विज्ञापन
Home » Economy » PolicyHow to register complaint at National Anti profiteering Authority and how this body works

GST / अगर कोई आपसे वसूले ज्यादा जीएसटी, तो Anti profiteering authority के पास दर्ज करा सकते हैं शिकायत

यहां होता है जीएसटी से जुड़ी सभी शिकायतों का निपटारा

How to register complaint at National Anti profiteering Authority and how this body works
  • एनएए के पास कोई भी व्यक्ति आसान चरणों में अपनी शिकायत दर्ज करा सकता है।
  • शिकायत दर्ज कराने के बाद उसे ट्रैक भी कर सकेंगे।
  • सिर्फ दो साल के लिए गठित की गई थी यह संस्था। 

नई दिल्ली.

अगर कोई बिजनेसमैन या कोई संस्था आपसे ज्यादा जीएसटी वसूले या गलत तरीकों से फायदा कमाए, तो उसकी शिकायत आप नेशनल एंटी-प्रॉफिटीयरिंग अथॉरिटी (National Antiprofiteering Authority, NAA) के पास दर्ज करा सकते हैं। व्यापारी वर्ग जीएसटी के नियमों का गलत फायदा न उठा सके, यह सुनिश्चित करने के लिए सरकार ने जीएसटी कानून के अंतर्गत इस संस्था का गठन किया है।

 

ग्राहकों के हितों की रक्षा करना है संस्था की जिम्मेदारी

इस संस्था का सबसे अहम काम है यह देखना कि GST काउंसिल वस्तुओं और सेवाओं की जीएसटी दरों में जो कटौती कर रही है, उसका फायदा ग्राहकों तक पहुंचे। यानी व्यापारी वर्ग जीएसटी दर में कटौती के बाद उत्पादों और सेवाओं के दाम कम कर रहे हैं या नहीं, संस्था इस पर निगरानी रखती है। अगर कोई व्यापारी जीएसटी दरों में कटौती के बाद भी वस्तुओं के दाम में कटौती नहीं करती है, तो संस्था की जिम्मेदारी बनती है कि व्यापारी पर उचित कार्रवाई की जाए।

 

यह भी पढ़ें- प्रधानमंत्री जीवन ज्योति बीमा योजना का क्लेम लेने के लिए सिर्फ बैंक से करना होगा संपर्क, नहीं लगाने होंगे इंश्योरेंस कंपनियों के चक्कर

 

ऐसे दर्ज करा सकते हैं शिकायत

एनएए के पास कोई भी व्यक्ति आसान चरणों में अपनी शिकायत दर्ज करा सकता है। शिकायत दर्ज कराने के लिए ऑनलाइन और ऑफलाइल दोनों विकल्प मौजूद हैं। अगर आप ऑनलाइन शिकायत दर्ज कराना चाहते हैं, तो तीन कदमों में करा सकते हैं-

 

1. रजिस्ट्रेशन:

एनएए की आधिकारिक साइट पर जाकर आपको अपना रजिस्ट्रेशन कराना होगा। इसके लिए आपको रिजस्ट्रेशन फॉर्म में दिए गए सवालों के जवाब देने होंगे। रजिस्ट्रेशन प्रक्रिया के पूरा होने के बाद आपने जो ई-मेल आईडी दर्ज कराई है, उसपर एक ई-मेल आएगा। इस मेल में दिए गए वेरिफिकेशन लिंक पर क्लिक करके आप वेबसाइट के लॉग-इन पेज पर पहुंच जाएंगे।

 

2. लॉग-इन

आप अपनी रजिस्टर्ड मेल-आईडी और पासवर्ड के इस्तेमाल से कभी भी लॉग-इन कर सकते हैं। इसमें आपको 4 ऑप्शन मिलेंगे-

-कम्प्लेंट दर्ज कराएं

-कम्प्लेंट ट्रैक करें

-कम्प्लेंट्स की हिस्ट्री चेक करें

-अपना प्रोफाइल एडिट करें।

 

