Home » Economy » PolicyUttarakhand investors summit 2018 school college will digitally connect

पीएम मोदी ने उत्तराखंड को दिया नया नाम- SEZ, जानें क्या है इसका मतलब

उत्तराखंड को मिला 70 हजार करोड़ के निवेश का प्रस्ताव

1 of

नई दिल्ली। उत्तराखंड की त्रिवेंद्र रावत सरकार ने प्रदेश में पहली बार  Investors Summit का आयोजन किया। प्रदेश की राजधानी देहरादून में आयोजिन इस समिट का उद्धाटन पीएम मोदी ने किया। इस दौरान पीएम मोदी ने कहा कि अब उत्तराखंड को इंडस्ट्री का दर्जा प्राप्त हो गया है। प्रदेश के 13 जिलों को Investment के नए हब के रुप में विकसित किया जा रहा है। उन्होंने कहा कि उत्तराखंड में आर्गैनिक स्टेट बनने की क्षमता है। इस दौरान पीएम मोदी ने उत्तराखंड के लिए SEZ नाम का प्रयोग किया। जिसका मतलब Spritual Economic Zone है। इस दौरान सीएम त्रिवेंद रावत ने कहा कि समिट से पहले ही प्रदेश को 70 हजार करोड़ के निवेश का प्रस्ताव मिल चुका है। 

 

कारोबारियों को 15 दिनों में मिल सकेगा क्लीयरेंस 

उत्तराखंड सरकार को उम्मीद है कि Investment Summit के जरिए प्रदेश के फूड प्रोसेसिंग, हार्टीकल्चर और फ्लोरीकल्चर, टूरिज्म और हॉस्पिटैलिटी जैसे क्षेत्रों में 20 हजार करोड़ का निवेश आएगा। इसके लिए सरकार इनवेस्टर को सिंगल विंडो सिस्टम मुहैया कराएगी। इससे निवेश करने वाली कंपनियों को 15 दिनों में क्लीयरेंस मिल सकेगी। 

 

अगली स्लाइड में पढ़े- 

रिलायंस ने किया बड़े इनवेस्टमेंट का वादा

पीएम मोदी के अलावा समिट में देश विदेश के नेताओं और उद्योगपतियों ने शिरकत की। रिलायंस कंपनी के मालिक मुकेश अंबानी  भी वीडियो कांफ्रेंसिंग से समिट में शामिल हुए और रिलायंस की ओर से उत्तराखंड में किए जाने वाले इनवेस्टमेंट का जिक्र किया। उन्होंने कहा कि उत्तराखंड का सबसे बड़ा इनवेस्टर रिलायंस है। हमारी कंपनी ने प्रदेश में पिछले कुछ वर्षों में करीब 4 हजार करोड़ रुपए का निवेश किया है। इससे नए रोजगार पैदा हुए हैं। उन्होंने कहा कि उनकी ओर से आगे भी निवेश किया जाएगा, जिससे देवभूमि उत्तराखंड को डिजिटल दे‌वभूमि बनाया जा सकेगा। 

अगली स्लाइड में पढ़े- 

 

स्कूल कॉलेज में बढ़ेगी कनेक्टिविटी

रिलायंस के मुताबिक वो प्रदेश में टूरिज्म, हेल्थकेयर, एजूकेशन, उद्योग के क्षेत्र में निवेश करेंगे। इससे प्रदेश में रोजगार के साधन उत्पन्न होंगे। साथ ही रिलायंस की योजना प्रदेश के 2185  सरकारी स्कूल और 200 से ज्यादा कॉलेजों तक अगले दो वर्षों में कनेक्टिविटी बढ़ाने की है। इसके अंबानी ने रिटेल सेक्टर में निवेश का वादा किया गया है।  

prev
next
मनी भास्कर पर पढ़िए बिज़नेस से जुड़ी ताज़ा खबरें Business News in Hindi और रखिये अपने आप को अप-टू-डेट