विज्ञापन
Home » Economy » PolicyA friend has fulfilled the temple that Modi had asked for in Muslim country, the first Hindu temple, Bhumi Pujan

उपलब्धि / मोदी ने मुस्लिम देश में जिस मंदिर के लिए कहा था, उसे मित्र ने पूरा किया, पहले हिंदू मंदिर का हुआ भूमिपूजन

मंदिर निर्माण पर खर्च होंगे 900 करोड़ रुपए, UAE के शहजादे ने दान की है जमीन

A friend has fulfilled the temple that Modi had asked for in Muslim country, the first Hindu temple, Bhumi Pujan
  • मंदिर बनाने वाली बीएपीएस स्वामीनारायण संस्था के आध्यात्मिक नेता महंत स्वामी महाराज, यूएई में भारत के राजदूत नवदीप सूरी, करीब 2500 भारतीय व सरकारी अधिकारी मौजूद थे। 

नई दिल्ली. प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने जिस मुस्लिम देश यूएई में हिंदू मंदिर की बात की थी, उसे उनके मित्र ने पूरा कर दिया है। शनिवार को अबु धाबी में पहले मंदिर का भूमिपूजन समारोह संपन्न हुआ। इसमें मंदिर बनाने वाली बीएपीएस स्वामीनारायण संस्था के आध्यात्मिक नेता महंत स्वामी महाराज, यूएई में भारत के राजदूत नवदीप सूरी, करीब 2500 भारतीय व सरकारी अधिकारी मौजूद थे। 

 

मोदी ने किया था मॉडल का अनावरण 

 

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने फरवरी 2018 में अपने दौरे के वक्त इस मंदिर की बात कही थी। दुबई ओपेरा में एक लाइव स्ट्रीम के माध्यम से भारत के प्रधान मंत्री नरेंद्र मोदी ने संयुक्त अरब अमीरात में सात अमीरात का प्रतिनिधित्व करने वाले सात टावरों के साथ मंदिर की एक मॉडल संरचना का खुलासा किया था। अबू धाबी के अबू मूरिखा क्षेत्र में मंदिर स्थल स्थित है।  संयुक्त अरब अमीरात में सहिष्णुता और धार्मिक सद्भाव के प्रतीक, मंदिर का निर्माण 13.5 एकड़ (55,000 वर्ग मीटर) भूमि पर किया जा रहा है, जो कि महामहिम शेख मोहम्मद बिन जायद अल नाहयान, अबू धाबी के क्राउन प्रिंस और यूएई के उप सुप्रीम कमांडर द्वारा भेंट की गई है।

यह भी पढ़ें: दिग्विजय ने जिन राजा भोज का जिक्र किया, उन्होंने एक हजार साल पहले बसाया था देश का सबसे प्लांड शहर


अक्षरधाम जैसा होगा मंदिर 

 

इस मंदिर की जमीन के लिए यूएई के मुस्लिम शासक शेख मोहम्मद ने 55 हजार स्क्वायर मीटर जमीन उपलब्ध कराई है। इस मंदिर का निर्माण प्राइवेट फंड से किया जा रहा है। सूत्रों के मुताबिक करीब 900 करोड़ रुपए तक इसकी लागत आ सकती है। अबू धाबी का पहला हिंदू मंदिर नई दिल्ली के अक्षरधाम मंदिर के प्रारूप पर आधारित होगा। इस मंदिर का निर्माण कार्य 2020 तक पूरा कर लिया जाएगा। 

यह भी पढ़ें : मोदी सरकार का दम एक और देश ने माना, पांच साल में हज कोटा 46 प्रतिशत बढ़ा

यूएई ने यह काम भी किए

UAE ने महाराष्ट्र में एक रिफाइनरी परियोजना में सऊदी अरब के साथ संयुक्त रूप से निवेश करने के अलावा रणनीतिक तेल भंडार बनाने में भी योगदान दिया है। 2017 में गणतंत्र दिवस के मुख्य अतिथि रह चुके अबू धाबी के राजकुमार ने भी हालिया भारत-पाकिस्तान तनावों को दूर करने में महत्वपूर्ण भूमिका निभाई थी।

यह भी पढ़ें : दुनिया के सबसे रईस व्यक्ति के साम्राज्य का राज, इंसानी दिमाग की बजाय करते हैं आर्टिफिशियल इंटेलीजेन्स का इस्तेमाल

prev
next
मनी भास्कर पर पढ़िए बिज़नेस से जुड़ी ताज़ा खबरें Business News in Hindi और रखिये अपने आप को अप-टू-डेट
विज्ञापन
विज्ञापन