Home » Economy » TaxationFICCI CASCADE report on Cigarette and tobacco smuggling

सिगरेट, तंबाकू की तस्‍करी 2 साल में 136 फीसदी बढ़ी: रिपोर्ट

भारत में सिगरेट और तंबाकू प्रोडक्‍ट्स की तस्‍करी दो साल में में 136 फीसदी बढ़ी है।

1 of

 

नई दिल्‍ली. भारत में सिगरेट और तंबाकू प्रोडक्‍ट्स की तस्‍करी दो साल में 136 फीसदी बढ़ी है। फिक्‍की कैसकैड की एक रिपोर्ट में यह खुलासा हुआ है। रिपोर्ट के अनुसार, 2014-15 में सिगरेट, तंबाकू प्रोडक्‍ट्स की तस्‍करी के 1312 मामले सामने आए थे। 2016-17 में यह बढ़कर 3108 हो गए। फिक्‍की कैसकैड भारत में अवैध व्‍यापारिक गतिविधियों पर रोक लगाने के लिए काम करने वाली इंडस्‍ट्री बॉडी है।


सतर्कता भी बढ़ी

रिपोर्ट के अनुसार, इन्‍फोर्समेंट एजेंसियों की सतर्कता भी बढ़ी है। इसके बावजूद देश में गैरकानूनी तरीके से हो रहे व्‍यापार के मामले बढ़े हैं। इन्‍फोर्समेंट एजेंसियों की ओर से जब्‍ती की कार्रवाई से कुछ हद तक अंकुश लगता है। हालांकि देश में बढ़ता गैर कानूनी व्‍यापार एक बड़ा खतरा बनकर उभरा है।

 

 

सरकारी खजाने को हो रहा नुकसान

रिपोर्ट के अनुसार, तंबाकू प्रोडक्‍ट्स, मोबाइल फोन, एल्‍कोहलिक बेवरेजेज की तस्‍करी से सरकार को बड़े पैमाने पर रेवेन्‍यू का नुकसान होता है। रिपोर्ट का कहना है कि 2014 में केवल सात मैन्‍युफैक्‍चरिंग सेक्‍टर्स में अवैध व्‍यापार से सरकार को कुल 39,239 करोड़ रुपए के रेवेन्‍यू का नुकसान हुआ।

 

 

तंबाकू प्रोडक्‍ट्स की तस्‍करी से 9139 करोड़ का नुकसान

रिपोर्ट के मुताबिक, तंबाकू प्रोडक्‍ट्स के फर्जी और गैरकानूनी ट्रेड से सरकार को सबसे ज्‍यादा 9139 करोड़ रुपए के रेवेन्‍यू का नुकसान हुआ। इसके अलावा मोबाइल फोन से 6705 करोड़ और एल्‍कोहलिक बेवरेजेज से 6309 करोड़ रुपए का नुकसान इनके अवैध करोबार से हुआ। रिपोर्ट का कहना है कि भारत में अवैध और तस्‍करी के सामान का मार्केट बढ़ रहा है। भारतीय इंडस्‍ट्री के लिए यह एक सबसे बड़ा चैलेंज बनकर उभरा है।

 
prev
next
मनी भास्कर पर पढ़िए बिज़नेस से जुड़ी ताज़ा खबरें Business News in Hindi और रखिये अपने आप को अप-टू-डेट