बिज़नेस न्यूज़ » Economy » Policyकंपनी को नहीं दिया था रेंट प्रूफ तो ITR फाइल करके HRA पर ले सकते हैं रिफंड

कंपनी को नहीं दिया था रेंट प्रूफ तो ITR फाइल करके HRA पर ले सकते हैं रिफंड

आप रिटर्न फाइल किए बिना HRA पर TAX छूट नहीं ले सकते हैं।

1 of

नई दिल्‍ली. आप नौकरी करते हैं तो आपको हाउस रेंट अलाउंस यानी HRA मिलता होगा। अगर आप किराए के घर में रहते हैं तो आप एचआरए पर TAX छूट ले सकते हैं। हालांकि अगर आपने कंपनी को रेंट स्लिप या रेंट का प्रूफ नहीं दिया है तो कंपनी ने आपके एचआरए पर भी TDS काटा होगा। लेकिन अब भी आपके पास ITR फाइल करके एचआरए पर रिफंड पाने का मौका है। आप वित्‍त वर्ष 2017-18 के लिए 31 जुलाई तक रिटर्न फाइल कर सकते हैं। अहम  बात यह है कि आप Return फाइल किए बिना एचआरए पर रिफंड नहीं ले सकते हैं। 

 

आईटीआर फाइल कर एचआरए पर ले सकते हैं टैक्‍स छूट 

अगर आप किराए पर रहते हैं और आपने कंपनी में रेंट स्लिप या रेंट एग्रीमेंट का डॉक्‍युमेंट नहीं जमा कराया है तो आपके पास अब भी एचआरए पर टैक्‍स छूट पाने का मौका है। आप ITR फाइल करके एचआरए पर टैक्‍स छूट ले सकते हैं। आप एचआरए के कितने अमाउंट पर टैक्‍स छूट ले सकते हैं यह इस बात पर भी निर्भर करता है कि आप मेट्रो शहर में रहते हैं या नॉन मेट्रो शहर में। मेट्रो शहर में आपकी सैलरी का 50 फीसदी तक और नॉन मेंट्रो शहरों में सैलरी का 40 फीसदी तक एचआरए पर आप टैक्‍स छूट ले सकते हैं। 

 

आगे पढ़ें 

 

पैरेंट्स के घर में रहते हैं तब भी ले सकते हैं टैक्‍स छूट 

अगर आप अपने पैरेंट्स के घर में रहते हैं तब भी आप एचआरए पर टैक्‍स छूट ले सकते हैं। इसके लिए जरूरी है कि आप अपने पैरेंट्स को किराया देते हों। अगर आप पैरेंट्स के घर में रहते हुए एचआरए पर टैक्‍स छूट क्‍लेम करते हैं तो आपके लिए जरूरी है कि आपके पास इस बात का प्रूफ हो कि आपने उनको किराया दिया है। इसके अलावा यह आपके पैरेंट्स की इनकम में भी दिखना चाहिए। 

 

 

आईटीआर फाइल करते समय नहीं होती डाक्‍युमेंट की जरूरत 

आपको आईटीआर फाइल करते समय एचआरए पर टैक्‍स छूट क्‍लेम करने के लिए डाक्‍युमेंट जमा कराने की जरूरत नहीं है। हालांकि आपका आईटीआर प्रॉसेस करते समय इनकम टैक्‍स विभाग आपसे एचआरए पर टैक्‍स छूट क्‍लेम को लेकर प्रूफ मांग सकता है। ऐसे में आपके पास इस बात का प्रूफ होना चाहिए कि आप किराए पर रहते हैं या और आप किराया दे रहे हैं। अगर आप सालाना 1 लाख रुपए से अधिक किराया देते हैं तो इनकम टैक्‍स डिपार्टमेंट आपसे मकान मालिक की पैन‍ डिटेल भी मांग सकता है। 

 

 

आगे भी पढ़ें 

 

 

बदली है नौकरी तो दोनों कंपनियों से लेना होगा फॉर्म -16
सीए अमरजीत चोपड़ा ने moneybhaskar.com को बताया कि अगर किसी ने वित्‍त वर्ष 2017-18  में नौकरी बदली है तो उसे पुरानी कंपनी और नई कंपनी दोनों से फॉर्म 16 लेना होगा। इसके बिना इनकम टैक्‍स रिटर्न फाइल नहीं किया जा सकता है। फॉर्म 16 में आपकी सैलरी और आप पर कितना टैक्‍स बनता है इसका ब्‍यौरा होता है। अगर आपकी कंपनी ने आपकी इनकम पर टीडीएस काटा है तो इसका ब्‍यौरा भी फॉर्म 16 में होता है।

prev
next
मनी भास्कर पर पढ़िए बिज़नेस से जुड़ी ताज़ा खबरें Business News in Hindi और रखिये अपने आप को अप-टू-डेट