बिज़नेस न्यूज़ » Economy » Policyडिफॉल्टर अकाउंट्स को रिकैप प्लान से लिंक कर सकता है RBI, तीसरी लिस्ट की तैयारी

डिफॉल्टर अकाउंट्स को रिकैप प्लान से लिंक कर सकता है RBI, तीसरी लिस्ट की तैयारी

आरबीआई संकट में फंसी कंपनियों की तीसरी लिस्ट तैयार करने की कवायद के तहत 40-50 अकाउंट्स की लिस्ट पर काम कर रहा है।

1 of

 

नई दिल्ली. रिजर्व बैंक ऑफ इंडिया (आरबीआई) संकट में फंसी कंपनियों की तीसरी लिस्ट तैयार करने की कवायद के तहत 40-50 अकाउंट्स की लिस्ट पर काम कर रहा है। इंडस्ट्री के एक सोर्स ने न्यूज एजेंसी कोजेन्सिस से कहा कि इस लिस्ट को पब्लिक सेक्टर के बैंकों के पास भेजा जाएगा और इस पर कार्रवाई को रिकैपिटलाइजेशन के साथ लिंक कर दिया जाएगा।

 

 

13 दिसंबर तक करना है रिजॉल्युशन

इससे पहले आरबीआई ने जून में 12 अकाउंट्स और अगस्त में 29 अकाउंट्स की पहचान की थी, जिसे नेशनल कंपनी लॉ ट्रिब्यूनल के पास भेजा गया था। दूसरी लिस्ट के मामले में आरबीआई ने बैंकों को एक रिजॉल्युशन पर पहुंचने के लिए 13 दिसंबर तक का समय दिया था, जिसमें नाकाम रहने पर इन मामलों को ट्रिब्यूनल के पास भेजा जाएगा।

 

 

जारी होगी तीसरी लिस्ट

सूत्र ने कहा, 'तीसरी लिस्ट के लिए भी यही प्रोसेस अपनाया जाएगा। यह लिस्ट 2016-17 के लिए तय सभी बैंकों के एएफआई (एनुअल फाइनेंशियल इंस्पेक्शन) पर आधारित कर्ज के वास्ते स्टैंडर्डाइजिंग ट्रीटमेंट पर आधारित है। इससे सुनिश्चित होगा कि सभी लेंडर्स इन अकाउंट्स के लिए सामने आएं और एक यूनिफॉर्म रिजॉल्युशन प्लान तैयार करें।'

 

स्ट्रेस्ड अकाउंट्स से बैंकों के प्रॉफिट और कैपिटल पर प्रेशर बढ़ा है, क्योंकि उन्हें 50 प्रतिशत सिक्योर्ड एक्सपोजर उपलब्ध कराने और 100 प्रतिशत अनसिक्योर्ड एक्सपोजर को एनसीएलटी के पास भेजने के लिए कहा है।

 

 

पहली लिस्ट में मिला है तीन क्वार्टर का वक्त

पहली लिस्ट के मामले में आरबीआई ने बैंकों को अपने प्रोविजंस को परिशोधित करने के लिए तीन क्वार्टर का समय दिया, क्योंकि लोन काफी ज्यादा था। एक अन्य रिपोर्ट के मुताबिक बैंकों को दूसरी लिस्ट के अकाउंट्स के लिए अपने प्रोविजंस में बढ़ोत्तरी करने और अपनी प्रोविजनिंग 31 मार्च तक पूरी करने के लिए कहा था।

 

prev
next
मनी भास्कर पर पढ़िए बिज़नेस से जुड़ी ताज़ा खबरें Business News in Hindi और रखिये अपने आप को अप-टू-डेट