• Home
  • You can also buy online pure gold price official gold bonds, will also receive a two and a half percent interest

सोने का फायदा /आप भी ऑनलाइन खरीद सकते हैं शुद्ध सोने की कीमत वाले सरकारी गोल्ड बांड, ढाई प्रतिशत का ब्याज भी मिलेगा

money bhaskar

May 31,2019 05:55:01 PM IST

नई दिल्ली. भारतीय रिजर्व बैंक की सलाह पर भारत सरकार ने सॉवरेन गोल्ड बांड स्कीम 2019-20 लांच कर दी है। सॉवरेन गोल्ड बॉन्ड्स हर महीने जून 2019 से सितंबर 2019 तक जारी किए जाएंगे। सोने की मांग में कमी लाने तथा घरेलू बचत के लिए सोना खरीदने वाले लोगों को फाइनेंसियल सेविंग में लाने के उद्देश्य से भारत सरकार ने महत्वपूर्ण सॉवरेन गोल्ड बॉन्ड स्कीम शुरू की थी। इस योजना से सोने के आयात पर सही तरीके से निगरानी भी रखी जा सकेगी। ऐसे में इसमें ट्रांसपेरेंसी भी होगी और लोगों को अपने सोने की सुरक्षा के बारे में चिंता करने की जरूरत नहीं पड़ेगी। इस योजना को भारत सरकार ने 2015 के बजट में पेश किया था। बॉन्ड्स को बैंकों (स्मॉल फाइनेंस बैंकों और पेमेंट बैंकों को छोड़कर), स्टॉक होल्डिंग कॉर्पोरेशन ऑफ इंडिया लिमिटेड (SHCIL), पोस्ट ऑफिस और मान्यता प्राप्त स्टॉक एक्सचेंजों, नेशनल स्टॉक एक्सचेंज ऑफ इंडिया लिमिटेड और बॉम्बे स्टॉक एक्सचेंज से खरीद सकते हैं।

कैसे काम करेगा सॉवरेन गोल्ड बॉन्ड स्कीम


इस योजना के अंतर्गत रिजर्व बैंक सरकार की ओर से बॉन्ड जारी किए जाते हैंं। ये बॉन्ड्स बैंकों और पोस्ट ऑफिस में सोन के एक ग्राम के मूल्य में बेचे जाते हैं। इसके बाद ये बॉन्ड्स सोने के दाम से लिंक किए जाते हैं और निवेशक बॉन्ड के मूल्य को कैश में पे करते हैं। यानी आप भौतिक रूप से सोना नहीं खरीदते हैं लेकिन आपके पैसों से आरबीआई सोने के मूल्य के बराबर बांड का सर्टिफिकेट दे देता है। इसमें फायदा यह होता है कि सोने की बढ़ती कीमत के लाभ के साथ आरबीआई आपको ब्याज भी देता है?

यह भी पढ़ें : चीनी कंपनियों को मात देने वाली भेल सैन्य हथियार और मेट्रो कोच भी बनाएगी

इन तारीखों में खरीद सकते हैं बांड

अवधि

सब्सक्रिप्शन तारीख

बांड जारी होने की तारीख

2019-20 Series I

June 03-07

June 11, 2019

2019-20 Series II

July 08–12

July 16, 2019

2019-20 Series III

August 05-09

August 14, 2019

2019-20 Series IV

September 09-13

September 17, 2019

यह भी पढ़ें : इंदिरा गांधी के बाद देश को मिली महिला वित्त मंत्री, कांग्रेस नेता के बेटे से हुआ है निर्मला का विवाह

गोल्ड बांड के बारे में जानिए वह सब कुछ जो आपके लिए जरूरी है

उत्पाद

विवरण

नाम

सॉवरेन गोल्ड बांड (Sovereign Gold Bond 2019-20)

जारीकर्ता

भारत सरकार

कौन खरीद सकता है

व्यक्तिगत, हिंदु अविभाजित परिवार, ट्रस्ट, यूनिवर्सिटीज, चैरिटेबल संस्थाएं।

कितना खरीद सकते हैं

एक ग्राम एक यूनिट माना जाएगा। आप प्रति यूनिट के हिसाब से बांड बुक कर सकते हैं।

न्यूनतम कितना खरीद सकते हैं।

न्यूनतम एक ग्राम सोने का बांड खरीद सकते हैं।

अधिकतम खरीद सीमा

व्यक्तिगत स्तर पर चार किलो यानी 4000 ग्राम या 4 हजार यूनिट खरीद सकते हैं। हिंदू अविभाजित परिवार के लिए भी यही क्राइटएरिया है। जबकि ट्रस्ट के लिए 20 किलो की सीमा है।

