• Home
  • If you enter the FasTag lane on toll plaza, it will be doubled toll tax

सख्ती /टोल प्लाजा पर FasTag लेन में प्रवेश किया तो देना होगा दोगुना टोल टैक्स

money bhaskar

May 09,2019 02:51:28 PM IST

नई दिल्ली. टोल प्लाजा में लंबी-लंबी कतारों से बचने के लिए यदि FasTag (फास्टेग) वाले बूथ पर जाएंगे तो आपको दोगुना टोल टैक्स चुकाना पड़ सकता है। इसलिए फोस्टेग वाले बूथ पर तभी जाए जबकि आपकी गाड़ी में इसका डिवाइस लगा हो। इस कवायद से जो लोग फास्टेग बूथ का उपयोग करते हैं, उनकी कतार में दूसरी गाड़ी के प्रवेश पर अंकुश लग सकेगा। यही नहीं, इससे फास्टेग डिवाइस वाली गाड़ियों को टोल प्लाजा में इंतजार नहीं करना पड़ेगा। केंद्र सरकार जल्द ही इसका सर्कुलर जारी कर सकती है।

फास्टेग का यह है काम

FASTag एक वाहन की विंडस्क्रीन से जुड़ा हुआ एक उपकरण है। यह रेडियो फ्रीक्वेंसी आइडेंटिफिकेशन (RFID) तकनीक पर आधारित है। इससे गाड़ी यदि चल भी रही है तो टोल बूथ से गुजरने पर अपने आप ही रिकॉर्ड दर्ज हो जाएगा। टोल का किराया सीधे बैंक खाते से काट लिया जाता है जो कि FASTag से जुड़ा हुआ है। इसके चलते ड्राइवर को टोल प्लाजा पर रुकना नहीं पड़ता है।

यह भी पढ़ें : ड्रैगन का नया पैंतरा / मोदी के कार्यकाल में चीनी सामान का बहिष्कार मुद्दा बना तो चीन ने भारतीय स्टार्टअप्स पर किया कब्जा


दूसरी गाड़ियों के प्रवेश से होती है दिक्कत

टोल प्लाजा पर फास्टेग के लिए अलग लेन होती है। यह खाली होती है तो इसमें दूसरी गाड़ियां भी प्रवेश ले लेती हैं। इससे पीछे आ रही फास्टेग डिवाइस वाली गाड़ियों को दिक्कत होती है। साथ ही सरकार को टोल प्लाजा पर वेटिंग खत्म करने का मकसद भी प्रभावित होता है।

यह भी पढ़ें : किसान कर्ज माफी और आय समर्थन योजना से बढ़ रहा है वित्तीय घाटा: रिजर्व बैंक

पहले से ही था नियम पर लागू नहीं किया था

एक वरिष्ठ सरकारी अधिकारी ने नाम न प्रकाशित करने की शर्त पर बताया कि राजमार्ग शुल्क नियम के अनुसार पहले से ही उच्च टोल शुल्क का प्रावधान है। लेकिन इसे कभी लागू नहीं किया। अब अपनी कार / वाहन में डिवाइस को स्थापित किए बिना फास्टेग लेन पर चलने वाले वाहनों के लिए उच्च टोल शुल्क के कार्यान्वयन पर चर्चा कर रहे हैं। हालांकि यह कब से लागू होगा इसके बारे में भारतीय राष्ट्रीय राजमार्ग प्राधिकरण (NHAI) द्वारा घोषणा की जाएगी।

यह भी पढ़ें : अप्रैल से पहले बुक हुए फ्लैट को बिल्डर ने रद्द किया है तो भी जीएसटी रिफंड ले सकते हैं आप

टोल प्लाजा पर ट्रैफिक जाम से निपटने में मिलेगी मदद

विशेषज्ञों का मानना ​​है कि राजमार्ग पर उच्चतर टोल एक अच्छा विचार है, लेकिन इसका क्रियान्वयन कठिन है। कई बार गलत लेन में प्रवेश करने की वजह से बेवजह के विवाद उत्पन्न होते हैं। इससे टोल में ट्रैफिक जाम की समस्या भी हो जाती है। डेलॉयट इंडिया के पार्टनर विश्वास उदगीर ने कहा इसे लागू करना (उच्च शुल्क लगाना) एक चुनौती है। इससे टोल और ज्यादा झगड़े बढ़ेंगे और कानून व्यवस्था की स्थिति भी बन सकती है।

यह भी पढ़ें : गाड़ियों को मॉडिफाइ कर बुलेट प्रूफ बनाने और स्लोगन रचने वाली कंपनियों की हुई चांदी, झंडे पोस्टर का धंधा मंदा


चार साल पहले लागू हुआ था फास्टेग


केंद्रीय भूतल परिवहन और राजमार्ग मंत्रालय द्वारा चार साल पहले फास्टेग लागू किया गया था। आधिकारिक आंकड़ों के अनुसार अप्रैल तक 47 लाख फास्टेग व्हीकल से 585 करोड़ रुपए टोल मिला है।

यह भी पढ़ें : अमेजन और वॉलमार्ट के लिए अमेरिका बदलवाना चाहता है इंडिया का ई कॉमर्स नियम, अमेरिकी वाणिज्य मंत्री का भारत दौरा शुरू

X

Money Bhaskar में आपका स्वागत है |

दिनभर की बड़ी खबरें जानने के लिए Allow करे..

Disclaimer:- Money Bhaskar has taken full care in researching and producing content for the portal. However, views expressed here are that of individual analysts. Money Bhaskar does not take responsibility for any gain or loss made on recommendations of analysts. Please consult your financial advisers before investing.