विज्ञापन
Home » Economy » PolicyThe country's first smart polling booth in the cleanest city, 12 types of facilities are available to the voters.

अनूठा प्रयोग / सबसे स्वच्छ शहर में देश का पहला स्मार्ट पोलिंग बूथ, 12 प्रकार की सुविधाएं मिल रही हैं वोटर्स को

इंदौर में बने इस बूथ में वोटर्स को लुभाने के लिए एसी हॉल के साथ चाय, कॉफी, छाछ आदि की व्यवस्था

The country's first smart polling booth in the cleanest city, 12 types of facilities are available to the voters.

नई दिल्ली. लोकसभा चुनाव के आखिरी चरण के लिए रविवार को 59 सीटों पर मतदान हो रहा है। इन्हीं में से एक सीट पूर्व विधानसभा अध्यक्ष सुमित्रा महाजन की इंदौर है। यहां वे भले ही इस बार चुनाव नहीं लड़ रही है लेकिन देश में इंदौर की चर्चा जरूर है।  देश में लगातार तीन साल तक सफाई में नंबर वन आने वाले इंदौर में एक अनूठा प्रयोग हुआ है। यहां देश का पहला स्मार्ट  पोलिंग बूथ बनाया गया है।  भीषण गर्मी में शत-प्रतिशत मतदान के लिए चुनाव आयोग ने नया प्रयोग करते हुए इंदौर के मतदान केंद्र नंबर 215 (जाल सभागृह) कंचनबाग को वातानुकूलित बनाया है। 

यह भी पढ़ें : देश की पहली बुलेट ट्रेन में नौकरी करनी है तो जापानी भाषा जानना जरूरी, 4 जून तक नौकरी के कर सकते हैं आवेदन

 


इन सुविधाओं ने खींचा ध्यान 


यहां दिव्यांग-दृष्टिहीन व बुजुर्ग मतदाताओं को लाने व छोड़ने के लिए दो पहिया व चार पहिया वाहनों की सुविधा रखी गई है।  मतदाताओं के लिए रेड कारपेट बिछाया गया है। इंतजार की स्थिति में बैठने के लिए सौ से अधिक कुर्सियां भी लगाई गई हैं। पूरे बूथ को स्लोगन व रंगीन गुब्बारों से सजाया गया है। दृष्टिहीन मतदाताओं को असुविधा न हो, इसके लिए हर टेबल पर ब्रेल लिपि में निर्देश लिखे गए हैं।

यह भी पढ़ें : रिटायरमेंट के 20 दिन के भीतर करना होगा क्लेम निपटारा, जल्द शुरू हो सकेगी पेंशन

 

आईएमए की पहल से आकार ले सका ऐसा पोलिंग बूथ

 

इंदौर मैनेजमेंट एसोसिएशन, नगर निगम व जिला प्रशासन के सहयोग से यह बूथ बनाया गया है। आईएमए के अध्यक्ष संतोष मुछाल ने बताया इंदौर स्मार्ट सिटी है इसलिए इस बूथ को भी स्मार्ट बूथ बनाया गया है।  यह देश का पहला वातानुकूलित स्मार्ट पोलिंग बूथ होगा। हमारी कोशिश रहे कि हर एक मतदाता को वोट कराएं।  मतदाताओं को लुभाने के लिए चाय, कॉपी, छाछ आदि की व्यवस्था की गई है। 

यह भी पढ़ें : मोदी सरकार ने बिल्डरों और उद्योगपतियों के लिए खोले दरवाजे, 50 हजार वर्गमीटर तक पर्यावरण की मंजूरी की जरूरत नहीं

prev
next
मनी भास्कर पर पढ़िए बिज़नेस से जुड़ी ताज़ा खबरें Business News in Hindi और रखिये अपने आप को अप-टू-डेट
विज्ञापन
विज्ञापन
Don't Miss