Home » Economy » Policynew hospital bed for aushmaan scheme

आयुष्‍मान भारत स्‍कीम के लिए 1.6 लाख नए हॉस्पिटल बेड की होगी जरूरत, छोटे शहरों में खुलेंगे नए अस्‍पताल

मौजूदा समय में देश भर में 13.5 लाख हॉस्पिटल बेड हैं।

new hospital bed for aushmaan scheme

नई दिल्‍ली। देश के 50 करोड़ लोगों को आयुष्‍मान भारत स्‍कीम के तहत 5 लाख रुपए तक की इलाज की मुफ्त सुविधा मुहैया कराने के लिए 1.6 लाख नए हॉस्पिटल बेड की जरूरत होगी। मौजूदा समय में देश भर में 13.5 लाख हॉस्पिटल बेड हैं। ऐसे में अगर देश भर में आयुष्‍मान भारत स्‍कीम को सफलतापूर्वक लागू करना है तो 1.6 लाख नए हॉस्पिटल बेड की जरूरत होगी। प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने 15 अगस्‍त को 25 सितंबर से आयुष्‍मान स्‍कीम देश भर में लांच करने की घोषणा की है। 

 

छोटे शहरों में खुलेंगे नए हॉस्पिटल 

 

आयुष्‍मान स्‍कीम लागू होने से टियर -2 और टियर -3 शहरों में नए हॉस्पिटल खुलेंगे। इसका कारण यह है कि इस स्‍कीम के ज्‍यादातर लाभार्थी छोटे शहरों और ग्रामीण इलाकों में रह रहे हैं। छोटे शहरों में अभी भी बेहतर गुणवत्‍ता के हॉस्पिटल की कमी है। ओरिएंटल इन्‍श्‍योरेंस कंपनी लिमिटेड के पूर्व डीजीएम एनके सिंह ने moneybhaskar.com को बताया कि  इस स्‍कीम की वजह से छोटे शहरों में न सिर्फ नए हॉस्पिटल खुलेंगे। बल्कि बड़े शहरों में चल रहे हॉस्पिटल अपने हॉस्पिटल चेन का विस्‍तार भी छोटे शहरों में कर सकते हैं। इससे छोटे शहरों में भी लोगों को बेहतर गुणवत्‍ता और आधुनिक सुविधाओं वाले हॉस्पिटल उपलब्‍ध होंगे। 

 

हेल्‍थकेयर सुविधाओं की बढ़ेगी मांग 

 

पॉलिसीबाजार डॉट कॉम के हेड, हेल्‍थ इन्‍श्‍योरेंस अमित छाबड़ा ने moneybhaskar.com को बताया कि आयुष्‍मान भारत स्‍कीम लागू होने से देश में हेल्‍थकेयर सुविधाओं की मांग बढ़ेगी। इससे सरकारी और प्राइवेट सेक्‍टर में हेल्‍थकेयर सुविधाएं बढ़ेगी। खास कर टियर 2 और टियर 3 शहरों में यह सुविधाएं बढ़ेगी। स्‍कीम की वजह से सामाजिक और आर्थिक रूप से कमजोर लोगों में हेल्‍थ इन्‍श्‍योरेंस कवरेज बढ़ेगा। बीमा कंपनियों को भी इसका फायदा मिलेगा।

 

हाइब्रिड मॉडल पर लागू हो सकती है स्‍कीम 

 

सूत्रों के मुताबिक देश के तमाम राज्‍यों में इस स्‍कीम को हाइब्रिड मॉडल पर लागू किया जा सकता है। इसके तहत 1 लाख रुपए तक के इलाज का खर्च बीमा कंपनी वहन करेगी। वहीं इलाज का बिल 1 लाख रुपए से अधिक होने पर बिल का भुगतान ट्रस्‍ट करेगा। देश में इस स्‍कीम को लागू करने के लिए 23 राज्‍य सहमत हो गए हैं। लेकिन कई राज्‍य ऐसे हैं जो अपने यहां इस स्‍कीम को इन्‍श्‍योरेंस मॉडल के बजाए ट्रस्‍ट मॉडल पर लागू करना चाहते हैं। हाइब्रिड मॉडल पर ज्‍यादातर राज्‍य सहमत हो सकते हैं। इससे बीमा कंपनियों पर भी कम खर्च आएगा और केंद्र सरकार को भी इस स्‍क्‍ीम के तहत प्रति परिवार कम प्रीमियम देना होना। 

 

आयुष्‍मान स्‍कीम के लिए स्‍वास्‍थ्‍य मित्र नियुक्‍त करेगी सरकार 

 
जनधन योजना की तर्ज पर मोदी सरकार आयुष्मान योजना के लिए बड़ा दांव लगाने जा रही है। इसके तहत देश भर में स्वास्थ्य मित्र बनाए जा सकते हैं, जो कि स्कीम के तहत लोगों का बीमा करवाने के साथ इलाज की सुविधा भी दिलाएंगे। इसके बदले स्‍वास्‍थ्‍य मित्र को एक निश्चित सैलरी के साथ इंसेंटिव भी मिलेगा। स्वास्थ्य मित्र ठीक उसी तरह होंगे जैसे अभी जनधन योजना में बैंक मित्र लोगों का खाता खुलवाने के साथ-साथ बैंकिंग ट्रांजैक्शन कराते हैं। इस संबंध में मंत्रालय स्तर पर विचार-विमर्श चल रहा है। सरकार की योजना 15 अगस्त 2018 को आयुष्मान स्कीम लॉन्‍च करने की है। 

prev
next
मनी भास्कर पर पढ़िए बिज़नेस से जुड़ी ताज़ा खबरें Business News in Hindi और रखिये अपने आप को अप-टू-डेट
Don't Miss