Utility

24,712 Views
X
Trending News Alerts

ट्रेंडिंग न्यूज़ अलर्ट

मिडकैप इंडेक्स में लौटी रिकवरी, ये शेयर आगे दे सकते हैं 34% तक रिटर्न जीएसटी कलेक्‍शन के लिए कैश आधारित लेखा प्रणाली अपनाएगी फाइनेंस मिनिस्‍ट्री हीरो मोटो की बाइक-स्कूटर 625 रु तक हुए महंगे, इनपुट कॉस्ट बढ़ने का असर भगोड़े आर्थिक अपराधियों की 15 हजारCr की एसेट होंगी अटैच, ऑर्डनैंस के तहत ED की तैयारी ई-कॉमर्स सेक्टर के लिए अलग पॉलिसी बनाएगी सरकार, टास्क फोर्स का किया गठन एयरटेल का प्रॉफिट 15 साल के निचले स्तर पर, 78% घटकर रह गया 83 करोड़ रु लगातार 3 दिन बंद रहेंगे सभी बैंक, हो सकती है कैश की किल्लत फोर्टिस के लिए मलेशियाई कंपनी ने रिवाइस किया ऑफर, 650Cr रु तुरंत निवेश करने को राजी Jio ने फरवरी में बनाए 87 लाख कस्‍टमर, ऐयरटेल से दोगुनी तेजी से बढ़ रहे हैं ग्राहक इस बैंक ने 18 माह में 1 लाख को बनाया 1.80 लाख, आगे भी कमाई का मौका लगातार दूसरे दिन सोना सस्‍ता, चांदी 41 हजार के नीचे रिलायंस नेवल के भविष्‍य पर ऑडिटर्स ने उठाए सवाल, बढ़ता लॉस और घटती इनकम बनी वजह वडोदरा की फर्म की 1122 करोड़ की प्रॉपर्टी अटैच, बैंकों के साथ फ्रॉड में ED की कार्रवाई 1800 कंपनियों ने सेबी को नहीं चुकाई पेनल्‍टी, UBI और IFCI जैसी कंपनियां लिस्‍ट में खास स्‍टॉक: गति में 19% की बढ़त, स्ट्रैटेजिक पार्टनर को स्टेक बेचने की खबरों का मिला फायदा
बिज़नेस न्यूज़ » Economy » Policy18 करोड़ दलित युवाओं को सरकार नहीं दे सकती नौकरी, बिजनेस के लिए करें तैयार : कांबले

18 करोड़ दलित युवाओं को सरकार नहीं दे सकती नौकरी, बिजनेस के लिए करें तैयार : कांबले

 
नई दिल्‍ली। एससी/एसटी एक्‍ट में कथित बदलाव के विरोध में शुरू हुए दलित आंदोलन को लेकर देश में बहस छिड़ी हुई है। इस आंदोलन के साथ-साथ लोग दलित आरक्षण पर भी बहस कर रहे हैं। दलित संगठनों का आरोप है कि केंद्र सरकार आरक्षण खत्‍म करने की तैयारी कर रही है, हालांकि गृह मंत्री राजनाथ सिंह और भाजपा के राष्‍ट्रीय अमित शाह इससे इंकार कर रहे हैं। बावजूद इसके, मुद्दा गरमाया हुआ है। ऐसे में, सवाल यह उठता है कि लगभग 70 साल बाद भी देश में दलित आरक्षण पर राजनीति क्‍यों हो रही है? दलितों की आर्थिक दशा में सुधार क्‍यों नहीं हुआ? दलित युवाओं के सामने आगे क्‍या विकल्‍प हैं? ऐसे कई अहम सवालों को लेकर मनीभास्‍कर के राजू सजवान ने दलित चैंबर ऑफ कॉमर्स एंड इंडस्‍ट्री (डिक्‍की) के फाउंडर चेयरमैन मिलिंद कांबले से बातचीत की। प्रस्‍तुत हैं, इस बातचीत के अंश : 

 
कोई सरकार 18 करोड़ दलित युवाओं को नौकरी नहीं दे सकती। 
दलित आंदोलन के बाद उठ रहे सवालों के जवाब में मिलिंद कांबले ने कहा कि हर वर्ग को अपनी बात सरकार तक पहुंचाने के लिए लोकतंत्र में आंदोलन की पूरी आजादी है, लेकिन जिस तरह से इस आंदोलन में हिंसा हुई, उसका समर्थन नहीं किया जा सकता, हिंसा की किसी को इजाजत नहीं। जहां तक आरक्षण की बात है तो केवल आरक्षण दलितों की समस्‍या का समाधान नहीं है। देश में लगभग 18 करोड़ युवा दलित हैं, जिनकी उम्र 20 से लेकर 35 साल है। और इतनी बड़ी संख्‍या को कोई भी सरकार नौकरी नहीं दे सकती। उन्‍हें रोजगार के अवसर प्रदान करने होंगे। स्किल डेवलपमेंट और सेल्‍फ इम्‍प्‍लॉयमेंट स्‍कीम्‍स को प्रमोट करना होगा। मुझे लगता है कि वर्तमान सरकार इस दिशा में काम कर रही है। 
 
