Home »Economy »Policy» Dharmendra Pradhan Also Stated That Major Associations Are Not Participating In The Closure

हर रविवार पेट्रोल पम्‍प बंद रखने के फैसले के विरोध में मिनिस्‍ट्री, कहा-लोगों को होगी परेशानी

नई दिल्‍ली. आठ राज्‍यों में 14 मई से हर रविवार को पेट्रोल पम्‍प बंद रखने के फैसले को ऑयल मिनिस्‍ट्री का सपोर्ट नहीं मिला है। पेट्रोल पम्‍प को बंद रखने वाले ज्‍यादातर राज्‍य दक्षिण भारत के थे। ऑयल मिनिस्‍ट्री का मानना है कि ऐसे फैसले से लोगों को दिक्‍क्‍तें होंगी। ये राज्‍य तमिलनाडु, केरल, कर्नाटक, पांडेचेरी, आंध्र प्रदेश, तेलंगाना, महाराष्‍ट्र और हरियाणा हैं।  पेट्रोलिमय मिनिस्‍ट्री ने ट्वीट कर स्थिति साफ की...
 
 
-पेट्रोलियम मिनिस्‍ट्री ने अपने ट्वीट @PetroleumMin में कहा है कि वह न तो इस तरह के फैसलों का समर्थन करती है, न ही ऐसे फैसलों को अप्रूव करता है।
-मिनिस्‍ट्री ने अपने ट्वीट में कहा कि पेट्रोल पम्‍प एसोसिएशन के एक छोटे से सेक्‍शन के ऐसा करने से लोगों को तकलीफ होगी। बाद में मिनिस्‍ट्री के इन ट्वीट को पेट्रोलियम मंत्री धर्मेंद्र प्रधान ने रिट्वीट भी किया।
-उन्‍होंने कहा कि बड़ी पेट्रोलियम एसोसिएशन ने ऐसे बंदी के फैसले से अपने को दूर रखा है।
 
अपील लोगों के लिए, पेट्रोल पम्‍प बंद रखने के लिए नहीं 
-प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने कुछ समय पहले अपने मन की बात कार्यक्रम में देश के लोगों से अपील की थी कि हफ्ते में एक दिन पेट्रोलियम पदार्थ की बचत करें।
-इससे देश में पेट्रोलियम पदार्थ के आयात को घटाने में मदद मिलेगी। ऑयल मिनिस्‍ट्री का कहना है कि यह अपील लोगों से है, न किपेट्रोल पम्‍प बंद रखने के लिए है।
 
कुछ संगठन बंदी के खिलाफ
 
-ऑल इंडिया पेट्रोलियम डीलर्स एसोसिएशन का कहना है कि वह इस बंदी में शामिल नहीं है। यह एसोसिएशन देश के 53224 पेट्रोल पम्‍प में करीब 80 फीसदी का प्रतिनिधित्‍व करती है।
-जिन राज्‍यों में पेट्रोल पम्‍प बंदी की घोषणा की गई है, उनमें तमिलनाडु, केरल, कर्नाटक, पुड्डुचेरी, आंध्र प्रदेश, तेलंगाना, महाराष्‍ट्र और हरियाणा शामिल हैं।  
 

Recommendation

    Don't Miss

    NEXT STORY