Home » Economy » PolicyJind Kaur's Necklace Auction

कभी महारानी जिंद कौर ने जौहर करने से किया था मना अब उनकी नेकलेस हुआ नीलाम

पौने दौ सौ करोड़ रुपए लगाई गई बोली

Jind Kaur's Necklace Auction

नई दिल्ली। महाराजा रणजीत सिंह की पत्नी महारानी जिंद कौर की भारी भरकम नेकलेस की नीलामी हुई है। मीडिया रिपोर्ट के अनुसार यह नीलामी लंदन में हुई है। जिंद कौर पंजाब के महाराजा रणजीत सिंह की पहली पत्नी और आखिरी सिख महारानी थी। बताया जाता है कि जिंद कौर रणजीत सिंह की कई पत्नियों में अकेली थी जो सती नहीं हुई थी। लंदन में जिंद कौर की नेकलेस के लिए करीब पौने दौ सौ करोड़ रुपए की बोली लगाई गई। इस नेकलेस को लंदन के नीलामीघर बोनहैम्स के इस्लामिक एंड इंडियन आर्ट सेल में बिक्री के लिए रखा गया था।

नेकलेस की खासियत

महारानी का यह हार हीरे और जवाहरात से जड़ित है। इसकी अनुमानित कीमत 80 हजार से 1,20,000 पाउंड के बीच आंकी गई थी जो कि इससे अधिक  कीमत में बिका। इस हार समेत अंग्रेजी राज के समय के विभिन्न सामानों की नीलामी से कुल 1,818,500 पाउंड की राशि प्राप्त हुई।

जानें महारानी जिंद कौर के बारें में

1839 में महाराजा रणजीत सिंह की मृत्यु होने पर उनकी अन्य रानियाें ने जौहर कर लिया था लेकिन महारानी जिंद ने जौहर ना करके पंजाब की गद्दी को संभाली। वह महाराजा दिलीप सिंह की मां थीं। 1843 में उनके पांच वर्षीय बेटे दिलीप सिंह को नया राजा और उन्हें संरक्षक घाेषित किया गया था लेकिन ब्रिटिश हुकूमत ने पंजाब को अपने कब्जे में कर रानी को उनके बेटे से अलग कर उन्हें बंदी बना लिया था। इसी दौरान उनके आभूषण ब्रिटेन की महारानी विक्टोरिया को तोहफे के तौर पर सौंपे गए थे। 1863 में जिंद कौर का निधन हो गया था।

 

prev
next
मनी भास्कर पर पढ़िए बिज़नेस से जुड़ी ताज़ा खबरें Business News in Hindi और रखिये अपने आप को अप-टू-डेट