Home » Economy » PolicyHow to check building is safe, how to cross check the property papers

घर खरीदने के लिए मिल जाए होम लोन, तब भी जरुरी नहीं कि प्रॉपर्टी सेफ है, हो सकता है नुकसान

Home Loan लेते वक्त केवल बिलडर के भरोसे नहीं रहें। खुद भी करें कंपनी की पड़ताल।

1 of

नई दिल्‍ली. दिल्‍ली-एनसीआर सहित देश के कई हिस्‍सों में इमारतें गिरने की घटनाओं के चलते लोग इस संशय में हैं कि आखिर घर खरीदने से पहले कैसे जांचा जाए कि प्रॉपर्टी अवैध नहीं है। आम धारणा है कि यदि किसी प्रॉपर्टी को बैंक लोन देने के लिए तैयार हो जाता है तो वह प्रॉपर्टी लीगल होती है और उसे खरीदने से उन्‍हें कोई दिक्‍कत नहीं होगी। लेकिन ऐसा नहीं है, क्‍योंकि नोएडा एक्‍सटेंशन के शाहबेरी में जो बिल्डिंग गिरी, उसमें अधिकतर घर खरीददारों ने होम लोन लिया हुआ था। इसलिए होम लोन लेते वक्‍त भी आपका सतर्कता बरतना जरूरी है। 

 

शाहबेरी के लोगों ने कहां से लिया था लोन 
नोएडा एक्‍सटेंशन से सटे शाहबेरी गांव की जमीन पर इमारतें गिरने से 10 लोगों की मौत हो गई। इस एरिया में दो बेडरूम, एक हॉल और एक किचन (2BHK) घर की कीमत 20 से 25 लाख रुपए थी। जो नजदीक सटे नोएडा एक्‍सटेंशन में बने फ्लैट से लगभग आधी है। लोगों का कहना है कि सस्‍ता होने और साथ ही होम लोन मिलने के कारण उन्‍होंने यहां फ्लैट खरीदे। इन लोगों ने जीआईसी हाउसिंग फाइनेंस कंपनी से होम लोन लिया था। शायद यह सोच कर होम लोन मिल रहा है तो बिल्डिंग लीगल होगी, लेकिन ऐसा नहीं हुआ। और अब जान-माल का नुकसान झेलने वाले लोगों को अपनी ईएमआई आगे भी भरनी पड़ेगी। 

 

क्‍या है मामला 
दरअसल, कई कंपनियां, जिन्‍हें NBFC (नॉन बैंकिंग फाइनेंशियल कंपनी) कहा जाता है कई तरह के लोन देती हैं, इनमें होम लोन भी शामिल हैं। एक नेशनलाइज्‍ड बैंक के वरिष्‍ठ अधिकारी ने बताया कि NBFC का रेट ऑफ इंटरेस्‍ट दो से तीन फीसदी अधिक होता है, बल्कि अनजान व्‍यक्ति से NBFC के अधिकारी 4 से 5 फीसदी अधिक ब्‍याज दर से लोन दिलवा देते हैं। NBFC लोन देते वक्‍त प्रॉपर्टी के डॉक्‍युमेंट चेक करने पर ज्‍यादा ध्‍यान नहीं देती, बल्कि घर की रजिस्‍ट्री के पेपर जरूर गिरवी रख लेते हैं। इसलिए लोग धोखा खा जाते हैं और इन NBFC से लोन लेते हैं। हालांकि सभी NBFC ऐसा नहीं करती, बल्कि प्रॉपर्टी की पूरे डॉक्‍यूमेंट चेक करके ही लोन देती हैं।

 

आगे पढ़ें : क्‍या बरतें सावधानी 

यह भी पढ़ें : इमारतें गिरने की घटनाओं से लें सबक, घर खरीदने से पहले करा लें 5 जरूरी जांच

क्‍या बरतें सावधानी 

अगर आप यह सुनिश्चित करना चाहते हैं कि आप जिस प्रॉपर्टी के लिए लोन ले रहे हैं, वह लीगल हो तो एक सावधानी आप यह बरत सकते हैं कि केवल बिल्‍डर के बताए बैंक या कंपनी से लोन न लें, बल्कि दूसरे बैंकों से भी बात करें। दरअसल, बिल्‍डर बैंक के बहाने आपको NBFC से लोन दिलवा देते हैं। इतना ही नहीं, कुछ ऐसे बैंक भी हैं, जो बिल्‍डर से मिलीभगत कर आपको लोन दे देते हैं। जो आपके लिए नुकसानदायक हो सकता है। 
 

आगे पढ़ें : क्‍या हैं नियम 

क्‍या हैं नियम 
होम लोन देने वाले बैंक प्रॉपर्टी की पूरी पड़ताल करते हैं, बल्कि इसके लिए एक लीगल एडवाइजर भी अप्वांइट किया जाता है। जो पूरे प्रॉपर्टी की सभी डॉक्‍यूमेंट चेक करता है। इसमें एरिया का अप्रूव्‍ड मास्‍टर प्‍लान, जमीन का लैंड यूज, जमीन का मालिकाना हक, बिल्डिंग का नक्‍शा, ले आउट प्‍लान, विभिन्‍न एजेंसी से ली जाने वाली एनओसी आदि शामिल हैं। 

prev
next
मनी भास्कर पर पढ़िए बिज़नेस से जुड़ी ताज़ा खबरें Business News in Hindi और रखिये अपने आप को अप-टू-डेट