Advertisement
Home » इकोनॉमी » टैक्सेशनGST Council may look to rationalise 28% slab

घर बनाना हो सकता है सस्ता, 22 दिसंबर को होगी GST कौंसिल की बैठक

बैठक में कई चीजों को 28 फीसदी की दायरे से बाहर निकाला जा सकता है

1 of
नई दिल्ली। जीएसटी काउंसिल की अगली बैठक 22 दिसंबर 2018 को होने वाली है। ऐसे में उम्मीद की जा रही है कि अगल हफ्ते होने वाली इस बैठक में कई चीजें सस्ती हो सकती है। इस अनुमान लगाया जा रहा है कि बैठक में कई चीजों को 28 पर्सेंट वाले स्लैब से हटाया जा सकता है। और इन सभी चीजों पर जीएसटी कम हो सकता है। अगर बात की जाए तो काउंसिल ने पिछले डेढ़ सालों में 191 वस्तुओं पर से टैक्स कम कर 28 पर्सेंट के स्लैब सीमित कर दिया है। 

 
अब इस स्लैब में केवल 35 चीजें ही बची हुई हैं। सरकार का मानना है कि 28 पर्सेंट के स्लैब में केवल उन चीजों को रखा जाए जिनका इस्तेमाल लक्जरी उद्देश्य के लिए किया जाता है। इसके बारे में अंतिम फैसला काउंसिल करेगी। जीएसटी परिषद में सभी राज्यों के वित्त मंत्री शामिल है। एक अधिकारी ने कहा, ‘‘केवल उन वस्तुओं को 28 प्रतिशत कर की श्रेणी में रखे जाने का विचार है जिनका उपयोग विलासिता के लिये किया जाता है और जो अहितकर हैं।’’ जीएसटी परिषद की अगली बैठक 22 दिसंबर को होगी। 
 
अगली स्लाइड में पढ़ें 2017 में लागू किया गया था GST

Advertisement

माल एवं सेवा कर (जीएसटी) एक जुलाई 2017 में लागू किया गया। उस समय 28 प्रतिशत कर की श्रेणी में 226 वस्तुएं थी। जीएसटी परिषद ने जुलाई बैठक में पेंट, वार्निश, इत्र, रूप सज्जा, मिक्सर ग्राइन्डर, वैक्यूम क्लीनर, लिथियम आयन बैटरी जैसी वस्तुओं पर दरों में कटौती कर 28 प्रतिशत की श्रेणी को तर्कसंगत बनाया था। 
 
अगली स्लाइड में पढ़ें और
कई चीजें हो जाएंगी सस्ती
इन वस्तुओं पर कर की दर को कम कर 18 प्रतिशत किया गया। उच्च कर श्रेणी में आने वाले 35 जिंसों में सीमेंट, वाहनों के कल-पुर्जे, टायर, वाहनों के उपकरण, मोटर वाहन, विमान, सट्टा तथा तंबाकू, सिगरेट और पान मसाला जैसी अहितकर वस्तुएं शामिल हैं। अधिकारी ने कहा कि सीमेंट पर जीएसटी दर कम होने से आवास और निर्माण उद्योग को गति मिलेगी। साथ ही रोजगार बढ़ाने में भी मदद मिलेगी।
prev
next
मनी भास्कर पर पढ़िए बिज़नेस से जुड़ी ताज़ा खबरें Business News in Hindi और रखिये अपने आप को अप-टू-डेट
Advertisement