Home » Economy » TaxationNomura says govt will miss its FY18 fiscal deficit target of 3.2% of GDP

FY-19 में 3.2 फीसदी रह सकता है फिस्कल डेफिसिट का टारगेट, नोमुरा का अनुमान

फाइनेंशियल ईयर 2019 में सरकार राजस्व घाटा के लिए लक्ष्‍य 3.2 फीसदी रख सकती है।

1 of

नई दिल्ली। फाइनेंशियल ईयर 2019 में सरकार राजस्व घाटा के लिए लक्ष्‍य जीडीपी का 3.2 फीसदी रख सकती है। जापान की फाइनेंशियल सर्विस मेजर नोमुरा ने बजट से पहले यह अनुमान जताया है। नोमुरा का कहना है कि फाइनेंशियल ईयर 2018 के लिए सरकार ने राजस्व घाटा का लक्ष्‍य जीडीपी का 3.2 फीसदी रखा था, जो अनुमान से मिस हो सकता है। इसके 3.5 फीसदी रहने का अनुमान है। 

 


रूरल सेक्टर के लिए बेहतर बजट का अनुमान
नोमुरा का कहना है कि आने वाले बजट से रूरल सेक्टर को खासतौर से काफी उम्मीदें हैं। फाइनेंशियल सर्विस मेजर के अनुसरर आगामी बजट आम आदमी के लिए बेहतर होगा। खासतौर से रूरल सेक्टर के लिए बड़े एलान की उम्मीद है। नोमुरा का कहना है कि सरकार फिस्कल कंसोलिडेशन को बिना जोखिम में डाले आम आदमी के लिए बेहतर बजट पेश कर सकती है। बता दें कि यूनियन बजट 1 फरवरी को पेश होना है। 

 

फिस्कल कंसोलिडेशन जारी रहने का अनुमान 
नोमुरा के अनुसार फाइनेंशियल ईयर 2018 के लिए फिस्कल डेफिसिट का टारगेट 3.2 फीसदी से मिस हो सकता है। यह रिवाइज्ड होकर जीडीपी का 3.5 फीसदी रहने का अनुमान है। नोमुरा का कहना है कि आम चुनाव में ज्यादा दिन नहीं बचे हैं, ऐसे में फिस्कल कंसोलिडेशन जारी रहने का अनुमान है। वहीं, पॉलिसी लेवल की बात करें तो बजट के जरिए सरकार रूरल सेक्टर और एग्रीकल्चर पर ज्यादा फोकस कर सकता है। 

 

जारी रहेंगे देश में रिफॉर्म 
पिछले दिनों नोमुरा की रिपोर्ट में कहा गया था कि भारत में मैक्रोइकोनॉमिक वातावरण बेहतर बना हुआ है। सरकार ने पिछेल दिनों कई रिफॉर्म किए हैं। आगे भी सरकार द्वारा स्ट्रक्चरल रिफॉर्म जारी रहेगा। इससे देश में स्पेंडिंग बढ़ेगी, जिसका फायदा इकोनॉमी को होगा। फिलहाल भारत में निवेश और ग्रोथ के लिए पॉजिटिव आउटलुक बना हुआ है। 

prev
next
मनी भास्कर पर पढ़िए बिज़नेस से जुड़ी ताज़ा खबरें Business News in Hindi और रखिये अपने आप को अप-टू-डेट