• Home
  • No farmer of 13 states get third tranche of PM kisan samman nidhi scheme

मनी भास्कर खास /13 राज्यों के 2.5 करोड़ में से एक किसान को भी नहीं मिली पीएम किसान योजना की तीसरी किस्त

  • 1 अगस्त से शुरू हो चुका है 2000 रुपए की किस्त का वितरण, 46 दिन बाद भी खाली है कई राज्यों के किसानों की झोली
  • देश के सबसे बड़े राज्यों में शुमार उत्तर प्रदेश के किसानों को भी मिली मायूसी

Manoj Kumar

Sep 17,2019 06:37:33 PM IST

नई दिल्ली। किसानों की आय बढ़ाने के उद्देश्य से शुरू की गई प्रधानमंत्री किसान सम्मान निधि योजना की तीसरी किस्त का वितरण 1 अगस्त से शुरू हो चुका है। प्रधानमंत्री किसान सम्मान निधि की आधिकारिक वेबसाइट ने 16 सितंबर तक तीसरी किस्त के आंकड़े सार्वजनिक कर दिए हैं। इन आंकड़ों के अनुसार, 46 दिन बीतने के बाद भी 13 राज्यों के 2,53,80,857 किसानों में से एक भी किसान को तीसरी किस्त के 2000 रुपए नहीं मिले हैं।

क्या है किसान सम्मान निधि

केंद्र की एनडीए सरकार ने लोकसभा चुनावों से पहले फरवरी में पेश किए गए अंतरिम बजट में किसानों की आय बढ़ाने के लिए प्रधानमंत्री किसान सम्मान निधि योजना का ऐलान किया था। इस योजना के तहत किसानों को एक साल में तीन समान किस्तों में 6000 रुपए दिए जा रहे हैं। योजना को 1 दिसंबर 2018 से लागू किया था। दिसंबर से मार्च के बीच पहली किस्त, अप्रैल से जुलाई के बीच दूसरी किस्त का भुगतान किया जा चुका है। जबकि अगस्त से नवंबर के बीच तीसरी किस्त का भुगतान किया जाना है। सरकार ने 1 अगस्त से लाभार्थी किसानों के खाते में 2000 रुपए ट्रांसफर करने शुरू कर दिए हैं।

इन राज्यों के एक किसान को भी नहीं मिली तीसरी किस्त

क्रम राज्य पंजीकृत किसान
1 अंडमान-निकोबार 15232
2 अरुणाचल प्रदेश 15420
3 चंडीगढ़ 415
4 दादर एवं नागर हवेली 9160
5 दिल्ली 10,633
6 गोवा 5430
7 मध्य प्रदेश 3668060
8 मेघालय 43,004
9 ओडिशा 3080553
10 पुडुचेरी 6815
11 पंजाब 1476074
12 सिक्किम 3063
13 उत्तर प्रदेश 17046998
योग 2,53,80,857

7.10 करोड़ में से 94 लाख को मिली तीसरी किस्त

वेबसाइट पर जारी आंकड़ों के अनुसार, प्रधानमंत्री किसान सम्मान निधि योजना के तहत अभी तक देश के सभी 36 राज्यों से 7,10,22,419 किसानों का पंजीकरण शुरू हो चुका है। तीसरी किस्त वितरण के 46 दिन बीतने के बाद भी केवल 94,88,363 किसानों के खाते में ही रुपया ट्रांसफर हो पाया है। यह राशि 23 राज्यों के किसानों के खाते में ही ट्रांसफर हुई है।

किस राज्य में किसकी सरकार

जिन 13 राज्यों के एक भी किसान को पीएम किसान सम्मान निधि की तीसरी किस्त नहीं मिली है उसमें चार राज्य ऐसे हैं जहां पर भाजपा या उसके समर्थन की सरकार है। इनमें राजनीतिक लिहाज से देश का सबसे बड़ा उत्तर प्रदेश भी शामिल है। उत्तर प्रदेश में मौजूदा समय में भाजपा के योगी आदित्यनाथ मुख्यमंत्री हैं और यहां से पंजीकृत 1.70 करोड़ किसानों में से किसी को भी किसान सम्मान निधि की तीसरी किस्त नहीं मिली है। इसके अलावा भाजपानीत अरुणाचल प्रदेश और गोवा के किसान भी अभी तक तीसरी किस्त से वंचित हैं। जबकि भाजपा समर्थित मेघालय में भी एक भी किसान को तीसरी किस्त के 2000 रुपए नहीं मिले हैं। जिन राज्यों के एक भी किसान को तीसरी किस्त नहीं मिली है उसमें पांच केंद्र शासित, 2 कांग्रेस शासित और 2 में अन्य पार्टियों की सरकार है।

लक्षद्वीप और पश्चिम बंगाल से कोई पंजीकरण नहीं

वेबसाइट पर जारी आंकड़ों के अनुसार दो राज्यों लक्षद्वीप और पश्चिम बंगाल इस योजना में कोई रूचि नहीं ले रहे हैं। इन दोनों राज्यों ने अभी तक अपने पात्र किसानों की सूची नहीं भेजी है। यही कारण है कि इन दोनों राज्यों से एक भी किसान का अभी तक पंजीकरण नहीं हुआ है। वहीं दिल्ली और सिक्किम राज्यों के किसानों को अभी तक एक भी किस्त का रुपया नहीं मिला है। दिल्ली से 10,633 और सिक्किम से 3063 किसानों का पंजीकरण हुआ है।

दूसरी किस्त का भी बुरा हाल

सरकारी आंकड़ों के अनुसार, पीएम किसान सम्मान निधि योजना में अभी तक सात करोड़ से ज्यादा किसानों का पंजीकरण हो गया है। इनमें से करीब 3 करोड़ 83 लाख किसानों के खाते में ही दूसरी किस्त के 2000 रुपए ट्रांसफर हुए हैं। आंकड़ों के अनुसार, उत्तर प्रदेश के 1 करोड़ 8 लाख, महाराष्ट्र के 20 लाख, राजस्थान के 22 लाख, गुजरात के 38 लाख और आंध्र प्रदेश के 33 लाख किसानों को दूसरी किस्त ट्रांसफर हुई है।

X

Money Bhaskar में आपका स्वागत है |

दिनभर की बड़ी खबरें जानने के लिए Allow करे..

Disclaimer:- Money Bhaskar has taken full care in researching and producing content for the portal. However, views expressed here are that of individual analysts. Money Bhaskar does not take responsibility for any gain or loss made on recommendations of analysts. Please consult your financial advisers before investing.