Home »Economy »Policy» Hydro Power Plants May Effected Due To Low Water Level In Reservoirs

जलाशयों में पानी की कमी से बंद हुए 30 हाइड्रो पावर प्लांट, बिजली का शुरू हो सकता है संकट

 
 
नई दिल्‍ली। बढ़ती गर्मी के कारण जलाशयों में पानी की कमी होने लगी है, जिससे हाइड्रो पावर प्‍लांट प्रभावित होने लगे हैं। अब तक 30 से अधिक हाइड्रो पावर प्‍लांट्स का प्रोडक्‍शन ठप हो चुका है। इसके चलते बिजली संकट के आसार बन गए हैं। पावर मिनिस्‍ट्री ने राज्‍यों को आगाह किया है कि बिजली की बढ़ती डिमांड को देखते बिजली का इंतजाम कर लें। पावर मिनिस्‍ट्री का अनुमान है कि इस साल देश की पावर डिमांड 1 लाख 65 हजार मेगावाट के रिकॉर्ड लेवल पर पहुंच जाएगी, ऐसे में राज्‍य सरकारों को अतिरिक्‍त इंतजाम करने होंगे।
 
इन प्‍लांट्स पर पड़ा असर
 
सेंट्रल इलेक्ट्रिसिटी अथॉरिटी की ताजा रिपोर्ट के मुताबिक, हिमाचल प्रदेश का नाथपा झाखड़ी, प्रभाती, संजय व रामपुर, जम्‍मू कश्‍मीर का चुटक व सलाल, पंजाब के मुकेरियान, राजस्‍थान का माही बजाज व आरपी सागर, उत्‍तराखंड का टनकपुर, धोलीगंगा व  मनेरी भाली, उत्‍तर प्रदेश के रिहंद, तेलंगाना का पुचामपद व प्रियादर्शनी जुलाला, कर्नाटक के कालीनदी व कादरा, सिक्किम का चुजाचेन, रनगित व तीस्‍ता, पश्चिम बंगाल का रमाम व तीस्‍ता, बीबीएमबी भाखड़ा आदि प्रमुख पावर प्‍लांट बंद पड़े हैं।
 
कितना है हाडड्रो पावर जनरेशन
 
देश में हाइड्रो प्‍लांट्स से लगभग 44478 मेगावाट पावर जनरेशन होता है, जो कुल जनरेशन का 15 फीसदी के लगभग है। बावजूद इसके, इन हाडड्रो प्‍लांट्स की महत्‍ता इसलिए अधिक होती है, क्‍योंकि हाइड्रो पावर न केवल सस्‍ती होती है, बल्कि इन प्‍लांट्स का लोड फैक्‍टर (पीएलएफ) भी अधिक होता है। पीएलएफ से आशय है कि प्‍लांट द्वारा कैपेसिटी के मुकाबले जनरेशन करना है। यानी कि, हाइड्रो प्‍लांट्स की जितनी कैपेसिटी होती है, उसके आसपास ही जनरेशन करते हैं, जबकि थर्मल प्‍लांट्स अपनी कैपेसिटी से 35 से 45 फीसदी तक ही जनरेशन कर पाते हैं।
 
इन जलाशयों में घटा वाटर लेवल
 
बढ़ती गर्मी की वजह से अधिकतर जलाशयों में वाटर लेवल घटता जा रहा है। भाखड़ा में वाटर लेवल की कैपेसिटी 513 मीटर है, लेकिन अभी वहां का वाटर लेवल 465 मीटर तक पहुंच गया है, इसी तरह टिहरी का वाटर लेवल 829 मीटर से घटकर 757 मीटर तक पहुंच गया है। इसी तरह आरपी सागर का 352 से घटकर 342 मीटर, सरदार सरोवर का 138 से घटकर 120 मीटर रह गया है। एक्‍सपर्ट्स का कहना है कि अभी वाटर लेवल और कम होगा, जिसका असर हाइड्रो प्‍लांट्स पर पड़ेगा। 
 
यह भी है वजह
 
जलाशयों में पानी की कमी के अलावा भी कुछ और वजह हैं, जिनके कारण ये प्‍लांट्स पावर जनरेशन नहीं कर पा रहे हैं। कई प्‍लांट्स एनुअल मेंटिनेंस की वजह से भी बंद पड़े हैं तो कई प्‍लांट्स को रिजर्व शटडाउन की वजह से बंद करना पड़ा है। एनुअल मेंटिनेंस की वजह से बंद पड़े हाइड्रो पावर प्‍लांट्स में राजस्‍थान का जवाहर नगर हाइड्रो प्‍लांट, गुजरात का सरदार सरोवर, मध्‍यप्रदेश का वनसागर, तमिलनाडु के तीन बड़े हाइड्रो प्‍लांट, नागालैंड का डोयंग हाइड्रो पावर प्‍लांट बंद पड़ा है।
 
 

और देखने के लिए नीचे की स्लाइड क्लिक करें

Recommendation

    Don't Miss

    NEXT STORY