Home »Economy »Policy» Primary Article Become Cheaper And Food Items Prices Surges

प्राइमरी आइटम्स सस्ते होने से थोक महंगाई घटकर हुई 5.70%, खाद्य पदार्थ हुए महंगे

प्राइमरी आइटम्स सस्ते होने से थोक महंगाई घटकर हुई 5.70%, खाद्य पदार्थ हुए महंगे
 
नई दिल्‍ली. फाइनेंशियल ईयर के अंतिम महीने मार्च में होलसेल प्राइस इंडेक्‍स (थोक महंगाई) में फरवरी के मुकाबले कमी दर्ज की गई है, जो 6.55 फीसदी से घटकर 5.70 फीसदी पर आ गई। थोक महंगाई का यह स्‍तर पिछले साल मार्च के मुकाबले भी 0.45 फीसदी कम है। हालांकि इसकेे 5.86 फीसदी के स्तर पर रहनेे का अनुमान लगाया जा रहा था। इसमें जहां प्राइमरी आइटम में होलसेल महंगाई घटी है तो खाद्य पदार्थों का होलसेल प्राइस बढ़ा है। मार्च में फूड इन्‍फ्लेशन 2.69 फीसदी से बढ़कर 3.12 फीसदी रहा है।  
 
फ्यूल इन्‍फ्लेशन में गिरावट
मार्च 2017 में फ्यूल इन्‍फ्लेशन में अच्‍छी-खासी गिरावट दर्ज की गई है। यह फरवरी में 21.02 फीसदी के मुकाबले घटकर 18.16 पर आ गई। इसके साथ ही मैन्‍यूफैक्‍चरिंग आइटम्‍स की थोक महंगाई दर फरवरी में 3.66 फीसदी थी जो मार्च में घटकर 2.99 फीसदी पर पहुंच गई है।
 
खाद्य वस्‍तुएं हुई महंगी
सेामवार को जारी किए गए आंकड़ों के अनुसार खाद्य पदार्थों की थोक महंगाई दर में बढ़ोतरी हुई है। यह 2.69 फीसदी से बढ़कर 3.12 फीसदी पर पहुंच गई है। इसमें सब्जियों पर रही महंगाई का असर रहा। सब्जियों की थोक महंगाई 5.70 फीसदी पर ही रही। वहीं, फलों की थोक महंगाई भी 7.62 फीसदी रही। इसके साथ ही अंडे, मीट और मछली की थोक महंगाई दर 3.12 फीसदी के स्‍तर पर रही।
 
रिटेल महंगाई 4.5 फीसदी रहने की उम्‍मीद
रिपोर्ट में मौजूदा फाइनेंशियल ईयर 2017-18 की पहली छमाही में रिटेल महंगाई 4.5 फीसदी रहने की संभावना है। जबकि, दूसरी छमाही में यह स्‍तर 5 फीसदी रहने की उम्‍मीद है। पिछले दिनों मार्च में खाद्य पदार्थों में आई महंगाई के कारण रिटेल महंगाई 5 महीने के उच्‍चतम स्‍तर 3.81 फीसदी पर थी। 
 

Recommendation

    Don't Miss

    NEXT STORY