Home » Economy » Policypsu bank officers and employees committing suicide due to work pressure

सरकारी बैंकों की नौकरी बनी जानलेवा, आत्महत्या कर रहे अधिकारी- कर्मचारी

काम और लोन रिकवरी का दबाव है वजह

psu bank officers and employees committing suicide due to work pressure

महेंद्र सिंह, नई दिल्ली। पीएसयू बैंकों की नौकरी अधिकारी और कर्मचारियों के लिए जानलेवा बन रही है। टार्गेट पूरा करने और लोन की रिकवरी के दबाव के चलते अधिकारी और कर्मचारी आत्महत्या कर रहे हें। बैंक कर्मचाारियों के संगठन नेशनल ऑर्गनाइजेशन ऑफ बैंक वर्कर्स के उपाध्यक्ष अश्वनी राणा ने मांग की है कि सरकारर बैंक कर्मचाारियों की बढ़ती आत्महत्या की घटनाओं की उच्च्स्तरीय कमेटी से जांच कराए और इसके लिए जिम्मेदार लोगों के खिलाफ कार्रवाई करे। 

 

2 अक्टूबर, 2018 को संदीप रेड्‌डी ने की आत्महत्या 

 

प्रोदात्तूर में कॉरपोरेशन बैंक में ऑफिसर संदीप रेड्‌डी ने आत्महत्या कर ली। वे बेंक की नौकरी छोड़ की स्टेट क्लैरिकल जॉब में जाना चाहते थे। इसके लिए उनका सेलेक्शन भी हो गया थाद्ध लेकिन संदीप का परिवार ऑफिसर रैंक की नौकरी छोड़ने के खिलाफ था। 

 

1 अक्टूबर, 2018 को ताडो जिबायिंग ने की आत्महत्या 

 

तोडो जिबायिंग इंडियन बैंक नाहरलागुन में ब्रांच मैनेजर थे। उन्होंने आत्महत्या कर ली। 

 

 

23 सितंबर, 2018 को अखिलेश जलोटा ने की आत्महत्या 

 

अखिलेश जलोटा बैंक ऑफ इंडिया, गांधीनगर में जोनल मैनेजर थे। 


15 सितंबर 2018 को रतनदीप नावक ने आत्महत्या की

 

रतनदीप नावक भारतीय स्टेट बैंक की टीटागढ़ ब्रांच में ऑफीसर थे। उनकी पत्नी का कहना है कि उनके पति पर काम का बहुत ज्यादा दबाव था और वे अक्सर रात के 10 बजे के बाद ही ऑफिस से घर आ पाते थे। 

 

14 जुलाई 2018 को अचु आर चंद्रन ने की आत्महत्या 

 

अचु आर चंद्रन एसबीआई पार्वतीपुरम ब्रांच में ब्रांच मैनेजर थे। जानकारी के अनुसार वे अपने परिवार से काम के ज्यादा दबाव की शिकायत कर रहे थे और वे नौकरी छोड़ना चाहते थे। 

 

7 जुलाई 2018 को गंगा भवानी ने की आत्महत्या 

 

गंगा भवानी विशाखापत्तनम में एसबीआई में ऑफिसर थीं। अभी तक उनकी आत्महत्या के कारण का पता नहीं चला है। 

 

12 जून 2018 को सुरेश मीणा ने आत्महत्या का प्रयास किया 

 

सुरेश मीणा ने एसबीआई मैं मैनेजर हैं। उन्होंने एसबीआई बिल्डिंग के तीसरे फ्लोर से कूद की आत्महत्या का प्रयास किया।

 

29 मई 2018 को रामासुब्बु ने की आत्महत्या 

 

रामासुब्बु सिंडीकेट बैंक की एसआर कॉलेज ब्रांच में ब्रांच मैनेजर थे। रिपोर्ट के मुतााबिक उन्होंने ब्रांच में बहुत ज्यादा काम के दबाव की वजह से आत्महत्या की। 

 

2015 में 103 अधिकाारियों और कर्मचाारियों ने की आत्महत्या 

 

नेशनल ऑर्गनाइजेशन ऑफ बैंक वर्कर्स का दावा है कि 2015 में पीएसयू बैंकों के कुल 103 अधिकाारियों और कर्मचारियों ने आत्महत्या की है। 

prev
next
मनी भास्कर पर पढ़िए बिज़नेस से जुड़ी ताज़ा खबरें Business News in Hindi और रखिये अपने आप को अप-टू-डेट