विज्ञापन
Home » Economy » PolicyJob creation trebles in Feb at 8.61 lakh, show EPFO payroll data

राहत / बेरोजगारी के मोर्चे पर मोदी सरकार के लिए अच्छी खबर, फरवरी में 8.61 लाख लोगों को मिली नौकरी

EPFO ने वेतन रजिस्टर के आधार पर जारी किए आंकड़े

1 of

नई दिल्ली। बेरोजगारी के मोर्चे पर विपक्षी दलों का हमला झेल रही मोदी सरकार के लिए राहत की खबर आई है। कर्मचारी भविष्य निधि संगठन (EPFO) की ओर से शनिवार को जारी किए गए आंकड़ों के अनुसार फरवरी 2019 में 8.61 लाख लोगों को नौकरियां मिली हैं। फरवरी 2018 में यहा आंकड़ा 2.87 लाख नौकरियों का था। 

जनवरी 2019 में 8.94 लाख लोगों को मिली नौकरी
EPFO के आंकड़ों के अनुसार, इस साल जनवरी में सबसे ज्यादा नौकरियां 8.94 लाख लोगों को नौकरियां मिली थी। EPFO की ओर से पिछले माह मार्च में जारी किए गए अनंतिम आंकड़ों में यह संख्या 8.96 लाख बताई गई थी। अब इसको सुधारकर नए आंकड़े जारी किए गए है। EPFO पिछले साल अप्रैल से कंपनियों के वेतन रजिस्टर में दर्ज होने वाले नामों के आधार पर आंकड़े जारी कर रहा है। संगठन ने सितंबर 2017 की अवधि से आंकडे जुटाए हैं। फरवरी, 2019 में 22-25 वर्ष आयु वर्ग के 2.36 लाख को एवं 18-21 आयु वर्ग के 2.09 लाख युवाओं को रोजगार मिला है। 

18 महीने में 80.86 लाख नई नौकरियां मिलीं


EPFO के आंकड़ों के अनुसार, सितंबर 2017 - फरवरी 2019 के बीच 18 महीने के दौरान 80.86 लाख नए रोजगार का सृजन हुआ। EPFO ने कहा है कि ये आंकड़े अस्थायी हैं और कर्मचारियों के रिकॉर्ड को अद्यतन करना सतत प्रक्रिया का हिस्सा है। हालांकि, EPFO ने सितंबर 2017 से लेकर जनवरी 2019 के 17 महीने की अवधि में संगठन से जुड़ने वाले नए अंशधारकों अथवा नए रोजगार सृजन की संख्या को पहले के 76.48 लाख से कम करके 72.24 लाख किया गया है। 
 

कर्मचारियों के भविष्य निधि कोष का प्रबंधन करता है EPFO


EPFO विभिन्न कंपनियों, संगठनों और फर्मों में काम करने वाले कर्मचारियों के वेतन से होने वाली भविष्य निधि कोष का प्रबंधन करता है। ऐसे में रोजगार में आने वाले नए कर्मचारियों के भविष्य निधि खाते के आंकड़े उसके पास उपलब्ध होते हैं। EPFO ने कहा है कि उसकी ताजा रिपोर्ट में मार्च 2018 के आंकड़ों में सबसे ज्यादा संशोधन सामने आया है। इसमें 55,934 सदस्य ईपीएफओ की सदस्यता से बाहर हुए। इससे पहले पिछले महीने जारी आंकड़ों में बताया गया था कि मार्च 2018 में 29,023 अंशधारकों ने ईपीएफ योजना को छोड़ा है। 

prev
next
मनी भास्कर पर पढ़िए बिज़नेस से जुड़ी ताज़ा खबरें Business News in Hindi और रखिये अपने आप को अप-टू-डेट
विज्ञापन
विज्ञापन