विज्ञापन
Home » Economy » TaxationIncome tax exemption limit can be increased till 5 lakhs per annul

5 लाख रुपए हो सकती है आयकर छूट सीमा, मध्यम वर्ग को मिल सकता है बड़ा तोहफा

लोकसभा चुनावों को देखते हुए मध्यम वर्ग को खुश करने की कोशिश

1 of

नई दिल्ली। मध्यम वर्ग को राहत देते हुए वित्त मंत्री अरुण जेटली आयकर छूट की सीमा बढ़ाकर दोगुनी कर सकते हैं, जो वेतनभोगी कर्मचारियों के लिए 2.5 लाख रुपए से बढ़कर 5 लाख रुपए हो सकता है, जबकि मेडिकल खर्चो और परिवहन भत्ते को भी फिर से बहाल कर सकते हैं। इससे नोटबंदी के कारण बेहाल मध्य वर्ग को थोड़ी राहत मिलेगी। हालांकि, अंतरिम बजट में बहुत अधिक मांगों को पूरा नहीं किया जा सकता है, लेकिन भारतीय जनता पार्टी की सरकार चुनावों को देखते हुए मध्यम वर्ग को खुश करने की कोशिश करेगी। 

 

ज्यादा से ज्यादा लोगों को टैक्स के दायरे में लाने की कोशिश


सरकारी सूत्रों ने एजेंसी को बताया कि इसलिए करों के स्लैब को सुव्यवस्थित करने की योजना बनाई गई है, जो किसी भी स्थिति में आगामी प्रत्यक्ष कर संहिता के अनुरूप होंगे। इसमें यह समस्या आ सकती है कि प्रत्यक्ष कर संहिता रिपोर्ट के आने से पहले आम बजट 28 फरवरी को आ जाएगा, जिससे रिपोर्ट जारी होने से पहले दरों से छेड़छाड़ इसे विवादास्पद बना देगा। नए प्रत्यक्ष कर संहिता के दायरे में ज्यादा से ज्यादा कर निर्धारती (एसेसी) को कर के दायरे में लाने की कोशिश की जाएगी, ताकि अलग-अलग वर्गो के करदाताओं के लिए अधिक न्यायसंगत प्रणाली बनाई जाए, कॉर्पोरेट कर में कमी की जाए और व्यवसायों को प्रतिस्पर्धी बनाई जाए। 
 

वर्तमान में यह है टैक्स सीमा


वर्तमान में, 2.5 लाख रुपए की आय को निजी आयकर से छूट प्राप्त है, जबकि 2.5-5 लाख रुपए के बीच की सालाना आय पर 5 फीसदी कर लगता है, जबकि 5-10 लाख रुपए की सालाना आय पर 20 फीसदी और 10 लाख रुपए से अधिक की सालाना आय पर 30 फीसदी कर लगता है। जबकि 80 साल के अधिक की उम्र के नागरिकों को 5 लाख रुपए सालाना की आय पर कर छूट प्राप्त है। 

बहाल हो सकती है मेडिकल खर्च और परिवहन भत्ते पर छूट


इसके अलावा पिछले साल 5 लाख रुपए की आय वालों के लिए सालाना 15,000 रुपये तक के मेडिकल खर्चों और 19,200 रुपए तक के परिवहन भत्तों को हटाकर उसकी जगह 20,000 रुपए की मानक कटौती लाया था। इसे भी वापस बहाल किया जा सकता है। हालांकि, इससे बहुत अधिक फायदा तो नहीं होगा, लेकिन मध्य वर्ग का उत्साह बढ़ेगा। 

prev
next
मनी भास्कर पर पढ़िए बिज़नेस से जुड़ी ताज़ा खबरें Business News in Hindi और रखिये अपने आप को अप-टू-डेट
विज्ञापन
विज्ञापन