• Home
  • what is stagflation and why India needs to be aware of it

इकोनॉमी /स्टैगफ्लेशन से सचेत रहने की जरूरत, बड़ी अर्थव्यवस्थाओं को उभरने में लगता है ज्यादा वक्त  

  • स्टैगफ्लेशन की स्थिति में महंगाई और बेरोजगारी दोनों साथ में बढ़ती हैं
  • पूर्व प्रधानमंत्री मनमोहन सिंह ने स्टैगफ्लेशन को लेकर सचेत रहने की हिदायत दी है

Moneybhaskar.com

Nov 19,2019 06:30:33 PM IST

नई दिल्ली. देश के पूर्व प्रधानमंत्री और अर्थशास्त्री मनमोहन सिंह ने हाल ही में कहा था कि हालांकि देश अभी स्टैगफ्लेशन का शिकार नहीं हुआ है, लेकिन इस तरफ ध्यान देने की जरूरत है। स्टैगफ्लेशन एक ऐसी स्थिति है जिसमें महंगाई और बेरोजगारी दोनों साथ में बढ़ती हैं। मनमोहन सिंह ने कहा कि स्टैगफ्लेशन की स्थिति न आए इसकी तैयारी करनी चाहिए।

1980 के दशक में बना टर्म

यह टर्म अमेरिकी अर्थशास्त्री पॉल सैमुअलसन ने बनाया था। अमेरिका में 1970 और 1980 के दशक में महंगाई और बेरोजगारी के एकसाथ बढ़ने की स्थिति को परिभाषित करने के लिए यह शब्द बनाने पर उन्हें अर्थशास्त्र का नोबेल पुरस्कार दिया गया। 1973 में अमेरिका में महंगाई दर दोगुने से भी अधिक होकर दिसंबर में 8.7 फीसदी हो गई थी। 1980 में ये बढ़कर 14 फीसदी हो गई।

किन कारणों से होता है स्टैगफ्लेशन

लाइवमिंट की खबर के मुताबिक, अमेरिका में स्टैगफ्लेशन 1974 से शुरू होकर 80 के दशक के शुरुआती वर्षों में खत्म हुआ। यह सप्लाई शॉक्स की सीरीज के बाद शुरू हुआ, जिसमें तेल की बढ़ती कीमतें और विस्तारवादी मॉनिटरी पॉलिसी शामिल थी, खासतौर से 1971-73 के बीच। इससे महंगाई बढ़ने की संभावना मजबूत हुई। इससे बेराेजगारी और महंगाई के बीच संबंध पलट गया। महंगाई और बेरोजगारी दोनों साथ-साथ बढ़ने लगी।

भारतीय अर्थव्यवस्था को मजबूत करने की जरूरत

मनमोहन सिंह ने कहा कि भारतीय अर्थव्यवस्था फिलहाल अनिश्चितता की स्थिति में है। लोगों की आय नहीं बढ़ रही है, घरेलू खपत कम हो रही है और लोग अपनी सेविंग्स में से खर्च कर कर रहे हैं, जबकि खान-पान की चीजों की कीमतें तेजी से बढ़ रही हैं। स्टैगफ्लेशन का खतरा तभी बढ़ेगा जब महंगाई अनियंत्रित हो जाएगी। बड़ी अर्थव्यवस्थाओं के लिए इससे निपटना मुश्किल होता है।

X

Money Bhaskar में आपका स्वागत है |

दिनभर की बड़ी खबरें जानने के लिए Allow करे..

Disclaimer:- Money Bhaskar has taken full care in researching and producing content for the portal. However, views expressed here are that of individual analysts. Money Bhaskar does not take responsibility for any gain or loss made on recommendations of analysts. Please consult your financial advisers before investing.