बिज़नेस न्यूज़ » Economy » Policyएनर्जी एक्‍सचेंज में बिजली की कीमत 11.41 रु प्रति यूनिट पहुंची, 5 साल का रिकॉर्ड टूटा

एनर्जी एक्‍सचेंज में बिजली की कीमत 11.41 रु प्रति यूनिट पहुंची, 5 साल का रिकॉर्ड टूटा

इंडियन एनर्जी एक्‍सचेंज में मंगलवार को स्पॉट पावर की कीमत 5 साल के उच्चतम स्‍तर 11.41 रुपये प्रति यूनिट तक पहुंच गई।

1 of

नई दिल्‍ली. इंडियन एनर्जी एक्‍सचेंज में मंगलवार को स्पॉट पावर की कीमत 5 साल के उच्चतम स्‍तर 11.41 रुपए प्रति यूनिट तक पहुंच गई। एक्‍सपर्ट्स का कहना है कि पावर प्‍लांट्स को कोयले की सप्‍लाई बढ़ाने के सरकार के फैसले के कारण यह स्थिति पैदा हुई है। इस वजह से कैपटिव प्लांट्स को एग्रेसिव बिडिंग करनी पड़ी, जिस कारण एक्‍सचेंज में रेट इतने ऊंचे पहुंच गए। 

 

पावर प्‍लांट्स को दिया कोयला 
सरकार ने पिछले सप्‍ताह निर्णय लिया था कि सेंट्रल और स्‍टेट पावर प्‍लांट्स और इंडिपेंडेंट पावर प्रोड्यूसर के लिए कोल सप्‍लाई बढ़ा दी जाए। यह निर्णय 19 मई से 30 जून तक लागू रहेगा, क्‍योंकि इस दौरान ड्राई फ्यूल की कमी और बिजली संकट अधिक होने के आसार हैं। 

 

 

कैप्टिव पावर प्‍लांट को दरकिनार किया 
इस पर प्रतिक्रिया देते हुए इंडियन कैप्टिव पावर प्रोड्यूसर एसोसिएशन के सचिव राजीव अग्रवाल ने कहा कि सरकार कैप्टिव पावर प्रोड्यूसर को दरकिनार कर पावर प्‍लांट्स में कोयले की सप्‍लाई बढ़ा रही है। यही वजह है कि मंगलवार को एनर्जी एक्‍सचेंज पर बिजली की कीमत 11.41 रुपए तक पहुंच गई। 

 

पिछले साल 10.80 रुपए पहुंची थी कीमत 
अग्रवाल ने कहा कि यदि कोई व्‍यक्ति प्रोसेस बेस्‍ड जैसे एल्‍युमीनियम इंडस्‍ट्री चला रहा है तो वह पावर सप्‍लाई का इंतजार नहीं करेगा। वह किसी भी हाल में अपने बिजनेस को चलाने के लिए बिजली का इंतजाम करेगा। इससे पहले पावर सेक्‍टर ने सितंबर 2017 में कोयले की शॉर्टेज का सामना किया था, उस समय एनर्जी एक्‍सचेंज में स्‍पॉट प्राइस 10.80 रुपए तक पहुंच गया था। उसके बाद अक्‍टूबर में सरकार ने कहा था कि पावर प्‍लांट्स को कोयले की सप्‍लाई का मुद्दा पावर, कोल और रेलवे मिनिस्‍ट्री के बीच सामंजस्‍य से तय किया जाएगा। 

 

कैपटिव पावर प्‍लांट्स का कोयला रोका 
एक एक्‍सपर्ट ने कहा कि एनर्जी एक्‍सचेंज में स्‍पॉट प्राइस 11.41 रुपए प्रति यूनिट तक पहुंचने का एक बड़ा कारण सरकार द्वारा 30 जून तक कैपटिव पावर प्रोड्यूसर को कोयले की सप्‍लाई रोकना है। हालांकि एनर्जी एक्‍सचेंज में स्‍पॉट पावर प्राइस औसतन 6.28 रुपए प्रति यूनिट रहा। एक्‍सपर्ट ने का कि पिछले सप्‍ताह भी 1 से लेकर 1.25 रुपए प्रति यूनिट तक स्‍पॉट प्राइस बढ़ गया था, इसकी मुख्‍य वजह उत्‍तर भारत में आंधी के कारण ट्रांसमिशन लाइन में खराबी रहा। 

 

पीएम से दखल की मांग 
उधर, आईसीपीपीए ने प्रधानमंत्री कार्यालय और कोल मिनिस्‍टर पीयूष गोयल को लिखे पत्र में कहा है कि स्टील, सीमेंट और एल्यूमीनियम जैसे विभिन्न उद्योगों द्वारा अपनी मांगों को पूरा करने के लिए जो कैपटिव पावर प्‍लांट्स लगाए गए हैं, उनके लिए कोयले की सप्‍लाई बहाली की जाए। साथ ही, आगे से बिना किसी एडवांस नोटिस के कोल सप्‍लाई न रोकने का भी फैसला लिया जाए। 

prev
next
मनी भास्कर पर पढ़िए बिज़नेस से जुड़ी ताज़ा खबरें Business News in Hindi और रखिये अपने आप को अप-टू-डेट