Home » Economy » TaxationDirect Tax Collection Rises 19.5% in the April-February 2018

11 महीने में डायरेक्‍ट टैक्‍स कलेक्‍शन 19.5% बढ़कर 7.44 लाख करोड़ हुआ, टारगेट का 74% हासिल

डायरेक्‍ट टैक्‍स कलेक्‍शन 7.44 लाख करोड़ हो गया।

1 of

नई दिल्‍ली. सरकार का अप्रैल, 2017 से फरवरी, 2018 तक 11 महीने में डायरेक्‍ट टैक्‍स कलेक्‍शन 7.44 लाख करोड़ रुपए हो गया। यह एक साल पहले की इसी अवधि के मुकाबले 19.5 फीसदी ज्‍यादा है। वित्‍त वर्ष 2017-18 के लिए निर्धारित 10.05 लाख करोड़ रुपए के संशोधित टारगेट के मुकाबले 74.3 फीसदी नेट डायरेक्‍ट टैक्‍स कलेक्‍शन हासिल हो गया है। 

 

1.39 लाख करोड़ रुपए का रिफंड

वित्‍त मंत्रालय की ओर से जारी आंकड़ों के अनुसार, अप्रैल 2017 से फरवरी, 2018 के दौरान ग्रॉस डायरेक्‍ट टैक्‍स (रिफंड एडजस्‍ट किए बिना) कलेक्‍शन 14.5 फीसदी बढ़कर 8.83 लाख करोड़ रुपए हो गया। इस दौरान, सरकार ने 1.39 लाख करोड़ रुपए का टैक्‍स रिफंड किया। 

आंकड़ों के अनुसार, पिछले 11 महीने के दौरान कॉरपोरेट इनकम टैक्‍स (सीआईटी) कलेक्‍शन 19.7 फीसदी और पर्सनल इनकम टैक्‍स (पीआईटी) 18.6 फीसदी बढ़ा है। 

 

बजट 2018 में संशोधित किया था टारगेट 

2018-19 बजट में सरकार ने डायरेक्‍ट टैक्‍स कलेक्‍शन लक्ष्‍य बढ़ाकर 10.05 लाख करोड़ रुपए कर दिया है। इससे पहले यह लक्ष्‍य 9.80 लाख करोड़ रुपए था। सरकार का मानना है कि डायरेक्‍ट टैक्‍स कलेक्‍शन का अक्‍टूबर-दिसंबर तिमाही वाला ट्रेंड जारी रहा तो 10 लाख करोड़ रुपए के लक्ष्‍य को आसानी से हासिल किया जा सकता है।

 

क्‍यों बढ़ा टारगेट? 

सेंट्रल बोर्ड ऑफ डायरेक्‍ट टैक्‍सेज (CBDT) ने अपने फील्‍ड ऑफिसर्स को डायरेक्‍ट टैक्‍स कलेक्‍शन बढ़ाने का प्रयास करने को कहा है। साथ ही अच्‍छी परफॉरमेंस वाले जोन्‍स पर ज्‍यादा ध्‍यान देने का भी आदेश दिया है। इस साल फरवरी की शुरुआत में हुई रिव्‍यू मीटिंग में CBDT ने अच्‍छा परफॉर्म करने वाले जोन्‍स के लिए टैक्‍स कलेक्‍शन टारगेट को बढ़ा दिया। एक अधिकारी ने बताया कि हम जनवरी-मार्च तिमाही में बेहतर एडवांस टैक्‍स कलेक्‍शन की उम्‍मीद कर रहे हैं। अगर अक्‍टूबर-दिसंबर तिमाही वाला ट्रेंड ही जारी रहा तो हम 10 लाख करोड़ रुपए के लक्ष्‍य को हासिल करने में सक्षम होंगे। 
 

 

prev
next
मनी भास्कर पर पढ़िए बिज़नेस से जुड़ी ताज़ा खबरें Business News in Hindi और रखिये अपने आप को अप-टू-डेट
Don't Miss