• Home
  • Economy
  • delhi traders upset over little sales in festive season blame online shopping sites

चिंता /त्यौहार शुरू होने के बावजूद दिल्ली के बाजारों से रौनक गायब, दिवाली पर भी दुकानें नहीं सजाएंगे व्यापारी

  • व्यापारी झेल रहे व्यापार में घोर सुस्ती
  • ऑनलाइन बिक्री ने छीना व्यापार

Moneybhaskar.com

Oct 07,2019 06:30:54 PM IST

नई दिल्ली. जैसे-जैसे दिवाली का त्योहारी सीजन नजदीक आ रहा है वैसे-वैसे दिल्ली के व्यापारियों की इस सीजन में अच्छा व्यापार करने की आशा धूमिल होती जा रही है क्योंकि बाजारों में ग्राहकी बेहद कम है और व्यापारियों के पास सामान के स्टॉक का अंबार लगा हुआ है। एक तरफ व्यापारियों के व्यापार पर ऑनलाइन व्यापार की मार पड़ पर रही है तो दूसरी ओर बाजार में नकद तरलता का बेहद अभाव है। इस स्थिति को देखते हुए दिल्ली के सभी बाजारों में बेहद निराशा का माहौल है, त्योहारी बिक्री की कोई गहमा-गहमी नहीं है और त्योहारों के होते हुए भी सभी प्रमुख खुदरा एवं थोक बाजार पूरी तरह सुनसान पड़े हैं। उधर दूसरी तरफ सीलिंग पर बनी मॉनिटरिंग कमेटी से सीलिंग का साया भी व्यापारियों पर बुरी तरह मंडरा रहा है जिसने दिल्ली के सदियों पुराने व्यापारिक वितरण स्वरुप की जड़ें हिला कर रख दी हैं।


ई-कॉमर्स कंपनियों के चलते बिगड़ रही बाजारों की स्थिति

कन्फेडरेशन ऑफ आल इंडिया ट्रेडर्स (कैट) के राष्ट्रीय महामंत्री प्रवीन खंडेलवाल ने बाजारों की वर्तमान स्थिति पर प्रतिक्रिया व्यक्त करते हुए कहा की दिल्ली के बाजारों में व्यापार का सबसे ज्यादा नुकसान विभिन्न ई-कॉमर्स कंपनियों ने लागत से भी कम मूल्य पर माल बेच कर और भारी डिस्काउंट देकर उपभोक्ताओं को बाजारों से दूर कर दिया है। ये कंपनियां सीधे तौर पर केंद्र सरकार की एफडीआई नीति का खुला उल्लंघन करते हुए सरकार की नाक के नीचे धडल्ले से माल बेच रही हैं और अनेक बार सबूतों के साथ शिकायत करने के बावजूद भी अभी तक सरकार ने इन कंपनियों के खिलाफ कोई कार्रवाई नहीं की है जिससे इन कंपनियों के होंसले बुलंद हो गए है और पिछले सप्ताह ही एक फेस्टिवल सेल लगाने के बात ये कंपनियां अब एक बार फिर 12 अक्टूबर से फेस्टिवल सेल का दूसरा चरण शुरू कर रही हैं जो व्यापारियों की बची खुची आशाओं पर भी पानी फेर देगा। पहली फेस्टिवल सेल के बाद इन कंपनियों ने अपनी बिक्री में 75 फीसदी के इजाफे और लगभग 50 फीसदी नए कस्टमर होने का दावा भी किया है।

व्यापारियों के सामने व्यापार के अस्तित्व का संकट

एक अनुमान के मुताबिक दिल्ली में प्रतिदिन लगभग 500 करोड़ रुपए का कारोबार होता है और ऑनलाइन कंपनियों के कारण दिल्ली के विभिन्न बाजारों के व्यापारियों की बिक्री में पिछले वर्ष की तुलना में लगभग 30 प्रतिशत की गिरावट हुई है। अगली फेस्टिवल सेल के बाद ये आंकड़ा 50 से 60 फीसदी हो सकता है जो दिल्ली के सदियों पुराने व्यापार के लिए एक बड़ा धक्का साबित होगा।खंडेलवाल ने कहा की दिल्ली में पहले नवरात्र से 14 दिसंबर तक त्यौहार के सीजन का पहला चरण होता है और उसके बाद 14 जनवरी से अप्रैल -मई तक शादियों का सीजन होने के कारण व्यापार का दूसरा चरण रहता है जिससे गत वर्षों में व्यापारियों की बिक्री में बेहद इजाफा होता था लेकिन इस वर्ष व्यापारियों के सामने व्यापार के अस्तित्व का संकट ही खड़ा हो गया है जिसको लेकर व्यापारी बेहद चिंतित भी है। दिल्ली में लगभग 10 लाख व्यापारी हैं जिन पर 40 लाख लोगों की आजीविका निर्भर रहती है। दिल्ली से देश भर में माल जाता है और पडोसी राज्यों से लगभग 5 लाख व्यापारी सामान खरीदने के लिए दिल्ली रोज आते हैं।

इस बार नहीं सजेंगे बाजार

खंडेलवाल ने कहा की दिल्ली के प्रमुख बाजार चांदनी चौक, भागीरथ पैलेस, खारी बावली, नया बाजार, कश्मीरी गेट, चावड़ी बाजार, सदर बाजार, करोल बाग, कमला नगर, अशोक विहार, कनॉट प्लेस, खान मार्किट, लाजपत नगर, सरोजिनी नगर, ग्रेटर कैलाश, राजौरी गार्डन, पीतमपुरा, विकास मार्ग, प्रीत विहार, शाहदरा, जगतपुरी आदि में जहां इन दिनों रौनक हुआ करती थी और दिवाली पर बाजार सजाए जाते थे, इस बार व्यापार में बेहद कमी के कारण व्यापारियों ने बाजार न सजाने का निर्णय लिया है।

देश के सभी बाजारों का यही हाल

खंडेलवाल ने यह भी कहा की बाजार में नकद की तरलता का बेहद अभाव है क्योंकि लोगों के पास खरीदारी के लिए अतिरिक्त धन नहीं है वहीं महीने के आखिरी दिनों में दिवाली, करवा चौथ, धनतेरस जैसे महतवपूर्ण त्यौहार इस वर्ष पड़ रहे हैं और तब तक लोगों की जेबें लगभग खाली हो जाती हैं और त्यौहार के लिए केवल जरूरी खरीदारी ही हो पाती है। इसलिए भी इस बार बिक्री गिरने की काफी आशंका है। अगर सरकार ने ऑनलाइन बिक्री पर अंकुश नहीं लगाया और बाजार में धन को नहीं डाला तो व्यापार की स्थिति बेहद खराब हो जाएगी। सिर्फ दिल्ली ही नहीं अपितु कमोबेश देश के सभी राज्यों के बाजारों का यही हाल है।

X

Money Bhaskar में आपका स्वागत है |

दिनभर की बड़ी खबरें जानने के लिए Allow करे..

Disclaimer:- Money Bhaskar has taken full care in researching and producing content for the portal. However, views expressed here are that of individual analysts. Money Bhaskar does not take responsibility for any gain or loss made on recommendations of analysts. Please consult your financial advisers before investing.