Home » Economy » PolicyThe country had produced 24.4 million tonnes of urea in this fiscal

2017-18 में 3 लाख टन घट सकता है यूरिया का प्रोडक्‍शन: फर्टिलाइजर मिनिस्‍ट्री

देश में चालू फाइनेंशियल ईयर के दौरान यूरिया का प्रोडक्‍शन 3 लाख टन घटकर 2.41 करोड़ टन रह सकता है।

1 of

नई दिल्‍ली. देश में चालू फाइनेंशियल ईयर के दौरान यूरिया का प्रोडक्‍शन 3 लाख टन घटकर 2.41 करोड़ टन रह सकता है। फर्टिलाइजर मिनिस्‍ट्री के एक सीनियर अफसर ने बताया कि यूरिया प्‍लांट्स में रिनोवेशन के चलते प्रोडक्‍शन में कमी आएगी। 2016-17 में यूरिया का कुल प्रोडक्‍शन 2.44 करोड़ टन हुआ था।

 

प्‍लांट्स के रिनोवेशन का असर

सीनियर अफसर ने  बताया कि एनर्जी इफीशिएंसी के अनुरूप अपग्रेड करने के लिए कुछ यूरिया प्‍लांट बंद किए गए और कुछ प्‍लांट्स में रिनोवेशन हो रहा है। इसके चलते यूरिया प्रोडक्‍शन में कमी आएगी। कुल प्रोडक्‍शन में 3 लाख टन की कमी आने की उम्‍मीद है। हालांकि उन्‍होंने बताया कि यह अस्‍थायी प्रभाव होगा। यूरिया का प्रोडक्‍शन पिछले दो साल में बढ़ा था लेकिन हमारी सालाना डिमांड करीब 3.2 करोड़ टन है। इसलिए कुछ यूरिया का अभी भी इम्‍पोर्ट किया जा रहा है।

 

यूरिया की खपत घटाने की कोशिश

अफसर के अनुसार, यूरिया प्‍लांट्स की क्षमता का पूरा उपयोग किया जा चुका है और कुछ बीमार यूनिट्स को फिर से रिनोवेट किया जा रहा है क्‍योंकि उनकी क्षमता बढ़ सके। उन्‍होंने बताया कि सरकार यूरिया का कंजम्‍प्‍शन घटाने की कोशिश कर रही है। मिट्टी के अन्‍य दूसरे पोषक तत्‍वों के मुकाबले यूरिया सस्‍ता पड़ता है इसलिए इसका उपयोग काफी ज्‍यादा किया जा रहा है।

 

अगले साल से मिलेगा नीम कोटिंग यूरिया

इसे देखते हुए सरकार ने नीम कोटिंग यूरिया पेश किया है। इसे अगले साल से 50 की बजाय 45 किलो के बैंक में बिक्री के लिए उतारने की प्‍लान है। यूरिया पर सबसे अधिक सब्सिडी सरकार की ओर से दी जाती है। किसानों को यह 5360 रुपए प्रति टन के भाव पर बेचा जाता है। यूरिया की सब्सिडी रेट पर बिक्री के लिए सरकार सालाना 40 हजार करोड़ रुपए खर्च करती है।


 
prev
next
मनी भास्कर पर पढ़िए बिज़नेस से जुड़ी ताज़ा खबरें Business News in Hindi और रखिये अपने आप को अप-टू-डेट