विज्ञापन
Home » Economy » PolicyAssam Budget: Govt promises 10 gram gold to Brides, free books to students till degree level

शादी करो और मुफ्त पाओ एक तोला सोना, सरकार का महिलाओं को तोहफा

स्टूडेंट्स को मुफ्त में किताबें भी देगी यह राज्य सरकार

1 of

नई दिल्ली. असम में अब शादी करने वाली लड़कियों को राज्य सरकार मुफ्त में एक तोला (10 ग्राम) सोना देगी। असम सरकार ने बुधवार को अपने बजट में यह प्रस्ताव किया है। राज्य के वित्त मंत्री हेमंत बिस्वा शर्मा ने बजट पेश करते हुए कहा कि राज्य में शादी के समय सोना दिया जाना रिवाजों में शामिल है, लिहाजा सरकार सभी समुदायों की दुल्हनों को एक तोला सोना देगी। इसलिए यह सोना उन दुल्हनों को दिया जाएगा जो ऐसे परिवारों से आती हैं जिनकी सालाना आय पांच लाख रुपए से कम है। इसके साथ ही उन्होंने गरीबों को एक रुपए प्रति किलो के हिसाब से चावल देने का भी ऐलान किया। छात्रों के लिए भी कई बड़ी घोषणाएं कीं। हेमंत शर्मा ने 1,193.04 करोड़ रुपए का घाटा बजट पेश किया।

 

महिलाओं के लिए मदद का ऐलान

सरकार ने ऐलान किया कि 45 वर्ष तक की उम्र की किसी महिला के पति की मृत्यु हो जाने पर उसे 'Immediate Family Assistance' के तहत 25,000 रुपए दिए जाएंगे। इसके अलावा महिला को 60 वर्ष की उम्र तक हर महीने 250 रुपए की मासिक पेंशन भी दी जाएगी। 60 वर्ष का हाेने पर उसे वृद्धावस्था पेंशन का लाभ मिलने लगेगा।

 

 

छात्रों को दिया तोहफा

बजट में वित्त मंत्री ने छात्रों को कई तोहफे दिए। इसमें सबसे पहले आर्ट्स, साइंस और कॉमर्स में डिग्री स्तर तक की पढ़ाई के लिए छात्रों को फ्री में किताबें देने की घोषणा की। इसके अलावा सरकारी होस्टल या प्रांतीय कॉलेज और यूनिवर्सिटी में रहकर पढ़ाई करने वाले प्रत्येक छात्र को साल में दस महीने के लिए 700 रुपए सब्सिडी देने का भी वादा किया। सरकार ने 12वीं कक्षा में फर्स्ट डिवीजन में पास हाेने वाली सभी छात्राओं को बैटरी ऑपरेटिड इलेक्ट्रिक बाइक देने का भी ऐलान किया। सरकार ने अल्पसंख्यक समुदायों की छात्राओं को स्कॉलरशिप देने के लिए 200 करोड़ रुपए का आवंटन किया है।

 

 

ANNA योजना की घोषणा की

बजट में Affordable Nutrition & Nourishment Assistance (ANNA) योलना का भी ऐलान किया गया। इसके तहत सरकार मार्च, 2019 से 53 लाख परिवारों को 1 रुपए प्रति किलो के दाम पर चावल मुहैया कराएगी। अब तक गरीब परिवारों को चावल 3 रुपए प्रति किलो के दाम पर मिलते थे। चाय के बागानों में काम करने वाले चार लाख परिवारों को मुफ्त में चावल और हर महीने दो किलो शक्कर देने का ऐलान किया।

 

 

prev
next
मनी भास्कर पर पढ़िए बिज़नेस से जुड़ी ताज़ा खबरें Business News in Hindi और रखिये अपने आप को अप-टू-डेट
विज्ञापन
विज्ञापन