बिज़नेस न्यूज़ » Economy » Policyमहंगाई से फरवरी में मिली राहत, जनवरी में IIP बढ़कर 7.5% पर

महंगाई से फरवरी में मिली राहत, जनवरी में IIP बढ़कर 7.5% पर

उपभोक्ता मूल्य आधारित खुदरा महंगाई की दर लगातार दूसरे महीने घटने के बाद 4 महीने के निचले स्तर 4.44 फीसदी पर आ गई।

Retail inflation at 4 mth low of 4.44%

 
नई दिल्ली. देश की अर्थव्‍यवस्‍था के क्षेत्र से सोमवार को दो अच्‍छी खबरें आईं। एक तरफ जहां फरवरी में महंगाई चार माह के निचले स्‍तर 4.44 फीसदी आ गई वहीं जनवरी में आईआईपी ग्रोथ बढ़कर 7.5 फीसदी हो गई। अच्‍छी अर्थव्‍यवस्‍था के लिए महंगाई का स्‍तर कम रहना और औद्योगिक उत्पादन का बढ़ना अच्‍छा माना जाता है। 
 

 

महंगाई में राहत 

सरकार को महंगाई के मोर्चे पर थोड़ी राहत मिली है। दालों और फ्यूल की कीमतों में गिरावट के साथ फरवरी में उपभोक्ता मूल्य आधारित खुदरा महंगाई की दर 4 महीने के निचले स्तर 4.44 फीसदी पर आ गई। केंद्रीय सांख्यिकी कार्यालय की ओर से  प्राप्त जानकारी के अनुसार, जनवरी में खाद्य पदार्थों की खुदरा महंगाई दर 5.07 फीसदी रही थी। फरवरी 2017 में महंगाई का यह आंकड़ा 3.65 फीसदी पर था,  जबकि‍‍ पि‍छले साल नवंबर में यह 4.88 फीसदी पर था। 

 

 

सीएसओ ने जारी किए आंकड़ें 

केंद्रीय सांख्यिकी कार्यालय (सीएसओ) द्वारा जारी आंकड़ों के मुताबिक उपभोक्ता खाद्य क्षेत्र में कीमतों में वृद्धि की दर फरवरी में 3.26 प्रतिशत थी, जबकि पिछले महीने में 4.7 प्रतिशत थी।  बता दें कि‍ पि‍छले साल फरवरी की तुलना में इस साल फरवरी में दालों के दाम 17.35 फीसदी तक घट गए हैं। वहीं, फलों के दाम भी पि‍छले महीने के 6.24 फीसदी से 4.80 फीसदी पर आ गए हैं। 

 

 

जनवरी में आईआईपी ग्रोथ बढ़कर 7.5 फीसदी हुई
 
जनवरी में आईआईपी ग्रोथ बढ़कर 7.5 फीसदी हो गई है। सीएसओ द्वारा जारी आंकड़ों के मुताबिक दिसंबर, 2017 में औद्योगिक उत्पादन सूचकांक (आईआईपी) 7.1 फीसदी पर था।  जनवरी में आईआईपी में जो वृद्धि दि‍खाई है वह मुख्य रूप से विनिर्माण क्षेत्र के चलते हुई है। जि‍सकी इंडेक्‍स में हिस्‍सेदारी 77.63 प्रतिशत है। इसमें जनवरी में 8.7 फीसदी की बढ़ोतरी हुई है, जबकि‍ पि‍छले साल जनवरी की बात करें तो यह 2.5 फीसदी था। इसमें बढ़ोतरी को अर्थव्यवस्था में सुधार के मजबूत संकेत माना जाता है। जारी आंकड़ों के अनुसार अाईआईपी में अप्रैल 2017  से जनवरी 2018 तक की अवधि में 4.1 प्रतिशत की वृद्धि हुई है।

 

कई सेक्‍टर का उत्‍पादन बढ़ा

आंकड़ों के अनुसार, जनवरी 2018 में खनन का उत्पादन 0.1 प्रतिशत, विनिर्माण का उत्पादन 8.7 प्रतिशत और बिजली में 7.6 प्रतिशत की तेजी अाई है। अप्रैल 2017 से जनवरी 2018 तक की अवधि में इन क्षेत्रों का उत्पादन क्रमश: 2.5 प्रतिशत, 4.3 प्रतिशत और 5.3 प्रतिशत बढ़ा है। 

 

 

 

 

prev
next
मनी भास्कर पर पढ़िए बिज़नेस से जुड़ी ताज़ा खबरें Business News in Hindi और रखिये अपने आप को अप-टू-डेट