समयावधि

बांड की अवधि आठ साल के लिए होगी। हालांकि पांच साल के बाद आप बांड को सरेंडर कर अपनी रकम वापस ले सकती है।

संयुक्त खरीदार

संयुक्त खरीदार के मामले में पहले आवेदक के लिए चार किलो की खरीद सीमा तय रहेगी।

इश्यू की कीमत

रजिस्ट्रेशन से पहले भारतीय बुलियन एंड ज्वैलर्स एसोसिएशन लिमिटेड द्वारा सप्ताह के अंतिम 3 कार्य दिवसों की 999 शुद्धता वाले सोने की साधारण कीमत के आधार पर बॉन्ड की कीमत तय की जाएगी। यही नहीं, गोल्ड बॉन्ड्स का निर्गम मूल्य उन लोगों के लिए 50 रुपये प्रति ग्राम कम होगा जो ऑनलाइन सदस्यता लेते हैं और डिजिटल मोड के माध्यम से भुगतान करते हैं।

भुगतान कैसे करें

20 हजार रुपए तक कैश व इससे ज्यादा की राशि पर डिमांड ड्राफ्ट, चेक और डिजिटल मोड पर भुगतान कर सकते हैं।

बांड की मियाद खत्म होते ही क्या फायदा मिलेगा?

बांड की मियाद खत्म होने पर उसकी कीमत सप्ताह के आखिरी तीन दिन की सोने की कीमत आधार पर तय होगी। भारतीय बुलियन एंड ज्वैलर्स एसोसिएशन लिमिटेड द्वारा प्रकाशित कीमत ही मान्य होगी।

बांड के लिए कहां संपर्क करें ?

बॉन्ड्स की बिक्री बैंकों, स्टॉक होल्डिंग कॉर्पोरेशन ऑफ इंडिया लिमिटेड (SHCIL), नामित डाकघरों (जैसा कि अधिसूचित किया जा सकता है) और मान्यता प्राप्त स्टॉक एक्सचेंजों, नेशनल स्टॉक एक्सचेंज ऑफ़ इंडिया लिमिटेड और बॉम्बे स्टॉक एक्सचेंज के माध्यम से या सीधे या एजेंटों के माध्यम से की जाएगी।

ब्याज दर कितनी है?

निवेशकों को प्रतिवर्ष 2.50 प्रतिशत प्रतिवर्ष देय दर पर मुआवजा दिया जाएगा।

क्या कर्ज ले सकते हैं?

बांड का उपयोग कर्ज लेने के लिए भी किया जा सकता है। कर्ज की सीमा समय-समय पर रिज़र्व बैंक द्वारा अनिवार्य साधारण स्वर्ण ऋण के बराबर निर्धारित की जाएगी।

KYC दस्तावेज

केवाईसी मानदंड बैंक जैसे ही होंगे। केवाईसी दस्तावेज जैसे वोटर आईडी, आधार कार्ड / पैन या टैन / पासपोर्ट की आवश्यकता होगी। प्रत्येक आवेदन को आयकर विभाग द्वारा व्यक्तियों और अन्य संस्थाओं को जारी किए गए पैन नंबर ’के साथ होना चाहिए।

गोल्ड बांड पर टैक्स कितना आएगा?

गोल्ड बांड पर ब्याज आयकर अधिनियम, 1961 (1961 का 43) के प्रावधान के अनुसार टैक्स योग्य होगा। किसी व्यक्ति को गोल्ड बांड को भुनाने पर उत्पन्न होने वाले पूंजीगत लाभ कर में छूट दी गई है। बांड के हस्तांतरण पर किसी भी व्यक्ति को होने वाले दीर्घकालिक पूंजीगत लाभ के लिए सूचकांक लाभ प्रदान किया जाएगा।

कमीशन

बांड के वितरण के लिए कमीशन 1% की दर से होगा। एजेंटों या उप एजेंटों के साथ प्राप्त कमीशन का कम से कम 50% हिस्सा होगा।

X

Money Bhaskar में आपका स्वागत है |

दिनभर की बड़ी खबरें जानने के लिए Allow करे..

Disclaimer:- Money Bhaskar has taken full care in researching and producing content for the portal. However, views expressed here are that of individual analysts. Money Bhaskar does not take responsibility for any gain or loss made on recommendations of analysts. Please consult your financial advisers before investing.