Home » Economy » Policy70 percent youth not aware about skill development programme

इसलिए फ्लाप हो गया मोदी सरकार का स्किल डेवलपमेंट प्रोग्राम, 2019 चुनाव में हो सकता है बड़ा नुकसान

50 फीसदी युवा चाहते हैं सरकारी नौकरी

70 percent youth not aware about skill development programme

नई दिल्ली। देश के 70 फीसदी युवा यह नहीं जानते हैं कि उनके इलाके में स्किल डेवलपमेंट प्रोग्राम चल रहा है। हालांकि ये सभी युवा स्किल डेवलपमेंट प्रोग्राम में शामिल होने की इच्छा रखते हैं। मोदी सरकार ने देश के युवाओं को कौशल मुहैया कराने और उनको रोजगार के लायक बनाने के लिए स्किल डेवलेपमेंट प्रोग्राम शुरू किया था। देश में युवाओं को पर्याप्त संख्या में रोजगार मुहैया न कराने को लेकर मोदी सरकार आलोचकों के निशाने पर है। विपक्षी दल आगामी 2019 के चुनाव में रोजगार मुहैया कराने में मोदी सरकार की नाकामी को बड़ा मुद्दा बनाने का प्रयास कर रहे हैं। अगर ऐसा होता है तो इससे प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी की राजनीतिक संभावनाओं को नुकसान हो सकता है।

 

6,000 युवाओं के बीच किया गया है सर्वे 

 

आब्जर्वर रिसर्च फाउंडेशन और वर्ल्ड इकोनॉमिक फोरम ने हाल में यंग इंडिया एंड वर्क शीर्षक से एक सर्वे किया है। इस सर्वे में देश भर के 15 से 30 साल की उम्र के 6,000 युवाओं को शामिल किया गया है। देश के लगभग 70 फीसदी यानी तीन चौथाई युवााओं ने स्किल डेवलमेंट प्रोग्राम में अपना नामांकन नहीं कराया है। सर्वे में शामिल होने वाले लगभग 70 फीसदी युवाओं ने बताया कि उनको इस बात की जानकारी ही नहीं है कि उनके इलाके में स्किल डेवलपमें प्रोग्राम चल रहा है। वहीं बड़े पैमाने पर युवाओं ने कहा कि वे पैसे और समय की कमी की वजह से इस प्रोग्राम में अपना नामांकन नहीं करा पाए। 

 

50 फीसदी युवा चाहते हैं सरकारी नौकरी 

 

सर्वे के मुताबिक 50 फीसदी युवा सरकारी चाहते हैं जबकि सिर्फ 23 फीसदी युवाओं ने प्राइवेट सेक्टर की नौकरी में जाने की इच्छा जताई। 25 फीसदी युवा एडमिनिस्ट्रेटिव और सपोर्ट सर्विस जॉब में जाना चाहते हैं। इंडस्ट्री का मानना है कि युवा ह्युमन रिसोर्स एंड रिक्रूटमेंट, ट्रेनिंग एंड डेवलपमेंट और सोशल मीडिया में नौकरी पाना चाहते हैं लेकिन इन सेक्टर में ज्यादा जॉब ग्रोथ होने की उम्मीद नहीं है। 

 

सिर्फ 14 फीसदी कंपनियां करती है ऑनलाइन भर्ती 

 

सर्वे से एक और दिलचस्प बात सामने आई है। लगभग 70 फीसदी युवा नौकरी से जुड़ी सूचनाएं हासिल करने के लिए इंटरनेट और मीडिया पर निर्भर हैं। वहीं सिर्फ 14 फीसदी कंपनियां ऑनलाइन भर्ती करती हैं। इससे युवाओं के नौकरी ढूंढने और कंपनियों के भर्ती करने के तरीके में एक बड़े अंतर का पता चलता है। 

prev
next
मनी भास्कर पर पढ़िए बिज़नेस से जुड़ी ताज़ा खबरें Business News in Hindi और रखिये अपने आप को अप-टू-डेट
Don't Miss