विज्ञापन
Home » Economy » PolicyMON ECN POLI the pilot said this is the last journey of the flight people are passionate

जेट एयरवेज / पायलट ने कहा - यह इस फ्लाइट का आखिरी सफर है, सुनकर लोग हुए भावुक

कई महीनों से बिना वेतन कर रहे थे काम, 20 हजार कर्मचारियों के सामने रोजगार का संकट

MON ECN POLI the pilot said this is the last journey of the flight people are passionate
  • जेट एयरवेज की अमृतसर- दिल्ली की आखिरी फ्लाइट भी हुई बंद।
  • लोगों की आखों में तैरी जेट एयरवेज के संग की गई यात्राओं की यादें। 

नई दिल्ली. यह कंपनी की आखिरी फ्लाइट है। अब हम कभी उड़ान नहीं भर सकेंगे। जैसे ही पायलट मोहित कुमार ने यह अनाउंस किया तो सबकी आंखे नम हो गईं। लोग भावुक हो गए। उनकी यादों में कंपनी की फ्लाइट से किए गए यात्राओं के पुराने किस्से हवा में तैर गए। वो किस्से जो सरकारी एयरलाइंस के बाद देश में शुरू हुई प्राइवेट एयरलाइंस से यात्रा करने के अनुभव से जुड़े थे। देश में ही किसी विदेशी फ्लाइट के अहसासों वाले किस्से। थोड़ी ही देर में क्रू मेंबर्स के साथ फोटो खिंचवाने की होड़ मच गई। लोग नम आंखों से उन्हें सांत्वना भी दे रही थे। जबकि क्रू मेंबर्स आंखों में आंसू लिए कंपनी के साथ जुड़े अपने अनुभव और परिवार पर आई आर्थिक तंगी के हालात बयां कर रहे थे। 

 

आखिरी फ्लाइट के सफर की दास्तां 

 

भावुक दिलों के बीच जेट एयरवेज की बुधवार को अमृतसर से दिल्ली आने वाली आखिरी फ्लाइट की यह दास्तां है। अमृतसर से जेट की आखिरी फ्लाइट पायलट मोहित कुमार ने उड़ाई। लुधियाना के अश्विन भगत और उनके बेटे आशीष इसी फ्लाइट में थे। आशीष ने बताया कि ज्यादातर यात्रियों को पता था कि यह जेट की आिखरी फ्लाइट है। जिन्हें नहीं पता था, वे जानकर भावुक हो गए। सभी ने क्रू-मेंबर्स के साथ फोटो खिंचवाए। कुछ क्रू-मेंबर्स की आंखों में आंसू थे। कई महीनों से सैलरी नहीं मिलने के बावजूद वे यात्रियों के साथ अच्छा बर्ताव कर रहे थे। 

 

यह भी पढ़ें - जेट से बैंकों को बड़ा नुकसान होना तय, हमें मिलेगा महंगा कर्ज


बच्चों की स्कूल से लेकर इलाज तक के लिए संकट 

 

जेट एयरवेज में करीब 20 हजार कर्मचारी हैं। इन्हें चार माह से वेतन नहीं मिला है। एयरलाइंस बंद होने के साथ ही इनके सामने रोजी-रोटी का संकट खड़ा हो गया है। बच्चों की स्कूल फीस, लोन की किस्त, बीमार परिजनों का इलाज जैसे अनेकों दिक्कतें इनके सामने खड़ी हैं। इतनी बड़ी संख्या में लोगों को दूसरी हवाई कंपनियों में काम मिलना मुश्किल है। कई कर्मचारी तो 16-20 सालों से जेट में ही काम कर रहे थे। अब काफी अनुभवी लोग भी आधी सैलरी पर दूसरी जगह नौकरी करने को तैयार हैं। इंडस्ट्री सूत्रों के अनुसार बजट एयरलाइन स्पाइसजेट ने जेट के पायलटों को 25-30 फीसदी कम और इंजीनियरों को 50 फीसदी तक कम वेतन में नौकरी का प्रस्ताव दिया है। जेट का औसत वेतन दूसरी एयरलाइंस से बेहतर ही रहा है। जेट से जुड़े एक सीनियर अधिकारी ने कहा कि 4-5 साल अनुभव वाले पायलट दूसरी एयरलाइंस में जा रहे हैं, क्योंकि जेट में वेतन में देरी के कारण वह तकलीफ में हैं।

यह भी पढ़ें - बड़ी नाकामयाबी / मोदी सरकार के कार्यकाल में नोटबंदी के बाद 50 लाख नौकरियां गईं

prev
next
मनी भास्कर पर पढ़िए बिज़नेस से जुड़ी ताज़ा खबरें Business News in Hindi और रखिये अपने आप को अप-टू-डेट
विज्ञापन
विज्ञापन