बिज़नेस न्यूज़ » Economy » Policyदूसरे दिन भी जारी रही ट्रक मालिकों की हड़ताल, डीजल कीमतों का कर रहे विरोध

दूसरे दिन भी जारी रही ट्रक मालिकों की हड़ताल, डीजल कीमतों का कर रहे विरोध

ट्रक मालिकों की देश व्यापी हड़ताल का दक्षिण भारत और पूर्वोत्तर में ज्यादा असर देखा गया

trucker strike effects the sates of South India

नई दिल्‍ली. ट्रक मालिकों की देश व्यापी हड़ताल मंगलवार को दूसरे दिन भी जारी रही, जिसका दक्षिण भारत और पूर्वोत्तर में ज्यादा असर देखा गया। 

 

18 जून से है हड़ताल 
डीजल की कीमतों में पिछले कुछ वर्षों में बहुत ज्यादा बढ़ोतरी, थर्ड पार्टी बीमा की लागत बढ़ने और टोल शुल्कों में वृद्धि के विरोध में ट्रक मालिक 18 जून से हड़ताल पर हैं। हालाँकि, उत्तर भारत में हड़ताल का बहुत कम असर दिख रहा है। 

 

1000 करोड़ का रोजाना नुकसान 
ट्रक मालिकों के संगठनों के संयुक्‍त मंच ऑल इंडिया फेडरेशन ऑफ गुड्स व्‍हीकल ऑनर्स एसोसिएशन ने बताया कि देश भर में 50 लाख ट्रक खड़े हैं। इससे ट्रक मालिकों को एक हजार करोड़ रुपये का नुकसान हो रहा है। उन्होंने बताया कि पश्चिम बंगाल और इसके कारण पूरे पूर्वोत्तर में ट्रकों का पहिया लगभग पूरी तरह जाम हो चुका है। 

 

इन राज्‍यों में है प्रभाव 
फेडरेशन ने दावा किया कि पश्चिम बंगाल से 30 हजार ट्रकों के हड़ताल में शामिल होने की खबर है।  महाराष्ट्र से सब्जियों की कीमतों में भारी बढ़ोतरी हुई है। उसका कहना है कि दिल्ली में भी संजय गाँधी ट्रांसपोर्ट नगर में चार हजार ट्रक खड़े रहे। हालांकि कर्नाटक और तमिलनाडु में भी हड़ताल का आंशिक असर देखा गया। 

prev
next
मनी भास्कर पर पढ़िए बिज़नेस से जुड़ी ताज़ा खबरें Business News in Hindi और रखिये अपने आप को अप-टू-डेट