विज्ञापन
Home » Economy » PolicyOnline beggar in UAE makes 35 lakhs in 17 days

धोखाधड़ी का नया तरीका / 17 दिनों में ऑनलाइन भीख मांगकर कमा लिए 35 लाख रुपए

पूर्व पति ने ही खोली पोल, महिला को पुलिस ने गिरफ्तार किया

Online beggar in UAE makes 35 lakhs in 17 days

नई दिल्ली. फेसबुक, ट्विटर और इंस्टाग्राम जैसी सोशल साइट्स पर एक भावुक और दुखभरी कहानी गढ़कर एक महिला ने ऑनलाइन भीख मांगी। लोगों का भी दिल पसीजा और महज 17 दिनों में 50 हजार डॉलर (35 लाख रुपए)  की भीख दे दी। लेकिन पूर्व पति ने महिला की महिला की पोल खोल दी। इसके चलते अब महिला जेल की सलाखों के पीछे है। 

खलीज टाइम्स की रिपोर्ट के अनुसार दुबई पुलिस के आपराधिक जांच विभाग के निदेशक ब्रिगेडियर जमाल अल सलेम अल जल्लाफ ने कहा कि महिला ने ऑनलाइन खाते खोलकर और अपने बच्चों की तस्वीरों साझा करते हुए उनके लालन पालन के लिए भीख मांगी। ब्रिगेडियर अल जल्लाफ ने कहा, "वह लोगों को सोशल मीडिया पर बता रही थी कि वह तलाकशुदा है और अपने बच्चों के लिए पैसे की जरूरत है। लेकिन उसके पूर्व पति ने पुलिस को ई-क्राइम प्लेटफॉर्म के जरिए सूचित किया और साबित किया कि बच्चे उसके साथ रह रहे थे।"  

 

पति को रिश्तेदारों के जरिए चला भीख का पता 


महिला ने बच्चों की तस्वीरों का इस्तेमाल कई रिश्तेदारों और दोस्तों के साथ भीख मांगने के लिए किया था। उन्हीं रिश्तेदारों ने पति को इस बारे में बताया। पति के मुताबिक महिला ने उनके बच्चों को बदनाम कर प्रतिष्ठा को नुकसान पहुंचाया है। 

यह भी पढ़ें : कारोबार की तरह करते हैं खेती, इंच-इंच जमीन से कमाते हैं मुनाफा, 30 लाख रुपए का आईटीआर भरा

 

भिखारियों से नहीं रखें सहानुभूति, हो सकती है जेल 

 

ब्रिगेडियर अल जल्लाफ ने कहा कि लोग बीमारी या विकलांगता का बहाना करके या लोगों की उदारता का फायदा उठाने के लिए गरीबी के नाम पर मदद मांगते हैं। जल्लाफ ने लोगों से सड़कों पर या सोशल मीडिया पर भिखारियों के साथ सहानुभूति नहीं रखने का आग्रह किया। पुलिस के मुताबिक ऑनलाइन चैनलों के माध्यम से भीख माँगना एक अपराध है।  दुबई पुलिस के eCrime प्लेटफॉर्म के माध्यम से इस तरह के मामले पकड़े जाते हैं। जल्लाफ ने कहा कि रमजान के दौरान 128 भिखारियों को गिरफ्तार किया गया था। दुबई पुलिस के साइबर अपराध विभाग के उप निदेशक कैप्टन अब्दुल्ला अल शेही ने कहा कि ऑनलाइन चैनलों के माध्यम से भीख मांगने पर कारावास  या 250,000 से 50,000 दिरहम का जुर्माना है। 

यह भी पढ़ें : बच्चे की उम्र 15 साल हो जाने पर फिर से कराना होती है बायोमेट्रिक पहचान

 

क्राउंड फंडिंग की वजह से अपनाया ऑनलाइन भीख का तरीका 

 

भारतीय चुनाव में जेएनयू के पूर्व छात्र कन्हैया कुमार और आप नेता आतिशी समेत कई उम्मीदवारों ने ऑनलाइन प्लेटफार्म पर दान की अपील की थी। उन्हें दान मिला भी। इसी तरह, विदेशों में भी ऑनलाइन दान का चलन बढ़ा है। इसे क्राउंड फंडिंग कहा जाता है। इसी तरीके को अपनाकर महिला ने ऑनलाइन भीख की अपील की। 

 

यह भी पढ़ें : कंपनियों की छोटी सी गलती से हो गया अरबों रुपए का नुकसान, कुछ दिवालिया भी हो गईं

prev
next
मनी भास्कर पर पढ़िए बिज़नेस से जुड़ी ताज़ा खबरें Business News in Hindi और रखिये अपने आप को अप-टू-डेट
विज्ञापन
विज्ञापन