3. शिकायत दर्ज कराएं

यहां पर यूजर को एक कम्प्लेंट फॉर्म दिया जाएगा, जिसमें डिटेल भरने के साथ सबूत भी जमा करना होगा। सबूत को .jpg, .pig, .doc या .pdf फॉर्मेट में अपलोड किया जा सकता है। कम्प्लेंट प्रोसेस पूरा होने के बाद यूजर के पास कम्प्लेंट-आईडी आएगी जिससे कम्प्लेंट को ट्रैक किया जाएगा।

 

यह भी पढ़ें- डिजिटल प्लेटफॉर्म पर प्रचार के खर्च में भाजपा सबसे आगे, कांग्रेस से 400 फीसदी ज्यादा किया खर्च

 

शिकायत दर्ज कराने के बाद उसे ट्रैक कर सकेंगे

एक बार शिकायत दर्ज कराने के बाद आप देख सकते हैं कि उसपर कोई कार्रवाई हुई या नहीं। इसके लिए आपको मेल-आईडी और पासवर्ड के साथ लॉग-इन करना होगा और दिए गए चार ऑप्शन में से दूसरे ऑप्शन ‘ट्रैक कम्प्लेंट’ पर क्लिक करना होगा। इसके बाद जो पेज खुलेगा उसमें आपको अपना कम्प्लेंट आईडी (Complaint ID) और कैप्चा लिखना होगा। सब्मिट करते ही आपके पास कम्प्लेंट का स्टेटस आ जाएगा।

 

यह भी पढ़ें- चीन की दीवार को तोड़ने की तैयारी में फेसबुक, अरबों का कारोबार हो रहा है प्रभावित

 

सिर्फ दो साल के लिए गठित की गई थी संस्था

नेशनल एंटी-प्रॉफिटीयरिंग अथॉरिटी को सिर्फ दो साल के लिए गठित किया गया था। जीएसटी लॉन्च होने के बाद इसे जुलाई, 2017 में लागू किया गया था। इसके गठन के पीछे उद्देश्य था कि जीएसटी के लागू होने से उत्पादों और सेवाओं के दामों में कोई भी कटौती या बढ़ोतरी ग्राहकों को कोई नुकसान न पहुंचा सके। इस संस्था के दो साल जुलाई में पूरे होने जा रहे हैं, लेकिन ऐसी संभावना है कि संस्था के कार्यकाल को दो वर्ष के लिए आगे बढ़ाया जा सकता है। मीडिया रिपोर्ट्स के मुताबिक संस्था के पास ग्राहकों की शिकायतों का भंडार लगा है, जिन्हें सुलझाने में वक्त लगेगा। पेट्रोलियम जैसे कई अहम सेक्टर अब भी जीएसटी के दायरे से बाहर हैं और टैक्स स्लैब में भी बदलाव की संभावना है। ऐसे में NAA की जिम्मेदारी और भी बढ़ जाती है। लिहाजा यह संस्था दो और वर्ष कार्य कर सकती है।

 

यह भी पढ़ें- 630 करोड़ रुपए में तैयार हुआ Game of Thrones का आखिरी सीजन, फैंस को नहीं आया पसंद

 

बड़ी कंपनियों पर लगाया है जुर्माना

NAA ने गलत तरीके से लाभ उठाने पर कई बड़ी कंपनियों पर जुर्माना लगाया है। इसमें हिंदुस्तान यूनिलिवर (Hindustan Unilever) शामिल है जिसने जीएसटी की दरें बदलने का लाभ ग्राहकों को न देकर 535 करोड़ रुपए का आर्थिक लाभ उठाया। Domino’s की फ्रैंचाइजी Jubilant Foodworks ने 41.42 करोड़ रुपए का लाभ कमाया। Abbott Healthcare ने 96 लाख रुपए और McDonald’s की फ्रैंचाइजी Hardcastle Restaurants ने 7.49 करोड़ का लाभ उठाया। संस्था ने इन सभी कंपनियों के खिलाफ ऑर्डर पास किया है।

 

23 मई को देखिए सबसे तेज चुनाव नतीजे भास्कर APP पर

prev
next
मनी भास्कर पर पढ़िए बिज़नेस से जुड़ी ताज़ा खबरें Business News in Hindi और रखिये अपने आप को अप-टू-डेट
विज्ञापन
विज्ञापन