विज्ञापन
Home » Economy » PolicyTomato supplies to Pakistan again from india

पाकिस्तान को टमाटर की सप्लाई शुरू, श्रीनगर-मुजफ्फराबाद मार्ग से हो रही है ढुलाई

ढुलाई का खर्च चार गुना बढ़ गया है

1 of

नई दिल्ली। पुलवामा हमले के बाद पूरे देश में आक्रोश का माहौल था जिसका असर भारत और पाकिस्तान के व्यापारिक रिश्तों पर पड़ा। सड़क मार्ग से होने वाली कई जरूरी वस्तुओं की सप्लाई में कमी आई है। दोनों देशों के बीच तनाव के चलते कारोबार ठप हो गया था और ट्रकों की आवाजाही भी रुक गई थी। अब श्रीनगर से पाकिस्तान के कब्जे वाले चकोटी के बीच ट्रकों की आवाजाही शुरू हो गई है। रावलपिंडी और लाहौर के बाजारों में भारत से आई सब्जियों से लदे ट्रक पहुंचने लगे हैं। यह सप्लाई आम रूट अब भी बंद होने से ट्रेडर्स को यह महंगा पड़ रहा है। अभी सिर्फ श्रीनगर-मुजफ्फराबाद मार्ग से ही माल जा रहा है, जिसका ढुलाई खर्च अटारी रूट के मुकाबले दो से चार गुना तक बढ़ गया है। 

इस रास्ते से भेजा रहा है सामान

पाकिस्तान को टमाटर सप्लाई करने वाले व्यापारियों का कहना है ‘तनाव घटने के साथ सप्लाई शुरू हुई है, लेकिन ट्रेड के लिहाज से इसे नॉर्मल नहीं कहा जा सकता। अभी सिर्फ श्रीनगर-मुजफ्फराबाद मार्ग से ही रोजना 15 से 20 ट्रक माल जा रहा है, जबकि आम दिनों में पाकिस्तान को रोजाना 75 से 100 ट्रक सप्लाई होती है।’  ट्रेडर्स ने अब अटारी-बाद्या बाॅर्डर से सप्लाई शुरू करने के लिए सरकार को संपर्क शुरू कर दिया है और इसके लिए किसानों के हितों का हवाला दिया जा रहा है। टमाटर के अलावा भी कई सब्जियां भारत से पाकिस्तान जाती है।

 

पाकिस्तान में लहसुन की किल्लत

 

इस वक्त पाकिस्तान में सिर्फ टमाटर ही नहीं लहसुन की भी किल्लत है। हालत यह है कि लाहौर के बादामी बाग स्थित सब्जी मार्केट में दो घंटे के भीतर भारत से पहुंची दो ट्रक लहसुन बिक गई। पाकिस्तानी अखबार एक्सप्रेस ट्रिब्यून ने अपनी रिपोर्ट में यह बात कही है। अखबार के मुताबिक भारतीय पायलट अभिनंदन को छोड़े जाने के बाद भारत से टमाटर और लहसुन की तस्करी शुरू हो गई है। 

पाकिस्तान को दिए गए मोस्ट फेवर्ड नेशन का दर्जा वापस लिया गया

 

बता दें कि पुलवामा हमले के बाद वाणिज्य मंत्रालय पाकिस्तान को दिए गए 'सबसे तरजीही राष्ट्र (मोस्ट फेवर्ड नेशन)' का दर्जा वापस लिया गया। भारत ने सुरक्षा कारणों के चलते यह कदम उठाया है। भारत ने 2017-18 में पाकिस्तान से 48.8 करोड़ डॉलर का सामान आयात किया था।

 

prev
next
मनी भास्कर पर पढ़िए बिज़नेस से जुड़ी ताज़ा खबरें Business News in Hindi और रखिये अपने आप को अप-टू-डेट
विज्ञापन
विज्ञापन