राजनीतिक पार्टियों ने नहीं किया इकोनॉमिक डेवलपमेंट पर फोकस 
कांबले ने कहा कि देश को आजाद हुए 70 साल से अधिक समय हो चुका है, बावजूद इसके अब तक दलितों की स्थिति में कुछ ज्‍यादा अंतर नहीं आया। इसकी वजह यह रही कि राजनीतिक दलों और दलित संगठनों ने दलितों को इमोशनल इश्‍यू पर ही अटकाये रखा। उनके इकोनॉमिक डेवलपमेंट के बारे में न तो सोचा और ना ही सरकारों पर दबाव बनाया, ताकि सरकारें दलित समाज के इकोनॉमिक डेवलपमेंट के लिए ठोस पॉलिसी बनाएं। उन्‍होंने कहा कि इकोनॉमिक डेवलपमेंट से दलित समाज की बहुत सारी समस्‍याएं दूर हो जाएंगी। 
 
प्राइवेट सेक्‍टर में भी हो आरक्षण 
डिक्‍की चेयरमैन ने कहा कि बेशक आरक्षण सभी समस्‍याओं का समाधान नहीं है, लेकिन अभी दलितों को आरक्षण की जरूरत है। गर्वनमेंट सेक्‍टर में ही नहीं, बल्कि प्राइवेट सेक्‍टर में भी दलितों को आरक्षण मिलना चाहिए। इससे बेरोजगार दलितों को रोजगार मिलेगा और उनकी आर्थिक दशा सुधरने से कुछ तो हालात सुधरेंगे। 
 
 मोदी सरकार का काम अच्छा
साल 2005 में मिलिंद कांबले ने डिक्‍की की स्‍थापना की थी। तब से कांबले एक्टिव हैं। वह कहते हैं कि उन्‍होंने पिछली सरकार के साथ भी काम किया और इस सरकार के साथ भी काम कर रहे हैं। लेकिन दलितों में स्‍वरोजगार की भावना पैदा करने और उन्‍हें रोजगार उपलब्‍ध कराने की दिशा में मोदी सरकार जिस तरह काम कर रही है, वह काफी अच्छा है। 
 
मुद्रा 
मोदी सरकार ने अब तक का सबसे बड़ा फाइनेंशियल इन्‍क्‍लूजन प्रोग्राम चलाया, जिसे प्रधानमंत्री मुद्रा स्‍कीम कहा जाता है। इस स्‍कीम के तहत 12 करोड़ लोगों को लोन दिया गया। इसमें से 18 फीसदी एससी और 5 फीसदी एसटी हैं। सरकार ने जन धन योजना चला कर दलितों के बैंक खाते खोलकर उन्‍हें फॉर्मल बैंकिंग से जोड़ा और इसके बाद उन्‍हें मुद्रा योजना के तहत लोन दिया गया। 
 
स्‍टैंड अप इंडिया 
इसके अलावा सरकार ने स्‍टैंड अप इंडिया स्‍कीम के तहत 10 लाख से लेकर 1 करोड़ रुपए तक का लोन देना शुरू किया। अब तक 9000 एससी वर्ग और 3000 एसटी वर्ग के लोगों को लोन दिया जा चुका है। स्‍टैंड अप इंडिया की औसत लैंडिंग अमाउंट 16 लाख रुपया है। बिजनेस शुरू करने के लिए यह काफी है। वेंचर कैपिटल फंड स्‍कीम के तहत दलितों को फाइनेंशियल और अन्‍य तरह की सपोर्ट दी जा रही है। 
 
नेशनल एससी/एसटी हब 
कांबले के मुताबिक, मोदी सरकार ने एक और अहम कदम उठाया है। मिनिस्‍ट्री ऑफ एमएसएमई के तहत नेशनल एससी / एसटी हब की शुरुआत की है। जिसका मकसद एससी और एसटी वर्ग को जागरूक करना है, ताकि वे अधिक से अधिक संख्‍या में सरकारी स्‍कीम्‍स का फायदा उठा सकें। 
 
आगे पढ़ें : सरकारी कंपनियों को माइंडसेट बदलना होगा 

और देखने के लिए नीचे की स्लाइड क्लिक करें

Trending

NEXT STORY

Disclaimer:- Money Bhaskar has taken full care in researching and producing content for the portal. However, views expressed here are that of individual analysts. Money Bhaskar does not take responsibility for any gain or loss made on recommendations of analysts. Please consult your financial advisers before investing.