बिज़नेस न्यूज़ » Economy » Policyअब सिर्फ 48 घंटे में बन जाएगा पैन कार्ड, ये है ऑनलाइन बनवाने का तरीका

अब सिर्फ 48 घंटे में बन जाएगा पैन कार्ड, ये है ऑनलाइन बनवाने का तरीका

अब आपका पैन कार्ड 48 घंटे में बन जाएगा। सरकार इसके लिए जल्‍द नया सॉफ्टवेयर लाने जा रही है। इनकम टैक्‍स बिजनेस एप्‍लिकेशन-परमानेंट अकाउंट नंबर (ITBA-PAN) नाम के इस सॉफ्टवेयर की मदद से नया पैन नंबर सिर्फ 48 घंटे के भीतर जारी हो जाएगा।

1 of
 
नई दिल्‍ली. अब आपका पैन कार्ड 48 घंटे में बन जाएगा। सरकार इसके लिए जल्‍द नया सॉफ्टवेयर लाने जा रही है। इनकम टैक्‍स बिजनेस एप्‍लिकेशन-परमानेंट अकाउंट नंबर (ITBA-PAN) नाम के इस सॉफ्टवेयर की मदद से नया पैन नंबर सिर्फ 48 घंटे के भीतर जारी हो जाएगा। फिलहाल नया पैन नंबर जारी होने में 15 दिन का वक्‍त लगता है। मनी भास्कर आपको बता रहा है कि आप किस तरह ऑनलाइन पैन कार्ड बनवा सकते हैं।
 
क्या है पैन, किन कामों के लिए है जरूरी
 
- परमानेंट अकाउंट नंबर यानी पैन 10 डिजिट का एक अल्फान्यूमेरिक (अंक+अक्षर) नंबर होता है।
- यह इनकम टैक्स डिपार्टमेंट इश्यू करता है।
- आप चाहे अपना एड्रेस बदलें, यहां तक कि एक राज्य से दूसरे राज्य में जाएं तो भी पैन नंबर वही रहता है।
- इनकम टैक्स रिटर्न भरने के लिए पैन होना जरूरी है।
- अगर किसी की सालाना आमदनी टैक्सेबल है, तो उसे पैन लेना अनिवार्य है। ऐसे लोग अगर एम्प्लॉयर को पैन उपलब्ध नहीं कराते हैं तो एम्प्लॉयर उनका स्लैब रेट या 20 फीसदी में से जो ज्यादा है, उस दर से टीडीएस काट सकता है।
- इनकम टैक्सेबल नहीं है, तो पैन लेना अनिवार्य नहीं है। फिर भी बैंकिंग और दूसरी तरह के फाइनेंशियल ट्रांजैक्शन के मामलों (जैसे : बैंक अकाउंट खोलना, प्रॉपर्टी बेचना-खरीदना, इन्वेस्टमेंट करना आदि) में पैन की जरूरत होती है, इसलिए पैन सभी को ले लेना चाहिए।
 
इस तरह करें ऑनलाइन अप्लाई, इन स्टेप्स को फॉलो करें
 
> पैन कार्ड के लिए ऑनलाइन अप्लाइ किया जा सकता है।
> ऑनलाइन अप्लाइ करने के लिए आप NSDL के पोर्टल www.tin-nsdl.com पर जाकर Services पर जाएं।
> वहां PAN में Apply Online ऑप्शन में New PAN पर क्लिक करें।
 
आगे की स्लाइड में जानिए पैन कार्ड बनवाने का दूसरा तरीका...
 
तस्वीरों का इस्तेमाल केवल प्रस्तुतिकरण के लिए किया गया है।
 
 
ये है दूसरा तरीका
 
www.incometaxindia.gov.in पर जाएं।
- लेफ्ट साइड में ऊपर PAN ऑप्शन में जाकर Apply Online पर क्लिक करें।
- वहां NSDL या UTIITSL के जरिए फॉर्म भरकर जमा कर सकते हैं।
- इसमें भी फीस 96 रुपए है।
- साइट से ही क्रेडिट कार्ड/डेबिट कार्ड या नेट बैंकिंग के जरिए यह पेमेंट कर सकते हैं।
- पेमेंट हो जाने के बाद और एप्लिकेशन जमा हो जाने के बाद एकनॉलिजमेंट फॉर्म का प्रिंटआउट लेकर उस पर अपना फोटो लगाएं और साइन करें।
- साथ में सभी जरूरी दस्तावेज (देखें लिस्ट) लगाकर आपको कूरियर या स्पीड पोस्ट से NSDL/UTIITSL को भेजना होगा।
- यह ऑनलाइन अप्लाइ करने के 15 दिनों के भीतर पहुंच जाने चाहिए।
 
आगे की स्लाइड में जानिए पैन कार्ड बनवाने का तीसरा तरीका...
 
