Home » Economy » PolicyHow to become a poor country of Europe, wine superpowers

यूरोप का एक गरीब देश कैसे बन गया वाइन का सुपरपावर, यहां है पुतिन और मार्केल का वाइन कलेक्शन

यहां जमीन के भीतर है वाइन की लंबी सुरंग

1 of

नई दिल्ली। पूर्वी यूरोप में एक छोटा-सा देश है मालदोवा। एक समय था जब इसे यूरोप के सबसे गरीब देशों में गिना जाता था, लेकिन इस गरीब देश को वाइन ने शक्तिशाली (पावरफुल) देश बना दिया है। यहां जमीन के भीतर शराब का भंडार है। 2003 में रूस के राष्ट्रपति व्लादिमीर पुतिन ने मालदोवा देश की मशहूर क्रिकोवा वाइनरी में अपना 50वां जन्मदिन मनाया था। यहां उनके वाइन का कलेक्शन था। इन दिनों वाइन की इस विशाल गुफा क्रिकोवा में जर्मन चांसलर एंजेला मार्केल की वाइन का कलेक्शन है। इस देश में वाइन की लंबी सुरंग है और इस सुरंग से जुड़े रास्तों के अलग-अलग नाम रखे गए हैं। इनमें से एक क्रिकोवा वाइनरी है जिसे दुनिया का दूसरा सबसे बड़ा वाइन भंडार माना जाता है। यहां 15 लाख से ज्यादा वाइन की बोतलें रखी हुई हैं। मालदोवा में शराब बनाने का काम हजारों साल पहले से चला आ रहा है। यहां पिछले 25 हजार साल से अंगूर की खेती हो रही है और इस अंगूर से वाइन बनाने का काम वर्षों पुराना है।

आगे पढ़ें…

 

 

एेसे होता है यहां कारोबार

मालदोवा में उत्पाद किए जा रहे वाइन की एक तिहाई हिस्सा रूस में निर्यात किया जाता रहा है। रूस के अलावा सोवियत राज्य में भी 70% वाइन बेचा जाता है। हांलाकि मालदोवा की सरकार और रूस के रिश्तों में दरार की वजह से पुतिन  सरकार ने शराब आयात पर रोक लगा दी है। मालदोवा से बड़ी मात्रा में वाइन स्मगलिंग किया जाता है। यहां का घरेलू शराब देशभर के निवेश बाजारों को आकर्षित कर रहा है। 2010-2015 तक में तकरीबन 20 कंपनियों ने इस क्षेत्र में 21 मिलियन डाॅलर का निवेश किया था। 2014 में मालदोवा दुनिया का 20वां सबसे बड़ा वाइन उत्पादक देश था, इसमें 67 मिलियन बोतलें निर्यात हुई थी।

नेशनल बैंक के आंकड़ों से पता चलता है कि 2017 की तीसरी तिमाही में मालदोवा ने 46 मिलियन अमेरिकी डाॅलर का शराब निर्यात किया जो कि 2016 की तुलना में 13% अधिक रहा। नील्सन के अनुसार, पुरानी मालदोवा का मुख्य उत्पादक 26% घरेलू सेगमेंट शेयर हैं। बोतलबंद शराब निर्यात की कीमत में 15फीसदी बढ़ोतरी की गई है। इस कारोबार से  लगभग 200,000 लोगों को रोजगार मिला है।

आगे पढ़ें…

 

उम्दा क्वालिटी की होती है वाइन

यहां वाइन की क्वालिटी पर खास ध्यान रखा जाता है। यहां बदलते समय में क्वालिटी के साथ कीमत में बढ़ा दी गई है। 

 

 

prev
next
मनी भास्कर पर पढ़िए बिज़नेस से जुड़ी ताज़ा खबरें Business News in Hindi और रखिये अपने आप को अप-टू-डेट