बिज़नेस न्यूज़ » Economy » Policyपोस्‍ट ऑफि‍स में जमा आपके पैसे से आएंगे ये प्‍लेन, मोदी-कोविंद करेंगे सफर

पोस्‍ट ऑफि‍स में जमा आपके पैसे से आएंगे ये प्‍लेन, मोदी-कोविंद करेंगे सफर

दो वीवीआईपी एयरक्राफ्ट के मोडि‍फि‍केशन और खरीद के लि‍ए सरकार ने एयर इंडि‍या को जरूरी फंड्स जारी कि‍ए हैं।

1 of

नई दि‍ल्‍ली। दो वीवीआईपी एयरक्राफ्ट के मोडि‍फि‍केशन और खरीद के लि‍ए सरकार ने एयर इंडि‍या को  जरूरी फंड्स जारी कि‍ए हैं। यह फंड्स नेशनल स्‍मॉल सेविंग फंड्स (NSSF) अकाउंट से दि‍ए जाएंगे। यह बात यूनि‍यन मि‍नि‍स्‍टर जयंत सिन्‍हा ने दी है। 

 

राज्‍य सभा में लि‍खि‍त जवाब में सि‍न्‍हा ने कहा कि‍ एयर इंडि‍या ने पहले बैंक ऑफ बडौदा से 18 करोड़ डॉलर का शॉर्ट टर्म लोन लेने का प्रस्‍ताव दि‍या था, जि‍से टेंडर प्रोसेस के जरि‍ए चुना जाना था। यह लोन सरकार के स्‍पेशल एक्‍स्‍ट्रा सेक्‍शन फ्लाइंट्स (एसईएसएफ) के लि‍ए दो बोइंग 777-300 ईआर एयरक्राफ्ट के मोडि‍फि‍केशन और खरीदने के लि‍ए लि‍या जा रहा था।  

 

लोन लेने से इनकार

 

राज्‍य के नगर वि‍मानन मंत्री ने कहा कि‍ इस लोन को नहीं लि‍या गया है क्‍योंकि‍ भारत सरकार ने जरूरी फंड्स या अकाउंट को नेशनल स्‍मॉल सेविंग फंड्स से जारी कि‍या है। यह पेमेंट दो बी777-300 ईआर एयरक्राफ्ट को लेने और मोडि‍फाई करने के लि‍ए होगी। इस प्‍लेन का इस्‍तेमाल राष्‍ट्रपति‍, उप राष्‍ट्रपति‍ और प्रधानमंत्री करते हैं। 

 

उन्‍होंने यह भी कहा कि‍ दो प्‍लेन के लि‍ए कैबि‍न रीकॉन्‍फि‍गरेशन की अनुमानि‍त कॉस्‍ट अब 13.2 करोड़ डॉलर है। पहले इसकी अनुमानि‍त कॉस्‍ट करीब 18 करोड़ डॉलर थी। आमतौर पर NSSF की ओर से दि‍ए जाने वाले लोन को सरकारी कंपनि‍यों को दि‍या जाता है। बजट 2018-19 में दो नए बी777-300 ईआर प्‍लेन के लि‍ए 4,469.50 करोड़ रुपए की राशि‍ आवंटि‍त की गई थी।

 

क्‍या है नेशनल स्‍मॉल सेविंग फंड्स?

 

नेशनल सेविंग इंस्‍टीट्यूट की वेबसाइट के मुताबि‍क, स्‍मॉल सेविंग स्‍कीम्‍स के तहत सभी जमा को NSSF में डाले जाते हैं। इसमें पोस्‍ट ऑफि‍स की स्‍मॉल सेविंग स्‍कीम्‍स में जमा पैसे शामि‍ल हैं।

 

आगे पढ़ें... 

मोदी-कोविंद के प्‍लेन की खासि‍यत

 

इस प्‍लेन में दो जीई90-115बीएल इंजन (जनरल इलेक्‍ट्रि‍क द्वारा बनाए गए) हैं, जोकि‍ दुनि‍या के सबसे पावरफुल जेट इंजन हैं और यह 1,15,300 lbs का मैक्‍सि‍मम थ्रस्‍ट देते हैं। खासतौर से इस प्‍लेन का यूज प्रधानमंत्री या राष्‍ट्रपति‍ की नॉन स्‍टॉप ट्रैवलिंग डि‍मांड को पूरा करने के लि‍ए कि‍या जाता है। 

 

फ्लाइट के अंदर का ब्‍ल्‍यूप्रिंट

 

स्‍टैंडर्ड बोइंग 777-300ईआर में 396 पैसेंजर्स सीट होती हैं लेकि‍न यह एयर इंडि‍या वन वेरि‍एंट के साथ नहीं होगा। प्‍लेन के अंदर के प्‍लेस का इस्‍तेमाल कॉन्‍फ्रेंस रूम, वीवीआईपी सीटिंग एयि‍या, इन-फ्लाइट कि‍चन और प्रधानमंत्री या राष्‍ट्रपति‍ के लि‍ए स्‍पेशल रूम के लि‍ए होगा। यह प्‍लेन 2,000 लोगों के लि‍ए खाना ले जा सकता है।  

 

आगे पढ़ें...

 

सि‍क्‍योरि‍टी और दूसरे फीचर्स

 

मोबाइल और सैटेलाइट फोन के साथ कम्‍युनि‍केशन के सभी मोड इसमें होंगे। खासतौर से इसे ऑन ग्राउंड एयरलाइन अधि‍कारि‍यों से कनेक्‍ट करने के लि‍ए कस्‍टमाइज कि‍या जाएगा। डि‍फेंस एक्‍सपर्ट के मुताबि‍क, प्‍लेन को रडार सेंसिंग मेटल से बनाया जाएगा, इसका यूज आने वाले मि‍साइल अटैक को पहचानने के लि‍ए होता है। इसमें ऐसा सि‍स्‍टम भी होगा जो कि‍ दुश्‍मन रडार को धोखा देते हुए एयर अटैक से बचाता है। एयर इंडि‍या वन में हवा में ही ईंधन भरने की क्षमता रहती है।

prev
next
मनी भास्कर पर पढ़िए बिज़नेस से जुड़ी ताज़ा खबरें Business News in Hindi और रखिये अपने आप को अप-टू-डेट