 
सर्विस सेंटर के जरिए भी कर सकते हैं अप्लाइ
 
- पैन कार्ड बनवाने के सिस्टम को बेहतर बनाने के लिए इनकम टैक्स विभाग ने यूटीआई इन्फ्रास्ट्रक्चर टेक्नॉलजी सविर्सेज लिमिटेड (UTIITSL) को ऑथराइज किया है। UTIITSL की यह जिम्मेदारी है कि वह हर उस शहर में पैन बनाने के लिए सर्विस सेंटर बनाए, जहां इनकम टैक्स का ऑफिस है। इन पैन सर्विस सेंटरों की जानकारी आप यूटीआई/यूटीआई इन्फ्रास्ट्रक्चर टेक्नॉलजी सविर्सेज लि. के ऑफिस से या लोकल इनकम टैक्स ऑफिस से हासिल कर सकते हैं।
 
- इनकम टैक्स विभाग की वेबसाइट से भी आप इन सेंटरों की जानकारी ले सकते हैं। इसके लिए www.incometaxindia.gov.in पर जाएं। लेफ्ट साइड में ऊपर PAN में जाएं। इसमें PAN Application Centres में जाकर UTIITSL पर क्लिक करें। इससे खुले पेज पर अपना राज्य और शहर भरने पर आपको पैन सर्विस सेंटरों की जानकारी मिल जाएगी। अपने नजदीक के किसी भी सेंटर पर जाएं और वहीं से फॉर्म खरीदकर अप्लाइ कर दें। इन सेंटरों पर फॉर्म भरवाने में भी मदद की जाती है। फॉर्म जमा करने के बाद रसीद जरूर लें।
 
आगे की स्लाइड में जानिए इन डॉक्युमेंट्स की होगी जरूरत...
 
 
जरूरी डॉक्युमेंट्स
 
- हाल ही में लिए गए 2 कलर फोटो।
- आइडेंटिटी प्रूफ की सेल्फ अटेस्टेड फोटो कॉपी।
- एड्रेस प्रूफ की सेल्फ अटेस्टेड फोटो कॉपी।
 
आइडेंटिटी प्रूफ के लिए
(इन दस्तावेजों में से कोई भी एक)
 
- स्कूल छोड़ने का सटिर्फिकेट।
- दसवीं का सर्टिफिकेट।
- किसी मान्यता प्राप्त संस्थान की डिग्री।
- पासपोर्ट।
- वोटर आई कार्ड।
- ड्राइविंग लाइसेंस।
- राशन कार्ड।
 
नोट: अगर बच्चे का पैन बनवाना हो तो उसके माता-पिता या गार्जियन का आइडेंटिटी प्रूफ इस्तेमाल कर सकते हैं। एचयूएफ का पैन बनवाने के लिए कर्ता के डॉक्युमेंट्स इस्तेमाल किए जा सकते हैं।
 
एड्रेस प्रूफ के लिए (इनमें से कोई एक)
- फोन बिल।
- बैंक पासबुक।
- बिजली/पानी का बिल।
- क्रेडिट कार्ड का स्टेटमेंट।
- एम्प्लॉयर सटिर्फिकेट।
- वोटर कार्ड।
- किराये की रसीद।
 
आगे की स्लाइड में जानिए डॉक्युमेंट न हो तो क्या करें...
 
 
डाक्युमेंट्स न हों तो क्या करें
 
अगर आपके पास कोई आइडेंटिटी या एड्रेस प्रूफ नहीं है तो अपने एरिया के एमपी, एमएलए या किसी गैजटेड ऑफिसर द्वारा उसके लेटर हेड पर आपके बारे में लिखवाकर और स्टैंप लगवाकर देने से भी पैन कार्ड बनवाया जा सकता है।
 
कैसे मिलता है तैयार पैन कार्ड
- फॉर्म भरकर जमा करने के 15 से 20 दिन के अंदर पैन कार्ड स्पीड पोस्ट के जरिए आपके घर के पते पर आ जाता है।
 
अगर देरी हो जाए तो क्या करें
- अगर 20 दिन बाद भी न आए तो आप रसीद पर दिए 15 अंक के कूपन नंबर के जरिए इंटरनेट से पैन कार्ड का स्टेटस चेक कर सकते हैं।
- इसके लिए  www.utiitsl.com साइट पर Services के ऑप्शन पर जाएं।
- यहां PAN Card ऑप्शन मिलेगा, जहां Track your PAN Card लिखा दिखाई देगा।
- इसे क्लिक करते ही आपके सामने दो कॉलम आएंगे।
- इसमें कूपन नंबर के ऑप्शन में रसीद में दिया गया कूपन नंबर डाल दें। आपके सामने पैन कार्ड का स्टेटस आ जाएगा।
 
prev
next
मनी भास्कर पर पढ़िए बिज़नेस से जुड़ी ताज़ा खबरें Business News in Hindi और रखिये अपने आप को अप-टू-डेट