बिज़नेस न्यूज़ » Economy » Policyदिसंबर में सर्विस सेक्‍टर में मामूली ग्रोथ, नए ऑर्डर की कमी बरकरार

दिसंबर में सर्विस सेक्‍टर में मामूली ग्रोथ, नए ऑर्डर की कमी बरकरार

देश के सर्विस सेक्‍टर ने दिसंबर माह में मामूली ग्रोथ दर्ज की है।

1 of

नई दिल्‍ली। देश के सर्विस सेक्‍टर ने दिसंबर माह में मामूली ग्रोथ दर्ज की है। मंथली सर्वे के मुताबिक सर्विस सेक्‍टर में नए ऑर्डर काफी हद तक स्थिर हैं। इसकी वजह से रिकवरी के बावजूद सर्विस सेक्‍टर में ज्‍यादा ग्रोथ नहीं आई है। दिसंबर माह में बिजनेस एक्टिविटी इंडेक्‍स में नवंबर की तुलना में सुधार हुआ है और यह नवंबर के 48.5 से बढ़ कर 50.9 हो गया है। 

 

सर्विस सेक्‍टर में रिकवरी के संकेत 

पीएमआई इंडेक्‍स 50 से अधिक होने का मतलब है कि सर्विस सेक्‍टर की गतिविधियों में विस्‍तार हो रहा है और इससे कम का स्‍कोर दिखाता है कि गतिविधियों में गिरावट आ रही है। रिपोर्ट तैयार करने वाले आईएचएस के इकोनॉमिस्‍ट आशाना दोधिया ने कहा कि भारत की सर्विस इकोनॉमी ने रिकवरी का संकेत दिया है। दिसंबर माह में सर्विस सेक्‍टर ने गतिविधियो में मामूली ग्रोथ दजै की है। इससे पता चलता है कि जीएसटी की वजह से अब भी नए ऑर्डर मिलने में मुश्किल हो रही है।

 

मैन्‍यूफैक्‍चरिंग ग्रोथ 5 साल में सबसे तेज रही

इस बीच मैन्‍यूफैक्‍चरिंग कंपनियों की प्रोडक्‍शन ग्रोथ दिसंबर माह में पिछले 5 साल में सबसे तेज रही है और निक्‍केई इंडिया कंपोजिट पीएमआई आउटपुट इंडेक्‍स दिसंबर में बढ़ कर 53.0 पर आ गया जबकि नवंबर में यह 50.3 के स्‍तर पर था। अक्‍टूबर 2016 के बाद यह पीएमआई आउटपुट इंडेक्‍स का अधिकतम स्‍तर है। दोधिया का कहना है कि अक्‍टूबर 2016 के बाद इकोनॉमी का यह सबसे अच्‍छा प्रदर्शन है। इसका मतलब है कि इकोनॉमी नोटबंदी और जीएसटी के दोहरे झटके से उबर रही है। 

 

prev
next
मनी भास्कर पर पढ़िए बिज़नेस से जुड़ी ताज़ा खबरें Business News in Hindi और रखिये अपने आप को अप-टू-डेट