विज्ञापन
Home » Economy » PolicyPakistani media discussing who to become finance minister in modi govt

कयास / भारत के अगले वित्त मंत्री को लेकर पाकिस्तानी मीडिया में मंथन, जेटली या गोयल को बताया अगला वित्त मंत्री

जेटली के वित्त मंत्री बनने की प्रबल संभावना लेकिन सेहत के साथ नहीं देने पर गोयल संभाल सकते हैं वित्त मंत्रालय

Pakistani media discussing who to become finance minister in modi govt
  • पाकिस्तानी मीडिया में कयास लगाए जा रहे हैं कि भारत का अगला वित्त मंत्री कौन होगा।
  • जेटली की गैरमौजूदगी में गोयल रह चुके हैं वित्त मंत्री।
  • पिछला अंतरिम बजट भी गोयल ने ही पेश किया था।

मनी भास्कर। नई दिल्ली.

भारतीय मीडिया से ज्यादा पाकिस्तानी मीडिया भारत के अगले वित्त मंत्री को लेकर चिंतित है। पाकिस्तानी मीडिया में इस बात को लेकर खूब चर्चा चल रही है कि भारत का अगला वित्त मंत्री कौन होगा। हालांकि भारत में अभी देश के अगले वित्त मंत्री को लेकर कयास का दौर शुरू नहीं हुआ है। 23 मई को लोक सभा चुनाव 2019 के परिणाम की घोषणा के बाद ही कौन बनेगा मंत्री जैसे सवालों पर चर्चा शुरू होगी। अभी तो भारत में किसकी बनेगी सरकार पर ज्यादा चर्चा चल रही है। लेकिन पाकिस्तानी मीडिया ने यह मान लिया है कि प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी फिर से भारत के प्रधानमंत्री बनने जा रहे हैं। यही वजह है कि पाकिस्तानी मीडिया में इस बात को लेकर चर्चा नहीं है कि कौन बनेगा भारत का अगला प्रधानमंत्री, बल्कि इस बात के कयास लगाए जा रहे हैं कि भारत का अगला वित्त मंत्री कौन होगा। पाकिस्तान के प्रमुख अखबार डॉन में छपी खबर के मुताबिक वित्त मंत्री अरुण जेटली फिर से भारत के वित्त मंत्री बन सकते हैं। लेकिन साथ में पाकिस्तानी अखबार डॉन में यह भी चर्चा चल रही है कि अगर जेटली की तबियत ठीक नहीं रही और उनके स्वास्थ्य ने साथ नहीं दिया तो रेलवे मंत्री पीयूष गोयल को वित्त मंत्री का पद दिया जा सकता है।

 

अर्थव्यवस्था को आगे ले जाने वाले व्यक्ति को मिलेगा कार्यभार

डॉन में छपी खबर में कहा गया है कि मोदी किसी ऐसे व्यक्ति को वित्त मंत्रालय की जिम्मेदारी देना चाहेंगे जो बिना कर्ज बढ़ाए अर्थव्यवस्था को आगे ले जाने में सक्षम हो। अखबार में कहा गया है कि भारत 2018 के अंत में भारतीय अर्थव्यवस्था की विकास दर 6.6 पर सिमट गई है। ग्रामीण उपभोग में कमी एवं फ्यूल के दाम में धीरे-धीरे होने वाली बढ़ोतरी से भारत की आर्थिक स्थिति और खराब हो सकती है।

 

अरुण जेटली

डॉन में कहा गया है कि जेटली मोदी कैबिनेट के ऐसे मंत्री है जो सरकार की दिक्कतों को दूर करने में अक्सर प्रमुख भूमिका अदा करते हैं। पिछले पांच सालों में जेटली ने बीस साल से अटके पड़े जीएसटी कानून को बनवाने के साथ सरकार के प्रमुख आर्थिक अजेंडा को आगे ले जाने में अहम किरदार निभाया है। वहीं जेटली ने तीन तलाक जैसे मुद्दों पर भी सरकार का पुरजोर साथ दिया और उनके लिए वकालत की। डॉन ने लिखा है कि 66 साल के जेटली सत्ताधारी एवं विपक्ष दोनों पार्टियों के सांसदों से काफी अच्छे संबंध रखते हैं और उन्हें संसद में और संसद के बाहर एक अच्छे वक्ता के रूप में जाना जाता है। जेटली की महत्ता का अंदाजा इस बात से लगाया जा सकता है कि मोदी ने उन्हें तीन मंत्रालयों की जिम्मेदारी दी थी। डॉन में छपी खबर में कहा गया है कि मधुमेह से पीड़ित जेटली इस साल फरवरी में अंतरिम बजट पेश नहीं कर पाए थे। उस दौरान वह अमेरिका के अस्पताल में कैंसर का इलाज करा रहे थे। अखबार में कहा गया है कि पिछले साल मई में जेटली की किडनी का ट्रांसप्लांट किया गया था।

 

पीयूष गोयल

डॉन ने कहा है कि 54 साल के रेलवे मंत्री पीयूष गोयल को भविष्य के वित्त मंत्री के रूप में तैयार किया जा रहा है। मोदी सरकार के कार्यकाल के दौरान जेटली की गैरहाजिरी में गोयल ने दो बार वित्त मंत्री की भूमिका निभायी है। गोयल भारत के सबसे बड़े बैंक भारतीय स्टेट बैंक एवं बैंक ऑफ बड़ौदा के बोर्ड में भी रह चुके हैं। पेशे से चार्टर्ड एकाउंटेंट रह चुके गोयल ने फरवरी में अंतरिम बजट पेश किया था और उन्होंने इस बात की वकालत की थी कि भारतीय जनता पार्टी के फिर से सरकार में आने पर सैलरी क्लास वाले टैक्सपेयर्स को टैक्स में और राहत दी जाएगी। हालांकि यह भी कहा जा रहा है कि कौन बनेगा वित्त मंत्री, यह ज्यादा महत्वपूर्ण इसलिए नहीं है क्योंकि बड़े फैसले प्रधानमंत्री कार्यालय से होते हैं।

 

23 मई को देखिए सबसे तेज चुनाव नतीजे भास्कर APP पर

prev
next
मनी भास्कर पर पढ़िए बिज़नेस से जुड़ी ताज़ा खबरें Business News in Hindi और रखिये अपने आप को अप-टू-डेट
विज्ञापन
विज्ञापन