विज्ञापन
Home » Economy » PolicyA Demand To Change The Name Of Khan Market To Valmiki Market

विवाद / अब खान मार्केट का नाम बदलने को लेकर सरगर्मी तेज, इससे पहले बदला जा चुका है औरंगजेब रोड का नाम

पीएम मोदी ने एक इंटरव्यू के दौरान खान मार्केट 'गैंग' का जिक्र किया था

A Demand To Change The Name Of Khan Market To Valmiki Market
  • यहां की दुकानों से सरकार को होती है सालाना 40 करोड़ रुपए की कमाई

नई दिल्ली. खान मार्केट शॉप रेंटल के लिहाज से देश के सबसे महंगे बाजार और एलीट बायर्स के फेवरेट ठिकाने है। प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने कुछ दिन पहले एक इंटरव्यू के दौरान खान मार्केट गैंग का जिक्र किया था, जिसके बाद इस मार्केट का नाम बदलने का मामला तूल पकड़ता जा रहा है। बीजेपी के अनुसूचित जाति मोर्चा के उपाध्यक्ष दीपक तंवर ने इस संबंध में गृह मंत्री राजनाथ सिंह को पत्र लिखकर मांग की है कि मार्केट का नाम बदल कर भगवान 'वाल्मीकि' मार्केट रख दिया जाए। तंवर का कहना है कि इस मशहूर मार्केट का नाम प्रासंगिक नहीं लगता है। भगवान वाल्मीकि को सभी जानते हैं। इसके अलावा मार्केट के बीच में वाल्मीकि का मंदिर भी है। ऐसे में यह नाम काफी प्रासंगिक है। बता दें कि इससे पहले भी दिल्ली के औरंगजेब रोड का नाम बदला जा चुका है जिसे वर्तमान में एपीजे अब्दुल कलाम रोड के नाम से जाना जाता है। 

अगर नाम बदलता है तो संविधान से उठ जाएगा भराेसा

इस पर मार्केट के प्रधान संजीव मेहरा ने मनी भास्कर से बातचीत में बताते हैं 'इस मार्केट का दुनियाभर में नाम है, एक वजूद है जिसे खत्म नहीं होने देना चाहिए। इतने बड़े मार्केट का अगर नाम बदला जाता है तो लोगों का संविधान पर से भरोस उठा जाएगा।' वे कहते हैं 'दीपक तंवर न तो बहुत शख्यित है ना ही उनका बाजार से कोई लेना-देना है फिर इस तरह की बातें करना उचित नहीं है।'

यहां की दुकानों से सलाना टैक्स 40करोड़ रुपए जाता है

खान मार्केट दुनिया के सर्वाधिक महंगे बाजारों में 24 वें स्थान पर है । यहां कुल 315 दुकानें हैं और इन दुकानों से सलाना टैक्स 40करोड़ रुपए जाता है। इस मार्केट का 1350 रुपए प्रति स्क्वायर फीट किराया है, जबकि मळ्ंबई के लिंक रोड पर 800 व हैदराबाद के एमजी रोड पर 120 रुपए प्रति स्क्वायर फीट किराया है।

खान चाचा की दुकान मशहूर

दिल्ली का यह मार्केट बाॅलीवुड सिलेब्रिटीज से लेकर स्पोर्ट सिलेब्रिटीज तक का पसंदीदा मार्केट है। खान चाचा के टिक्का और सीक बेहद मशहूर हैं। इसके अलावा आम्रपाली अपने चांदी के आभूषणों के लिए प्रसिद्ध है।

'खान' नाम के पीछे की कहानी

इतिहासकार के मुताबिक, सन् 1968-69 के आसपास खान अब्दुल गफ्फार खान दिल्ली आए थे। गांधी परिवार के निमंत्रण पर वो भारत आए थे। उन्हीं के नाम पर इस मार्केट का नाम खान मार्केट रखा गया था। मार्केट पृथ्वीराज रोड एवं चाणक्यपुरी के पास है। दरअसल, गफ्फार खान ने दिल्ली की सरजमीं पर रामलीला मैदान में भाषण भी दिया था। 2 अक्टूबर के दिन उनका भाषण सुनने रामलीला मैदान में देशभर से लोग आए थे।

 

 

prev
next
मनी भास्कर पर पढ़िए बिज़नेस से जुड़ी ताज़ा खबरें Business News in Hindi और रखिये अपने आप को अप-टू-डेट
विज्ञापन
विज्ञापन