विज्ञापन
Home » Economy » PolicyWorker's daughter Ramya, at the age of 33, made a dent in the bastion of the Left, becoming the MP

उपलब्धि / मजदूर की बेटी राम्या ने महज 33 साल की उम्र में वामपंथियों के गढ़ में सेंध लगाई, पहली ही बार में सांसद बनी

टेलेंट हंट 'भविष्य का नेता' में चुने जाने के बाद आई थी राजनीति में

Worker's daughter Ramya, at the age of 33, made a dent in the bastion of the Left, becoming the MP

नई दिल्ली. पीएम नरेंद्र मोदी और भाजपा की प्रचंड जीत में एक नाम भले ही राष्ट्रीय स्तर पर ज्यादा चर्चा में न आ पाया हो लेकिन उसके संघर्ष की वजह से केरल में जरूर ख्याति फैल रही है। ख्याति इस वजह से क्योंकि वह एक मजूदर की बेटी है। और यही बेटी राम्या हरिदास महज 33 साल की उम्र में केरल से एकमात्र महिला सांसद चुनी गई हैं। लोकसभा चुनाव में राम्या ने माकपा का किला ध्वस्त कर जीत हासिल की है। उन्होंने धाकड़ नेता पीके बीजू को हराया है। राम्या केरल के इतिहास में दूसरी महिला दलित सांसद भी बनी हैं। 

 

केरल में कांग्रेस की आंधी में राम्या को हुआ फायदा 

 

वायनाड से राहुल गांधी के साथ ही 20 लोकसभा सीटों वाले केरल से राम्‍या हरिदास भी चुनी गई हैं।  राम्‍या कांग्रेस के टिकट पर चुनाव मैदान में थीं। अलथुरा लोकसभा सीट माक्सवादी कम्युनिस्ट पार्टी (माकपा) का गढ़ माना जाता है, लेकिन राम्‍या ने वहां जीत हासिल कर नामुमकिन को मुमकिन किया है। राम्‍या ने दो बार के सांसद डॉ. पीके बीजू को 1,58,968 वोटों से हरा दिया। राम्‍या को इस चुनाव के लिए कांग्रेस अध्‍यक्ष राहुल गांधी ने खुद चुना था। राम्‍या 2010 में टैलेंट हंट में जीतकर चर्चा में आई थीं। यह टैलेंट हंट ‘भविष्‍य का नेता’ चुनने के लिए आयोजित हुआ था। तब उनकी उम्र महज 22 साल थीं।

यह भी पढ़ें : मोदी 2.0 सरकार में 6.5 करोड़ नौकरियां के लिए इलेक्ट्रिक गाड़ियों पर होगा फोकस, एक्शन प्लान तैयार

 

राम्या गाना गाएंगी या कानून बनाएंगी 

 

 मीडिया रिपोर्ट्स के मुताबिक राम्‍या हरिदास एक साधारण परिवार से ताल्‍लुक रखती हैं। उनके पिता मजदूरी करते हैं। राम्‍या की एक और उपलब्‍ध‍ि यह है कि वह केरल से चुनी गई अब तक की दूसरी दलित महिला सांसद हैं। राम्‍या सिर्फ अच्‍छी नेता ही नहीं, बल्‍क‍ि बहुत ही अच्‍छी सिंगर भी हैं। चुनाव प्रचार के दौरान वह गाना गाती थीं। उनकी इस कला का तब राजनीतिक गलियारे में मजाक भी बनाया गया था।  सांसद बनने से पहले कोझिकोड म्युनसिपाल्टी की प्रमुख रहीं राम्‍या पर विरोध‍ियों ने खूब निशाना साधा। कहा गया कि वह या तो गाना गा ले, या चुनाव लड़ लें। यही नहीं, कुछ ने तो मजाक उड़ाते हुए यह भी कहा कि राम्‍या गाना गाएंगी या संसद में कानून बनाएंगी। दिलचस्‍प है कि राजनेता के इस निगेटिव प्रचार की राम्‍या को फायदा ही मिला। मजेदार बात यह है कि राम्‍या ने अपनी जीत का जश्‍न भी गाना गाकर ही मनाया। बता दें कि केरल की 20 लोकसभा सीटों में से 19 पर कांग्रेस गठबंधन ने जीत हासिल की है।

यह भी पढ़ें : इसरो भी बनेगा व्यापारी, सेटेलाइट कारोबार के लिए कंपनी बनाई, विदेश से कमाई का मकसद

prev
next
मनी भास्कर पर पढ़िए बिज़नेस से जुड़ी ताज़ा खबरें Business News in Hindi और रखिये अपने आप को अप-टू-डेट
विज्ञापन
विज्ञापन