Home » Economy » Taxationनोटबंदी के बाद 73 हजार डीरजिस्‍टर्ड कंपनियों ने जमा किए 24,000 करोड़ रुपए: सरकार

73 हजार डीरजिस्‍टर्ड कंपनियों ने नोटबंदी के बाद जमा किए 24,000 करोड़ रुपए: सरकार

करीब 73,000 डीरजिस्‍टर्ड कंपनियों ने नोटबंदी के बाद बैंक खातों में 24,000 करोड़ रुपए जमा किए।

1 of

नई दिल्‍ली. करीब 73,000 डीरजिस्‍टर्ड कंपनियों ने नोटबंदी के बाद बैंक खातों में 24,000 करोड़ रुपए जमा किए। सरकार की तरफ से यह आंकड़ा सामने आया है। ब्‍लैकमनी और गैर-कानूनी संपत्तियों पर रोक लगाने के तहत कंपनी मामलों के मंत्रालय ने करीब 2.26 लाख कंपनियों को बंद कर दिया था। ये कंपनियां लंबे समय से कोई बिजनेस एक्टिविटी नहीं कर रही थी। इनमें से अधिकांश कंपनियां पर ब्‍लैकमनी की हेराफेरी का संदेह है। 

 

 

जांच के दायरे में 68 कंपनियां  
मंत्रालय की ओर से एकत्र किए गए आंकड़े बताते हैं कि 2.26 लाख डीरजिस्‍टर्ड कं‍पनियों में से 1.68 लाख कंपनियों की बैंक डिटेल बताती है कि नोटबंदी के बाद इन कं‍पनियों के बैंक खातों में पैसा जमा किए गए। इसमें से 73 हजार कंपनियों ने 24 हजार करोड़ रुपए जमा कराए। विभिन्‍न बैंकों से कंपनियों की डिटेल जुटाई जा रही है। मिनिस्‍ट्री की ओर से जारी दस्‍तावेज के अनुसार 68 कंपनियां जांच के दायरे में हैं। इस दस्‍तावेज को पिछले चार में मंत्रालय की उपलब्धि में जगह दी गई है। बता दें, कंपनी कानून के तहत, सरकार के पास रजिस्‍टर्ड कंपनियों को अलग-अलग वजहों से बंद करने का अधिकार है। 

 

नवंबर 2016 में हुई थी नोटबंदी 
मंत्रालय की ओर से जारी दस्‍तावेज के अनुसार, सीरियस फ्रॉड इन्‍वेस्टिगेशन ऑफिस (एसएफआईओ) 19 कंपनियों की जांच कर रहा है जबकि रजिस्‍ट्रार ऑफ कम्‍पनीज (आरओसी) के जांच के दायरे में 49 कंपनियां हैं। नवंबर 2016 में सरकार ने 500 और 1000 रुपए की पुरानी करंसी का लीगल टेंडर रद्द कर दिया था। यानी ये नोट एक झटके में बंद हो गए। चलन से बाहर हो गए। सरकार की तरफ से नोटबंदी ब्‍लैकमनी के खिलाफ एक अहम कदम था। 

prev
next
मनी भास्कर पर पढ़िए बिज़नेस से जुड़ी ताज़ा खबरें Business News in Hindi और रखिये अपने आप को अप-टू-डेट