विज्ञापन
Home » Economy » PolicyAramco, who talked about buying a stake in Reliance, offered to supply additional 20 million barrels of crude oil

ऑफर / रिलायंस में हिस्सेदारी खरीदने की बात कहने वाली अरामको ने 20 लाख बैरल अतिरिक्त कच्चे तेल की सप्लाई की पेशकश की

सऊदी अरब के प्रिंस की भारत में दिलचस्पी की वजह से तेल कीमतों को काबू में रखने में मिलेगी मदद

Aramco, who talked about buying a stake in Reliance, offered to supply additional 20 million barrels of crude oil

नई दिल्ली.  नई सरकार के गठन के बाद सबसे बड़ी चुनौती पेट्रोल-डीजल के दामों में बढ़ोतरी को रोकना होगा। लिहाजा, ईरान प्रतिबंध के बाद से केंद्र सरकार ने इस दिशा में काम शुरू कर दिया था। अब चुनाव के परिणाम आने से पहले ही अहम कामयाबी हासिल हुई। सऊदी अरब के प्रिंस मोहम्मद बिन सलमान की कंपनी अरामको ने भारत को 20 लाख बैरल अतिरिक्त क्रूड सप्लाई का आश्वासन दिया है। अरामको सऊदी अरब की सबसे बड़ी कंपनी है और  हाल ही में रिलायंस इंडस्ट्रीज में हिस्सेदारी खरीदने की बात पर चर्चा में आई थी। प्रिंस भारत में निवेश करना चाहते हैं। माना जा रहा है कि प्रिंस की भारत में दिलचस्पी की वजह से सऊदी अरब से मदद मिल सकती है। इससे भारत को सस्ते तेल की आपूर्ती संभव है। 

 

इंडियन ऑयल को होगी सप्लाई 


 अरामको ने जुलाई से लेकर दिसंबर तक 20 लाख बैरल अतिरिक्त तेल प्रति माह देने की पेशकश की है। अरामको यह आपूर्ति इंडियन ऑयल को करेगी। आईओसी ने सऊदी आरमको से इस साल 56 लाख बैरल तेल की आपूर्ति के लिए समझौता किया है। ऊर्जा विशेषज्ञों के मुताबिक सऊदी की ओर से तेल की आपूर्ति बढ़ाने से भारत को पेट्रोलियम पदार्थों की कीमत नियंत्रित करने में मदद मिलेगी। 

यह भी पढ़ें : अब अमेजन से बुक हो सकेंगे फ्लाइट के टिकट, कैंसिलेशन पर नहीं लगेगा अतिरिक्त चार्ज


इंडियन ऑयल करेगा 2 लाख करोड़ का निवेश

 

इंडियन आयल कॉरपोरेशन (आईओसी) की भविष्य की जरूरतों को ध्यान में रखते हुये अगले 5 से 7 साल के दौरान ईंधन और ऊर्जा के विविध क्षेत्रों में दो लाख करोड़ रुपये निवेश की योजना है। 

यह भी पढ़ें : सबसे स्वच्छ शहर में देश का पहला स्मार्ट पोलिंग बूथ, 12 प्रकार की सुविधाएं मिल रही हैं वोटर्स को

 

वैश्विक बाजार में तेल की कोई कमी नहीं 

 

सऊदी अरब के ऊर्जा मंत्री खालिद अल फालिह ने शनिवार को कहा कि वैश्विक बाजार में तेल की कोई कमी नहीं है। उन्होंने कहा कि अमेरिका में तेल का उत्पादन बढ़ा रहा है। इसके साथ प्रमुख तेल उत्पादक देश भी अपना उत्पादन बढ़ा रहे हैं। इसलिए तेल की कमी नहीं होगी। अगर कोई कमी आती है तो ओपेक को तैयारी करनी होगी। अगले महीने ओपेक की होने वाली बैठक में तेल उत्पादन बढ़ाने पर फैसला किया जा सकता है। 

यह भी पढ़ें : देश की पहली बुलेट ट्रेन में नौकरी करनी है तो जापानी भाषा जानना जरूरी, 4 जून तक नौकरी के कर सकते हैं आवेदन

prev
next
मनी भास्कर पर पढ़िए बिज़नेस से जुड़ी ताज़ा खबरें Business News in Hindi और रखिये अपने आप को अप-टू-डेट
विज्ञापन
विज्ञापन