्स सेक्टर को भी तेजी मिली है। इसके अलावा देश के प्रोडक्शन में भी इजाफा हुआ है। 

prev
next
मनी भास्कर पर पढ़िए बिज़नेस से जुड़ी ताज़ा खबरें Business News in Hindi और रखिये अपने आप को अप-टू-डेट