• Home
  • Agri output to double with Rs 80k cr irrigation scheme, farmers should focus on innovation

एग्री प्रोडक्शन दोगुना करने की योजना, सिंचाई पर 80 हजार करोड़ इन्वेस्ट करेगी सरकार

मोदी सरकार 111 नदियों में वाटर-वेज बनाएगी। मोदी सरकार 111 नदियों में वाटर-वेज बनाएगी।
गडकरी ने कहा कि हर खेत तक पानी पहुंचाना जरूरी है। गडकरी ने कहा कि हर खेत तक पानी पहुंचाना जरूरी है।

Economy Team

Jun 14,2016 04:10:00 PM IST
नई दिल्ली। रोड ट्रांसपोर्ट, हाइवेज और शिपिंग मिनिस्टर नितिन गडकरी ने कहा कि सरकार इरीगेशन के अंतर्गत 2 करोड़ हेक्टेयर लैंड को लाने की योजना बना रही है। इसके लिए सरकार की विभिन्न स्कीम्स में 80 हजार करोड़ रुपए तक के निवेश की योजना है। गडकरी ने किसानों की दुर्दशा के लिए 11 राज्यों के वाटर क्राइसेस को जिम्मेदार बताया और कहा कि उन्हें राहत देने के लिए इरीगेशन स्कीम्स पर तेजी से काम चल रहा है।
किसानों का हो इनोवेशन पर जोर
केंद्रीय सड़क परिवहन मंत्री नितिन गडकरी ने कहा कि गेहूं-धान के उत्‍पादन से किसानों का भला नहीं होने वाला। उन्‍हें नए प्रोडक्‍ट पर ध्‍यान देना होगा। नए इनोवेशन करने होंगे और नए बाजार तलाशने होंगे। उन्‍होंने भरोसा दिलाया कि मोदी सरकार किसानों का पूरा साथ देगी। गडकरी मंगलवार को यहां आयोजित ‘नेशनल सेमिनार ऑन लिब्रटिंग द फार्मर्स फ्रॉम डेट ट्रेप’ को संबोधित कर रहे थे।
गडकरी ने कहा कि हाल ही में कई इलाकों में ऐसे प्रयोग हुए हैं, जिसमें किसानों के इनोवेशन का सहारा लिया और उनकी आर्थिक दशा सुधरी है। इसे पूरे देश में लागू करना होगा। किसानों को पूरक खेती की ओर ध्‍यान देना होगा। सेमिनार की शुरुआत करते हुए काउंसिल फॉर सोशल डेवलपमेंट के डॉ. टी. हक ने देश में किसानों की स्थिति के बारे में बताया।
एथनॉल के इस्‍तेमाल से सधुरेंगे हालात
गडकरी ने कहा कि सरकार ने किसानों को पूरक खेती के प्रति आकर्षित करने के लिए गाड़ियों में एथनॉल का इस्‍तेमाल बढ़ाने की इजाजत दे दी है और एनथॉल से चलने वाले वाहनों के इंजन को मंजूरी दी गई है। इससे आने वाले दिनों में 100 फीसदी एथनॉल से गाड़ियां चलने का रास्‍ता साफ होगा। इसके अलावा सेकेंड जनरेशन एथनॉल को भी बढ़ावा दिया जा रहा है और हाल ही में इसके टेंडर भी जारी किए गए हैं।
सेकंड जनरेशन एथनॉल का टेंडर जारी
गडकरी ने किसानों से कहा कि अब पारंपरिक खेती से काम नहीं चलने वाला। किसानों को पूरक खेती की ओर तेजी से बढ़ना होगा। एथनॉल के अलावा कई ऐसे प्रोडक्‍ट हैं, जिन्‍हें किसान अपना सकते हैं। उन्‍होंने कहा कि किसान अपने प्रोडक्‍ट से बिजली, पेट्रोल-डीजल पैदा करने में सहायता कर सकता है। सेकंड जनरेशन एथनॉल एक बेहद महत्‍वपूर्ण प्रयोग है, जिसे बायो प्रोडक्‍ट के इस्‍तेमाल से बनाया जाएगा। इससे किसानों की आमदनी काफी बढ़ सकती है।
बांस का उत्‍पादन बढ़ाना होगा
केंद्रीय मंत्री ने कहा कि किसान को बांस की खेती पर ध्‍यान देना चाहिए, जिससे बेहतरीन कपड़ा बनाया जा सकता है। किसानों को डेरी फार्मिंग पर ध्‍यान देना चाहिए। वे मछली उत्‍पादन पर ध्‍यान दें। ये ऐसे रास्‍ते हैं, जिससे किसानों की आर्थिक दशा सुधरेगी और उनकी आत्‍महत्‍या जैसी घटनाओं में कमी आएगी। अभी देश में 40 हजार करोड़ रुपए का बांस इपोर्ट किया जा रहा है, जिसे देश में उगाना बेहद आसान है।
अगली स्लाइड में पढ़िए-खेतों तक पानी पहुंचाना टारगेट...
खेतों तक पानी पहुंचाना टारगेट गडकरी ने कहा कि देश में किसानों की दशा सुधारने के लिए उनके खेतों तक पानी पहुंचाना बेहद जरूरी है। मोदी सरकार इस दिशा में काम कर रही है। इसके लिए एआईडीपी (एक्सिलेरेटिड इरीगेशन डेवलपमेंट प्रोग्राम) के लगभग 1 लाख 60 हजार करोड़ रुपए के बजट का इस्तेमाल किया जाएगा। साथ ही, केंद्र सरकार ने 4 साल के लिए 80 हजार करोड़ रुपए का बजट निर्धारित किया है। सरकार का लक्ष्य है कि अगले 4 साल में 2 करोड़ हेक्टेयर कृषि भूमि तक पानी पहुंचाया जाएगा। वाटर-वेज पर फोकस गडकरी जो जहाजरानी मंत्री भी हैं, ने कहा कि भारत में वाटर-वेज (जल मार्ग) पर ध्यान नहीं दिया गया। मोदी सरकार ने यह बीड़ा उठाया उठाया है। देश की 111 नदियों पर वाटर-वेज बनाए जाएंगे। इससे लॉजिस्टिक कॉस्ट काफी कम हो जाएगी, जो इकोनॉमी के लिए बेहद महत्वपूर्ण है। इन 111 नदियों में 12 महीने 3 मीटर गहरा पानी रहेगा। इसके अलावा इस पानी का इस्तेमाल खेतों में कैसे किया जाए, इसकी भी योजनाएं तैयार की जा रही है।
X
मोदी सरकार 111 नदियों में वाटर-वेज बनाएगी।मोदी सरकार 111 नदियों में वाटर-वेज बनाएगी।
गडकरी ने कहा कि हर खेत तक पानी पहुंचाना जरूरी है।गडकरी ने कहा कि हर खेत तक पानी पहुंचाना जरूरी है।

Money Bhaskar में आपका स्वागत है |

दिनभर की बड़ी खबरें जानने के लिए Allow करे..

Disclaimer:- Money Bhaskar has taken full care in researching and producing content for the portal. However, views expressed here are that of individual analysts. Money Bhaskar does not take responsibility for any gain or loss made on recommendations of analysts. Please consult your financial advisers before investing.