Home » Economy » PolicyLeft shimla manali tour go for adventure to tosh in himachal pradesh

खूबसूरती में शिमला और मनाली को टक्कर देता हिमाचल का ये गांव, खर्च मात्र 3 हजार

हिमाचल का छोटा सा गांव तोष नया टूरिस्ट प्लेस बन रहा है। पार्वती वैली में स्थित ये गांव शोर-शराबे से बिल्कुल दूर

1 of

सौरभ कुमार वर्मा

 

नई दिल्ली। हिमाचल का नाम आते ही सबसे पहले शिमला और मनाली याद आते हैं, जो अब काफी पुराने टूरिस्ट प्लेस हो चुके हैं। देशभर से आने वाले टूरिस्ट की वजह से यहां की सड़कों पर भारी ट्रैफिक रहता है और होटल टूरिस्ट से भरे रहते हैं। साथ ही, बढ़ती आबादी की वजह से यहां बेतहाशा निर्माण कार्य हुआ है। इससे यहां की प्राकृतिक रंगत कम हुई है।

ऐसे में हिमाचल का छोटा सा गांव तोष नया टूरिस्ट प्लेस बन रहा है। पार्वती वैली में स्थित ये गांव शोर-शराबे से बिल्कुल दूर है। साथ ही झरनों और हरे-भरे पहाड़ों की वजह से यहां की सुंदरता देखते ही बनती है। तोष के आसपास घूमने के कई अन्य टूरिस्ट प्लेस भी हैं। ऐसे में यहां घूमने का प्लान बना सकते हैं।

 

घूमने के लिए कौन सा मौसम रहेगा सही

तोष घूमने का सबसे अच्छा मौसम मिड अगस्त से अक्टूबर होता है। हालांकि अगस्त में बारिश हो सकती है। इसलिए मौसम के ताजा अनुमान के मुताबिक प्लान बनाएं, क्योंकि यहां लैंड स्लाइडिंग का खतरा बना रहता है, जबकि अक्टूबर के बाद यहां बर्फबारी शुरू हो जाती है। इस वजह से रास्ते बंद हो जाते हैं। तोष में फरवरी तक बर्फबारी होती है। ऐसे में यहां फरवरी के बाद भी जाया जा सकता है। लेकिन बर्फबारी के बाद पहाड़ वीरान से नजर आते हैं।

 

आगे पढ़ें 

 

कैसे जाएं-

 
दिल्ली से तोष जाने के लिए सबसे अच्छा साधन बस होती है। इसे कश्मीरी गेट बस अड्‌डे से ले सकते हैं। यहां हिमाचल प्रदेश की रोडवेज और प्राइवेट दोनों तरह की बसें मौजूद रहती है। कश्मीरी गेट से सीधे हिमाचल के भुंतर के लिए बस मिलती है। इसके बाद भुंतर से तोष के लिए किराए पर अपनी टैक्सी ली जा सकती है या फिर रोडवेज बस का इस्तेमाल कर सकते हैं, जो वार्षेणी तक जाती है, जहां से तोष के लिए पैदल रास्ता है। इसके अलावा दिल्ली से चंढ़ीगढ़ तक प्लेन और फिर वहां से बस या फिर टैक्सी से भी जाया जा सकता है।

 
खर्च-

अगर हिमालच रोड़वेज से जाते है, तो तोष आने-जाने में मात्र तीन हजार रुपए खर्च करने पड़ेंगे। दिल्ली से भुंतर तक रोडवेज का किराया 600 रुपए है, वहां से तोष के लिए 35 से 40 रुपए लगते हैं। मतलब 1400 से 1500 में आना और जाना हो जाता है। बाकी खाने-पीने और रुम रेंट पर 1500 रुपए के करीब खर्च आता है।

 

साथ क्या लेकर जाएं-

आमतौर पर तोष में रात के वक्त काफी ठंड होती है। इसलिए गर्म कपड़े लेकर जाएं। साथ ही एक टार्च, दो जोड़ी जूते, कुछ जोड़ी फुल पैंड, टी-शर्ट और पॉवर बैंक लेकर जाएं। अगर कुछ छूट जाएं तो घबराएं नहीं, उसे वहां जाकर भी खरीदा जा सकता है। लेकिन वो बाकी जगह से महंगा होगा।

 
आसपास घूमने की जगह-

तोष जाते वक्त रास्ते में ही कसौल पड़ता है, जहां घूमने के साथ शॉपिंग भी कर सकते हैं। इसके अलावा एडवेंचर पसंद है, तो तोष से खीरगंगा के लिए ट्रैकिंग कर सकते है, जो कि तोष से 14 किमीं. दूर है। इसके लिए दो दिन वक्त लगता है। खीरगंगा में गर्म पानी की झील है, जो टूरिस्ट में काफी एडवेंचर पैदा करती है। टूरिस्ट खीरंगगा में रात रुककर कैंपिंग भी कर सकते हैं।

 
कितने दिन का बनाएं टूर-

कसौल से होते हुए तोष और खीरंगगा तक जाना चाहते है, तो कम से कम चार दिन और रात का प्लान बनाएं। एक दो दिन ज्यादा मानकर चलें।

prev
next
मनी भास्कर पर पढ़िए बिज़नेस से जुड़ी ताज़ा खबरें Business News in Hindi और रखिये अपने आप को अप-टू-डेट